Saturday , October 21 2017
Home / World / ईरानी न्यूक्लियर प्रोग्राम: 24 नवंबर तक मुआहिदा का इमकान कम

ईरानी न्यूक्लियर प्रोग्राम: 24 नवंबर तक मुआहिदा का इमकान कम

अमरीकी और बर्तानवी हुक्काम ने ईरान के मुतनाज़ा न्यूक्लियर प्रोग्राम के हवाले से मुक़र्ररा कर्दा क़तई मोहलत के मुताबिक़ 24 नवंबर तक हतमी मुआहिदा ना हो पाने का अंदेशा ज़ाहिर किया है। अमरीका में क़ौमी सलामती के मुशीर टोनी बल्नेकन ने अमर

अमरीकी और बर्तानवी हुक्काम ने ईरान के मुतनाज़ा न्यूक्लियर प्रोग्राम के हवाले से मुक़र्ररा कर्दा क़तई मोहलत के मुताबिक़ 24 नवंबर तक हतमी मुआहिदा ना हो पाने का अंदेशा ज़ाहिर किया है। अमरीका में क़ौमी सलामती के मुशीर टोनी बल्नेकन ने अमरीकी क़ानून साज़ों को बताया है कि ये मुश्किल नज़र आ रहा है कि हतमी जौहरी मुआहिदा डेडलाइन ख़त्म होने तक मुम्किन हो सके।

उन्हों ने कहा, ठीक इस वक़्त ये मुश्किल लग रहा है कि जहां हम पहुंचना चाहते हैं वहां तक पहुंच सकें लेकिन ये नामुमकिन नहीं है। वाज़ेह रहे कि टोनी बल्नेकन को सदर ओबामा ने अमरीका के नायब वज़ीरे ख़ारजा के मंसब के लिए नामज़द किया है और वो उसी हैसियत से कांग्रेस के अरकान के सामने सवालों के जवाब दे रहे थे।

ईरान के साथ दुनिया की छः बड़ी ताक़तों के इस हस्सास मौज़ू पर मुज़ाकरात का आग़ाज़ पिछले साल हुआ था। इबतिदाई तौर पर 24 नवंबर 2013 को एक इबतिदाई जौहरी मुआहिदा तय पा गया था।

हैमंड के बाक़ौल वो उम्मीद करते हैं कि मुज़ाकरात के इस ताज़ा दौर में डेडलाइन से क़ब्ल कम अज़ कम इतनी पेशरफ़्त हो जाए कि तवीलुल मुद्दती मुआहिदा तय करने के लिए इज़ाफ़ी वक़्त दिए जाने का कोई जवाज़ बन सके।

TOPPOPULARRECENT