Friday , August 18 2017
Home / Entertainment / देखें : इस्लमा क़ुबूल करने वाले सिंगर का गाना, “you are not alone” अभियान की शुरूआत

देखें : इस्लमा क़ुबूल करने वाले सिंगर का गाना, “you are not alone” अभियान की शुरूआत

लन्दन: इस्लाम स्वीकार करने वाले ब्रिटिश गायक और गीतकार यूसुफ इस्लाम जो ‘केट स्टीवन्स’ के नाम से भी जाने जाते हैं, ने यूरोप में आने वाले प्रवासी बच्चों के भाग्य को उजागर करने के लिए शुक्रवार से एक अभियान शुरू किया है।

 

यूसुफ इस्लाम की इस मुहिम की शुरुआत उनके एक नए एकल गीत जारी करने से हुआ है और उन्होंने एक चैरिटी या धर्मार्थ कॉन्सर्ट की योजना की भी घोषणा की है।

यूसुफ इस्लाम के इस नए गीत का शीर्षक है He Was Alone और इस गीत को एक वीडियो के साथ जारी किया गया है। इस वीडियो में एक लड़के को दिखाया गया है जो अपने परिवार से वंचित हो चुका है। यह लड़का एक सड़क दुर्घटना में अनततकाल चला जाता है और मृत्यु के बाद उसके पास से एक पत्थर निर्यात होता है जिस पर अरबी का एक शब्द ‘पुत्र’ यानी बेटा लिखा होता है।

बाल कल्याण संस्था सेव द चिल्ड्रन के अनुमान के अनुसार पिछले साल अपने बलबूते पर यूरोप आने और इस कठिन यात्रा के दौरान अपने परिवार से वंचित हो जाने वाले प्रवासी और प्रवासी बच्चों की संख्या 95 हजार है।

67 वर्षीय यूसुफ इस्लाम जो 60 और 70 के दशक में अपने गीत ‘चंद्रमा छाया’ और वाइल्ड वर्ल्ड ‘के कारण असामान्य रूप से लोकप्रिय हुए थे, का कहना है कि यूरोपीय आने वाले प्रवासियों की समस्याओं और संकट के साथ उनकी प्रतिबद्धता के कारण संकट ग्रस्त अरब सीरिया के निकट दक्षिण तुर्की के सीमावर्ती क्षेत्र में स्थापित प्रवासी शिविर का उनका दौरा बना। वह कहते हैं, कि ” इतने बड़े मानव संकट से ग्रस्त मनुष्य मूकदर्शक बने देखते रहें और उनके लिए कुछ न करना मेरे लिए बहुत मुश्किल था। ”

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

यूसुफ इस्लाम इन प्रवासी बच्चों के लिए कुछ करना चाहते हैं। अपनी इस अभियान के बारे में वे कहते हैं, कि ” दुनिया भर के इंसानों के दिलों की खिड़की खोलना चाहता हूं ताकि वे अनंत प्रवासी बच्चों के ग़म व अलम महसूस कर सकें, इन कमसिन बच्चों के दुखों को जानें जिनकी आवाज नहीं सुनी जातीं। युद्ध और संकट के कारण पैदा होने वाले शरणार्थियों के संकट से पीड़ित इस बच्चे को अपने साथी से दूर हुआ लौ दार झोंकों से लड़ रहे हैं। ”

युसूफ ने 1977 में इस्लाम स्वीकार कर लिया था और तब से वह यूसुफ इस्लाम कहलाते हैं। उन्होंने इस्लाम में दाखिल होते ही संगीत को छोड़ दिया था। वह करीब 30 साल से संगीत उद्योग से दूर हो चुके हैं। उनका गीत He Was Alone और 14 जून को लंदन में होने वाले कॉन्सर्ट उनकी इस व्यापक अभियान का हिस्सा हैं, जो यूसुफ इस्लाम ने you are not alone नाम से यूरोप आने वाले प्रवासी बच्चों के लिए शुरू की है।

यूसुफ इस्लाम ने सन 2000 में एक कल्याणकारी अभियान small kindness के नाम से शुरू की थी, जिसका उद्देश्य दुनिया भर में मानवीय सहायता या मानवीय सहायता की आपूर्ति था और इस अभियान में चैरिटी सेव द चिल्ड्रेन और Penny Appeal मिलकर प्रवासी बच्चों के लिए कोष प्रस्तुत कर रहे हैं।

यूसुफ इस्लाम जो अब दुबई में जीवन व्यतीत कर रहे हैं, का कहना है, ” मैं अपनी आवाज के माध्यम से दुनिया भर में मनुष्य को जागरूक करने की कोशिश की है कि वे प्रत्येक प्रवासी, विशेष रूप से प्रवासी बच्चों को अपने दिल और दरवाजे खोलें। यह प्रवासी बच्चे अपने इस भविष्य से निराश और ना मुराद हो चुके हैं जिसका सपना शायद उन्होंने कभी देखा होगा। ”

TOPPOPULARRECENT