Thursday , June 29 2017
Home / International / इस्लामोफोबिया: फ़्रांस की पुलिस ने रुकवाई अरबी भाषा की पढाई

इस्लामोफोबिया: फ़्रांस की पुलिस ने रुकवाई अरबी भाषा की पढाई

फ्रेंच परिषद ने एक प्राथमिक स्कूल के लिए अपने छात्रों के लिए वैकल्पिक अरबी कक्षाओं की पेशकश करने पर अपना असंतोष ज़ाहिर करने के लिए दो बार पुलिस को भेजा है।

एक स्थानीय समाचार आउटलेट ला चाइने इन्फो के मुताबिक, “सिक्स-फोर-लेस-प्लागेस के उप महापौर ने पुष्टि की कि अधिकारियों को नवंबर में रेनिएर प्राथमिक स्कूल में दो बार महापौर के इन कक्षाओं के खिलाफ होने के बारे में सूचित करने के लिए कहा था”।

“अधिकारीयों को इस बात की चिंता थी कि स्कूल के घंटों से बाहर लगायी जा रही इन कक्षाओं से दक्षिणी फ्रांस के वार जिले में स्थानीय परिषद सहमत नहीं था”, जीन सेबेस्टियन विअलात्ते ने एलसीआई को बताया।

यह मामला बुधवार को परिषद् द्वारा कक्षाओं को रोकने के लिए दायर एक असफल कानूनी सूट के दस्तावेजों को एक फ़्रांसिसी वकील के द्वारा साझा करने के बाद प्रकाश में आया था।

सितंबर में, स्कूल के छात्रों से एक के माता पिता द्वारा सोशल मीडिया पर कक्षाएं के अनिवार्य होने के झूठे दावे के बाद फ्रांस में गुस्सा बढ़ गया था।

फ्रांस के स्कूलों में मुस्लिम बच्चों द्वारा स्कार्फ पहनने पर और जनता में पूरे चेहरा पर पर्दा पहनने पर प्रतिबंध लगाया जा चुका है।

कुछ स्कूलों ने पोर्क-रहित भोजन के विकल्प को भी ख़तम कर दिया था जिसको अक्सर मुस्लिम बच्चे चुनते थे।

फ्रांस की सरकार ने देश की धर्मनिरपेक्षता को बनाए रखने के लिए इन कदमों को उठाने का दावा किया है।

फ्रेंच मुस्लिम कार्यकर्ता यासर लौती ने सिक्स-फोर-लेस-प्लागेस में घटना को एक “राज्य प्रायोजित नस्लवाद” की घटना बताया है।

“पुलिस को भेज कर यह सुनश्चित करना कि अरबी की कक्षा न हो यह दर्शाता है कि सरकारी संस्थानों में अरबों के लिए कितनी नफरत है,” यासर लौती ने कहा।

“2015 में हमारे पास ऐसे मामले भी आये थे जिनमें प्राथमिक स्कूल के बच्चों को अपमानित किया गया था, उन पर अत्याचार किया गया था और कई बार शिक्षकों द्वारा उन्हें पुलिस के पास भी ले जाया गया था।”

यासर का कहना है कि वरिष्ठ अधिकारीयों ने इस तरह के मामलों पर लगाम लगाने के लिए ज्यादा कुछ नहीं किया है बल्कि अक्सर वे इस तरह के अत्याचार को बढ़ावा देते हुए पाए जाते हैं।

“फ़्रांसिसी मुसलमानों और अन्य न्यायप्रिय नागरिकों को एक साथ आकर निर्णय निर्माताओं के साथ सत्ता के संघर्ष में शामिल होने की ज़रूरत है, इन दुखद घटनाओं से निजात पाने का यही एक मात्र उपाय है,” यासर ने कहा।

Top Stories

TOPPOPULARRECENT