Thursday , July 27 2017
Home / International / ईसाइयों के ईस्टर उत्सव पर चर्चों की रक्षा के लिए तैनात रहे मुस्लिम युवक

ईसाइयों के ईस्टर उत्सव पर चर्चों की रक्षा के लिए तैनात रहे मुस्लिम युवक

अम्मान। जॉर्डन के युवा मुस्लिमों ने ईसाइयों के ईस्टर उत्सव पर पूरे राज्य में चर्चों की रक्षा करने की अनूठी पहल का आगाज किया। यह पहल ने पिछले हफ्ते मिस्र में दो चर्चों पर हुए हमले के मद्देनज़र की गई थी। मिस्र के तंता और अलेक्जेंड्रिया में दो कॉप्टिक चर्चों पर हमलों ने 44 लोगों की मौत हो गई और 100 से ज्यादा घायल हो गए थे जिनमें कई बच्चे भी थे।

 

 

 

काज़ेम खराब्शे ने कहा कि रविवार को ईस्टर उत्सव पर हमारे भाई-बहन चर्चों में होंगे और अतिवादी धमकी दे रहे हैं ऐसे में मेरे मुस्लिम मित्र इन चर्चों और लोगों की रक्षा करेंगे। वे बार-बार राज्य की सुरक्षा के खिलाफ खतरों के बयान जारी कर रहे हैं। बलका निवासी फैज रुकिइडी ने कहा कि सतर्कता का कार्य जॉर्डनियों की एकता को रेखांकित करने और हर किसी को अपने धर्म की पूजा बिना डर के करने के किये है।

 

 

 

 

मादाबा में हज़ेम अल फौकहाह ने कहा कि कई मुस्लिम को चर्च के सामने गार्ड के रूप में तैनात किया गया ताकि वे ईसाइयों की सुरक्षा सुनिश्चित कर सकें। अजलुन के कार्यकर्ताओं ने जॉर्डन में सद्भाव और सौहार्दपूर्णता को दुनिया को दिखाने के लिए यह कदम उठाया है और ऐसा कर आदर्श प्रस्तुत करने का प्रयास किया।

 

 

 
अम्मान के निवासी हला सादी ने जॉर्डन टाइम्स को बताया कि हम एक छोटे से देश में रहते हैं और हम सभी को यहां जानते हैं। कई सुरक्षा चौकियों को देश के कुछ चर्चों के द्वार पर स्थापित किया गया जिससे कि उपासकों की सुरक्षा सुनिश्चित की जा सके।

 

 

अम्मान स्थित कैथोलिक केंद्र फॉर स्टडीज और मीडिया के पिता रफ़ाट बैडर ने कहा कि चर्च गेट्स पर चेक पॉइंट्स स्थापित करना केवल सुरक्षाकर्मियों की मदद करने के लिए एक सामान्य उपाय है जो हर धार्मिक अवसर पर हमेशा मौजूद होते हैं।

TOPPOPULARRECENT