Wednesday , September 20 2017
Home / Technology / इन विट्रो फ़र्टिलाइज़ेशन : बच्चा कब होगा यह जानने के लिए ऑनलाइन कैलकुलेटर

इन विट्रो फ़र्टिलाइज़ेशन : बच्चा कब होगा यह जानने के लिए ऑनलाइन कैलकुलेटर

Artificial insemination

ब्रिटेन : अबरडीन विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने एक ऑनलाइन कैलकुलेटर बनाया है जिससे बच्चा होने की संभावना का पता लगाया जा सकता है और उस हिसाब से ही उपचार किया जा सकता है. आईवीएफ़ तकनीक के तहत महिला के गर्भाशय से अंडे बाहर निकाल कर प्रयोगशाला में स्पर्म से निषेचित कराकर भ्रूण बनाया जाता है. उस भ्रूण को महिला के गर्भाशय में प्रत्यारोपित कर दिया जाता है. हालांकि आईवीएफ़ तकनीक से बच्चे की उम्मीद करने वालों के लिए कैलकुलेटर पहले से ही है. पर इस कैलकुलेटर में छह बार के आईवीएफ़ चक्र के बारे में हिसाब लगाया जा सकता है.

रोगियों के लिए काम करने वाली संस्था फ़र्टिलिटी नेटवर्क यूके की मुख्य कार्यकारी सूज़न सीनन को उम्मीद है कि कैलकुलेटर की मदद से रोगियों को अधिक जानकारी मिल सकेगी और उन्हें फ़ैसले लेने में सुविधा होगी. वे आगे जोड़ती हैं- इस पर ज़ोर देना ज़रूरी है कि इस कैलकुलेटर का अलग से इस्तेमाल नहीं करना चाहिए. फ़र्टिलिटी उपचार पर विचार करने वालों को क्लीनिक वालों से ही इस बारे में बात करनी चाहिए.

जोड़े आईवीएफ़ उपचार के पहले या बाद में हिसाब लगा सकते हैं. यह इस पर निर्भर करता है कि कितने अंडे इकट्ठे किए गए, कितनों को फ्रीज़ किया गया और प्रत्यारोपित भ्रूण किस स्थिति में थे. ब्रिटेन में इस तकनीक से उपचार कराने वाले छह में से एक जोड़े को गर्भधारण करने में दिक्क़त होती है. अमूमन इस तकनीक का सहारा तब लिया जाता है जब किसी महिला के साथ अंडे निकलने, फ़ैलोपियन ट्यूब में गड़बड़ी या एंडोमेट्रियोसिस की समस्या होती है. महिलाओं में बांझपन की समस्या उम्र से भी जुड़ी हुई है. लेकिन तक़रीबन 25 फ़ीसद मामलों में गर्भधारण नहीं होने की वजह का पता नहीं लगाया जा सकता है. पुरुषों में वीर्य में खराबी बांझपन की मुख्य वजह है.

ब्रिटेन में साल 2013 तक आईवीएफ़ तकनीक से लगभग 50 लाख बच्चों का जन्म हो चुका है. अबरडीन विश्वविद्यालय के रिसर्च फ़ेलो डेविड मैकलर्नन ने ये कैलकुलेटर बनाने में चार साल लगाए. उन्होंने मानव निषेचन और भ्रूणविज्ञान प्राधिकार से आंकड़े इकट्ठे कर उस पर काम किया. उन्होंने कहा कि इस कैलकुलेटर का इस्तेमाल इस काम के लिए नहीं होना चाहिए कि आईवीएफ़ तकनीक का सहारा लिया जाए या नहीं, बल्कि इसके ज़रिए जोड़े बच्चे के लिए ख़ुद को हर तरह से तैयार रखें. मैकलर्नन ने यह भी कहा कि कैलकुलेटर का इस्तेमाल क्लीनिक वाले, पैसे देने वाले और नीतियां बनाने वाले भी कर सकते हैं.

TOPPOPULARRECENT