Wednesday , October 18 2017
Home / District News / इदारा सियासत की तालीमी ख़िदमात क़ाबिल-ए-सताइश

इदारा सियासत की तालीमी ख़िदमात क़ाबिल-ए-सताइश

कोड़ंगल, 12 फरवरी: ज़िला परिषद गर्लज़ हाई स्कूल कोड़ंगल में दसवीं जमात की उर्दू मीडियम तालिबात में रोज़नामा सियासत के ज़ेरे एहतिमाम शाय करदा तालीमी मवाद पर मुश्तमिल किताब एस एस सी कोइसचन बेंक 2013 की रस्म इजराई तक़रीब का कामयाब इनइक़ाद अमल

कोड़ंगल, 12 फरवरी: ज़िला परिषद गर्लज़ हाई स्कूल कोड़ंगल में दसवीं जमात की उर्दू मीडियम तालिबात में रोज़नामा सियासत के ज़ेरे एहतिमाम शाय करदा तालीमी मवाद पर मुश्तमिल किताब एस एस सी कोइसचन बेंक 2013 की रस्म इजराई तक़रीब का कामयाब इनइक़ाद अमल में आया। श्रीमती शयामलमां हेड मदरसा हाज़ा ने तक़रीब की सदारत की।

नाज़िर तालीमात कोड़ंगल आर वेंकट राम रेड्डी, मुहम्मद अबदुलहक़ एम आर पी, हाफ़िज़ मुहम्मद यूसुफ़ सदर मंडल टी डी पी, हाफ़िज़ मुहम्मद नसीर अहमद सिराजी, वहीद असीर नाम निगार सियासत कोड़ंगल, सय्यद अरशद अली कादरी वगैरह ने बहैसियत मेहमानों ने ख़ुसूसी शिरकत की।

नाज़िर तालीमात वेंकट राम रेड्डी ने कोइसचन बेंक की अहमियत-ओ-अफादियत पर रोशनी डालते हुए तालिबात को मश्वरा दिया कि उस की मदद से सख़्त मेहनत करते हुए इमतियाज़ी कामयाबी हासिल करें क्योंकि मौजूदा दौर में क़ौमों की तक़दीर और उनका मुस्तक़बिल तालीम ही से वाबस्ता है।

मौसूफ़ ने तालिबात में कोइसचन बेंक तक़सीम करते हुए जनाब ज़ाहिद अली ख़ान एडीटर सियासत की तालीमी ख़िदमात की सताइश करते हुए कहा कि रोज़नामा सियासत सिर्फ़ एक अख़बारी ही नहीं बल्कि एक मिशन है। हर महाज़ पर इदारा सियासत की गिरांक़द्र ख़िदमात नाक़ाबिले फ़रामोश हैं।

इस बोहरानी दौर में जनाब ज़ाहिद अली ख़ान की फ़आल और हरकियाती शख्सियत मुल्क और क़ौम के उफ़ुक़ पर एक रोशन सितारे की तरह अपनी ताबानी बिखेर रही है। यूसुफ़ ने कहा कि तालिबात को चाहीए कि वो इस तालीमी मवाद कोइसचन बेंक से सद फ़ीसद फ़ायदा उठाएं और आज के इस दौर में सख़्त मेहनत करते हुए आला निशानात के साथ कामयाब होकर वालदैन और असातिज़ा का नाम रोशन करें।

वहीद असीर ने कहा कि जनाब ज़ाहिद अली ख़ान मिल्लत की ग़मख़्वारी, पासबानी और तर्जुमानी का हक़ अदा कर रहे हैं। इदारा सियासत की जानिब से मुनाक़िद किए जाने वाले उर्दू दानी और ज़बान दानी के इमतिहानात में हज़ारों बच्चे शिरकत कर रहे हैं। ना सिर्फ़ मुसलमान बल्कि गैर मुस्लिम अफ़राद भी उर्दू सीख रहे हैं।

मौसूफ़ ने एस एस सी कोइसचन बेंक को फ़ाल नेक क़रार दिया। शयामलमां हेड सेस ने अपनी मुख़ातिबत में उर्दू मीडियम के लिए एक अर्से से रयाज़ी दां मुअल्लिमा की अदमे मौजूदगी का इन्किशाफ़ किया जिस का नाज़िर तालीमात ने नोट लिया। रिहाना बेगम मुअल्लिमा ने जलसे की कार्रवाई चलाई। नजमा बेगम, कौसर इक़बाल और नुज़हत सुलताना वगैरह मुअल्लिमात ने इंतिज़ामात की रास्त निगरानी की।

TOPPOPULARRECENT