Sunday , October 22 2017
Home / India / इशरत जहां के क़त्ल पर नरेंद्र मोदी की मज़म्मत

इशरत जहां के क़त्ल पर नरेंद्र मोदी की मज़म्मत

थाने 21 मई ( पी टी आई ) मुंब्रा की रहने वाली इशरत जहां के 2004 में एक जाली एनकाउंटर में हलाक किए जाने पर नरेंद्र मोदी को मज़म्मत का निशाना बनाते हुए मर्कज़ी वज़ीर-ए-ज़राअत शरद यादव ने कहा कि चीफ़ मिनिस्टर और गुजरात पुलिस ने एक बेक़सूर कॉलेज क

थाने 21 मई ( पी टी आई ) मुंब्रा की रहने वाली इशरत जहां के 2004 में एक जाली एनकाउंटर में हलाक किए जाने पर नरेंद्र मोदी को मज़म्मत का निशाना बनाते हुए मर्कज़ी वज़ीर-ए-ज़राअत शरद यादव ने कहा कि चीफ़ मिनिस्टर और गुजरात पुलिस ने एक बेक़सूर कॉलेज की तालिबा को दहश्तगर्द क़रार देते हुए इसका क़त्ल कर दिया है ।

मोदी ने उस वक़्त ऐलान किया था कि उन्हें अपनी पुलिस फ़ोर्स के हाथों दहश्तगरदों की हलाकत पर फ़ख़र है । उन्होंने शेखी बगारी थी कि ये एनकाउंटर गुजरात पुलिस की शान-ओ-शौकत में मज़ीद इज़ाफ़ा करचुका है जबकि मुंबई पुलिस अपने फ़रीज़ा की अदायगी से क़ासिर रही थी ।उन्होंने कहा कि इशरत जहां बेक़सूर थी लेकिन उसे दहश्तगर्द क़रार दे दिया गया अब इस वाक़िया का भूत हुकूमत गुजरात का पीछा कर रहा है ।

रुकन असेम्बली जेतिंदर ओहद ने उसकी ज़िम्मेदारी सँभाल ली थी और उन्होंने इशरत जहां को बेक़सूर साबित करने के लिए तवील क़ानूनी जंग लड़ी और गुजरात पुलिस को बेनकाब कर दिया । 15 जून 2004 को 4 अफ़राद 19 साला इशरत जहां ,जावेद शेख़ उर्फ़ प्रणेश प्ले ,अमजद अली अकबर अली राना और ज़ीशान जौहर अहमदाबाद के मुज़ाफ़ात में एक एनकाउंटर में हलाक कर दिए गए थे ।

गुजरात पुलिस का दावा है कि वो दहश्तगर्द थे जो मोदी को क़त्ल करने के लिए अहमदाबाद आए थे । मुंब्रा में एक जल्सा-ए-आम से ख़िताब करते हुए शरद पवार ने हुकूमत महाराष्ट्रा से अपील की कि वो सनअती इलाक़ों में बर्क़ी सरबराही मुनक़िद‌ करने का सिलसिला तर्क करदें ताकि ये इलाक़ा बेहतर हो सके ।

पवार ने सवाल किया कि चंद अफ़राद के लिए जो घिनोनी सरगर्मीयों में शामिल‌ हो रहे हैं आख़िर दूसरे क्यों मुसीबतें उठाएं । मर्कज़ी वज़ीर-ए-ज़राअत ने कहा कि मुंब्रा कभी हर किस्म के ग़ैर समाजी सरगर्मीयों और मुजरिमाना अनासिर की महफ़ूज़ पनाहगाह था जो यहां पनाह लेना चाहते थे लेकिन अब सूरत-ए-हाल तबदील हो चुकी है । चुनांचे हुकूमत और समाज को अपना नुक़्ता-ए-नज़र उस सनअती इलाक़े के बारे में तबदील करना चाहीए जहां इन्क़िलाबी इस्लाही तबदीलीयां आरही हैं ।

मुस्लमानों के मुस्तहकम गढ़ में 2014 के आम इंतेख़ाबात से क़बल एन सी पी की ताईद करने पर शरद पवार ने अवाम का शुक्रिया अदा किया और तयक़ून‌ दिया कि वो इस इलाक़े की तरक़्क़ी के ज़रीया राय दहनदों के लिए काम करना जारी रखेंगे । उन्होंने कहा कि अवाम और एन सी पी के नुमाइंदा जिन्हें अवाम ने मुंतख़ब किया है आइन्दा भी उनकी ख़िदमत करते रहेंगे । उन्होंने कहा कि क़स्बे में एक असरी मस्लख़ और मछली बाज़ार क़ायम किया जाएगा।

TOPPOPULARRECENT