Sunday , October 22 2017
Home / India / इस्लाम के बगै़र अमन नामुमकिन : गिलानी

इस्लाम के बगै़र अमन नामुमकिन : गिलानी

श्रीनगर २४ नवंबर (एजैंसीज़) हुर्रियत कान्फ़्रैंस सख़्त गीर ग्रुप के चेयरमैन सय्यद अली शाह गिलानी ने आज हुकमरानों पर इल्ज़ाम आइद किया कि वो समाज पर बद अख़लाक़ियों को मुसल्लत कर रहे हैं।

श्रीनगर २४ नवंबर (एजैंसीज़) हुर्रियत कान्फ़्रैंस सख़्त गीर ग्रुप के चेयरमैन सय्यद अली शाह गिलानी ने आज हुकमरानों पर इल्ज़ाम आइद किया कि वो समाज पर बद अख़लाक़ियों को मुसल्लत कर रहे हैं।

उन्हों ने कहा कि अगर कोई ये कहता है कि इस्लाम और सियासत मुख़्तलिफ़ हैं तो वो मुस्लमान नहीं हैं।

इस्लाम के बगै़र अमन नामुमकिन है। यहां पर एक समीनार से ख़िताब करते हुए गिलानी ने कहा कि वादी कश्मीर में हाल ही में कई मुस्लमानों को मज़हब ईसाईयत में शामिल करने की मुहिम चलाई गई है। हुकमरान तबक़ा मज़हबी मुक़ामात को अवाम के बेवक़ूफ़ बनाने केलिए इस्तिमाल करता है।

उन्हों ने वक़्फ़ जायदादों के ग़लत इस्तिमाल का भी सवाल उठाया। ये वक़्फ़ बोर्ड इस्लाम की जायदादों की देख भाल के लिए करोड़ों रुपय अतयात वसूल करता है, लेकिन ये बोर्ड हुकमरानों के तहत काम करके अपने फ़राइज़ से पहलूतही कर रहा है।

TOPPOPULARRECENT