Friday , October 20 2017
Home / India / इशरत एनकाउंटर: तहकीकात में मोदी हुकूमत की रुकावटों पर बरहमी

इशरत एनकाउंटर: तहकीकात में मोदी हुकूमत की रुकावटों पर बरहमी

अहमदाबाद, 15 जून: ( पी टी आई ,एजेसी) इशरत जहां फ़र्ज़ी एनकाउंटर मुक़द्दमा में गुजरात हाइकोर्ट की जानिब से आज मोदी हुकूमत पर सख़्त तन्क़ीद की गई और ये इल्ज़ाम आइद किया गया कि रियासती हुक्काम तहकीकात में रुकावटें पैदा की जा रही हैं। अदालत न

अहमदाबाद, 15 जून: ( पी टी आई ,एजेसी) इशरत जहां फ़र्ज़ी एनकाउंटर मुक़द्दमा में गुजरात हाइकोर्ट की जानिब से आज मोदी हुकूमत पर सख़्त तन्क़ीद की गई और ये इल्ज़ाम आइद किया गया कि रियासती हुक्काम तहकीकात में रुकावटें पैदा की जा रही हैं। अदालत ने कहा कि अगर इशरत और दूसरे दहशतगर्द भी थे तब भी किसी को उन्हें क़त्ल करने का लाईसेंस नहीं था ।

अदालत ने सी बी आई की भी सरज़निश की और कहा कि वो इन्टेलीजेंस इत्तेलाआत की हक़ीक़त का पता चलाने में बहुत ज़्यादा वक़्त ले रही है उसकी बजाय उसे एनकाउंटर की हक़ीक़त का पता चलाना चाहीए । एक जज ने समाअत के दौरान सवाल किया जब चार अफ़राद पुलिस तहवील में हलाकत होते हैं तो रियासत का रोल क्या है । क्या रियासती हुकूमत उन अफ़राद को बचाना चाहती है जिन्होंने उन्हें हलाक किया है ?

अदालत ने कहा कि ये बात समझ से बालातर है कि जब अदालत ने तहकीकात का हुक्म दिया है तो रियासती हुकूमत क्यों उसकी मुख़ालिफ़त कर रही है । जस्टिस पटेल और जस्टिस अभिलाशा कुमारी पर मुश्तमिल एक डवीज़न बेंच ने कहा कि बादियुन्नज़र ( पहली दृष्टी) में ये तासदर मिल रहा है कि सी बी आई इंटेलीजेंस की इत्तेलाआत के सही यह ग़लत होने पर तवज्जा मर्कूज़ कर रही है बजाय इस के कि वो एनकाउंटर के हक़ीक़ी या फ़र्ज़ी होने का पता चलाए ।

अदालत ने कहा कि ऐसा लगता है कि एक माह में एजेंसी ने सिर्फ़ ये पता चलाने पर तवज्जा मर्कूज़ की है कि जो लोग मरे वो दहशतगर्द थे या नहीं अदालत को इस बात से कोई मतलब नहीं है कि वो आम शहरी थे या दहशतगर्द थे । किसी भी हाल में उन्हें इस तरह से हलाक नहीं किया जा सकता । अदालत ने एजेंसी से कहा कि आप को ये पता चलाए की ज़िम्मेदारी सौंपी गई है कि एनकांटर हक़ीक़ी था या फ़र्ज़ी था और आया ये सब लोग हलाकत से क़ब्ल गुजरात पुलिस की तहवील में थे या नहीं ।

अदालत ने सी बी आई से कहा कि वो वज़ाहत करे कि इसने 90 दिन के अंदर चार्जशीट क्यों पेश नहीं की है जिस पर सी बी आई ने जवाब दिया कि ये एक बड़ी साज़िश का मुक़द्दमा है । सी बी आई की ताख़ीर के नतीजा में पाँच पुलिस ओहदेदारों बिशमोल आई पी एस जी एल सिंघल को ज़मानत मिल गई है ।

सी बी आई ने कहा कि वो माह जुलाई के पहले हफ़्ते तक चार्जशीट पेश कर देगी । ताहम अदालत ने कहा कि उसे शुबा है कि सी बी आई जुलाई के दूसरे हफ़्ते तक भी चार्जशीट पेश करेगी या नहीं।

इस दौरान सी बी आई ज़राए ने कहा कि इसके पास सी बी आई के स्पेशल डायरेक्टर के रोल पर उसकी तहकीकात सिर्फ़ इंटेलीजेंस की इत्तेलाआत तक महिदूद ( Limit/ सिमित) नहीं है बल्कि उनके रोल का अहाता करेगा । ज़राए का कहना है कि एजेंसी स्पेशल डायरेक्टर राजेंद्र कुमार से दुबारा पूछताछ करना चाहती है ।

TOPPOPULARRECENT