Wednesday , October 18 2017
Home / Islami Duniya / इरान न्यूक्लियर मुज़ाकरात के लिए तैयार

इरान न्यूक्लियर मुज़ाकरात के लिए तैयार

तेहरान, २७ जनवरी ( ए एफ पी ) इरान के सदर महमूद अहमदी नज़ाद ने आज कहा कि इरान आलमी ताक़तों के साथ मिल बैठ कर अपने न्यूकलीयर प्रोग्राम पर तबादला ख़्याल के लिए तैयार है । उन्हों ने ताहम इरान के ख़िलाफ़ आइद करदा ताज़ा तरीन मआशी तहदेदात के मुज़ि

तेहरान, २७ जनवरी ( ए एफ पी ) इरान के सदर महमूद अहमदी नज़ाद ने आज कहा कि इरान आलमी ताक़तों के साथ मिल बैठ कर अपने न्यूकलीयर प्रोग्राम पर तबादला ख़्याल के लिए तैयार है । उन्हों ने ताहम इरान के ख़िलाफ़ आइद करदा ताज़ा तरीन मआशी तहदेदात के मुज़िर असरात और नुक़्सानात का इमकान मुस्तर्द कर दिया ।

महमूद अहमदी नज़ाद का सरकारी मेडयार में ये कहते हुए हवाला दिया कि मग़रिबी ताक़तों का उज़्र यह बहाना ये है कि इरान बात चीत के अमल से कतरा रहा है लेकिन हक़ीक़त में एसा नहीं है । उन्हों ने सवाल किया कि हम बात चीत से मन क्यों मोड़ेंगे ? ।

सदर इरान मग़रिबी क़ाइदीन और सिफ़ारतकारों के इस बयान का जवाब दे रहे थे जिस में उन्हों ने इरान पर ज़ोर दिया था कि वो अपने न्यूकलीयर प्रोग्राम के ताल्लुक़ से बात चीत के लिए रजामंदी का इज़हार करे ।

योरोपी यूनीयन की ख़ारिजा पॉलीसी के सरबराह कैथरीन एश्टन ने कल कहा था कि योरोपी यूनीयन मुत्तहदा तौर पर मुतालिबा करता है कि हुकूमत इरान बात चीत की मेज़ पर आजाए और इस्तंबोल में एक साल क़बल जिन उमूर को अधूरा छोड़ दिया गया था उन पर तबादला ख़्याल किया जा सके ।

इरान और आलमी ताक़तों बर्तानिया चीन फ़्रांस जर्मनी रूस और अमेरीका के माबेन आख़िरी मर्तबा बात चीत तुर्की में जनवरी 2011 में हुई थी ताहम ये बात चीत कामयाब नहीं हो सकी थी । मिस्टर अहमदी नज़ाद ने इरान के ख़िलाफ़ मग़रिबी ताक़तों की उमा पर आइद की गई नई मआशी तहदेदात को भी मुस्तर्द कर दिया और कहा कि इन तहदेदात से इरान पर कोई असर नहीं होगा।

अहमदी नज़ाद ने कहा कि किसी ज़माने में यूरोप के साथ इरान की तिजारत 90 फीसद थी जो अब घट कर सिर्फ 10 फीसद रह गई है । हम इन दस फीसद के भी एहया-ए-पर ज़ोर नहीं दे रहे हैं। तजुर्बात ज़ाहिर कर चुके हैं कि इरानी क़ौम उन तहदेदात से मुतास्सिर नहीं होगी ।उन्होंने कहा कि गुज़शता 30 बरस से इरान से अमेरीका तेल हासिल नहीं कर रहा है ।

इरान के सेंटर्ल बैंक के अमेरीका के साथ कोई ताल्लुक़ात नहीं हैं । योरोपी यूनीयन की जानिब से इरान के ख़िलाफ़ पीर को ताज़ा तरीन तहदेदात आइद की गएं ताकि उसे न्यूकलीयर मसला पर बात चीत केलिए मजबूर किया जा सके ।

TOPPOPULARRECENT