Tuesday , August 22 2017
Home / India / उमर नास्तिक है और उन्होंने देश के ख़िलाफ़ कोई कार्य नही किया-मरयम फातिमा (उमर की बहन )

उमर नास्तिक है और उन्होंने देश के ख़िलाफ़ कोई कार्य नही किया-मरयम फातिमा (उमर की बहन )

Catch news image

JNU मे अफज़ल गुरु के लिए प्रोग्राम आयोजित करने वाले उमर खालिद को मुख्य आरोपी बताया जा रहा है ,मरयम फातिमा जोकि अपनी चारो बहनों और उमर से बड़ी है और US की एक यूनिवर्सिटी से Ph.D. भी कर रही ,ने मेल से अंग्रेजी अखबार हिन्दू के लिए पीटर ग्रिफ्फिन द्वारा पूछे गये सवालो पे अपना ज़वाब दिया .

आप के परिवार को धमकी मिल रही है .आप बता सकती है किस प्रकार और कैसे धमकिया आप को दी गयी है ?

पिछले हफ़्ते टाइम्स नाउ और zee news पर डिबेट पे मेरे परिवार ने कन्हैया की गिरफ़्तारी पे विरोध किया .मेरी बहनों ने यू ट्यूब पे अपने भाई के राजनैतिक विचारधारा पे सम्बन्ध में सफ़ाई दी .उसके बाद हमारे परिवार की महिलाओ पे एसिड और रेप करने जैसे धमिकियो का सामना करना पड रहा है .सोसल मीडिया पे कमेंट करके धमकिय दी गयी ,दिल्ली में भीड़ को प्रदर्शन करते हमने देखा जो कि उमर खालिद के लिए मौत चाहती थी उनके हाथ में पोस्टर थे जिसमे उमर के लिए फासी लिखी थी .

क्या आप उमर की राजनैतिक विचारधारा को जानती है ? उसके बारे में कहा जा रहा है वो नास्तिक है ,क्या उसने इस बारे में अपने परिवार में कभी बात की है .?
हा , हमारा परिवार जानता है वो कम्निस्ट है और शुरुआत से यानी कम उम्र में नास्तिक हो गये .इस बात से हमारे परिवार में टकराव भी हुआ है लेकिन हम सच्चाई से इनकार नही कर सकते है .हमारे परिवार में अलग अलग सोच है जिससे हमारे माता पिता हमेशा परेशां रहे है हमारे माता पिता मुस्लिम धर्म में विश्वास रखते है उमर नास्तिक है लेकिन वो हमारे परिवार का हिस्सा है मेरे पिता ने NEWS24 को बातचीत में इस बात को खुद भी बताया .

उमर के बारे में कहा जाता है कि वो पुरे देश में अफज़ल गुरी के लिए कार्यक्रम करवाना चाहता है और वो देश का बटवारा चाहता था इन सब के बारे आप के पास सुचना है ?आप की इस पर क्या प्रतिक्रिया है ?

9 फ़रवरी को कैंपस में ठीक उसी तरह प्रोग्राम कर रहे थे जिसके लिए JNU मशहूर है .पोस्टर में लिखा था छात्र सांकृतिक कार्यकर्म द्वारा विरोध प्रदर्शन करेंगे .जहाँ पे कुछ देश विरोधी नारे भी लगे जैसे’ भारत की बर्बादी ‘ और ‘टुकड़े ‘ जोकि ABVP के छात्रों ने साजिशन लगाये थे जिसको कार्यक्रम आयोजित करने वालो ने अनसुना कर दिया .जहाँ तक अफज़ल गुरु की बात की जाये फासी की सज़ा को चुनौती देना कहा से गलत था ,क़ानूनी जानकारों ने लाखो बार देश द्रोह में फासी की सज़ा पे विरोध किया है .

उमर क्यों छुप गये है ?

हम नही जानते है उमर क्यों छुप गये है . अर्नब गोस्वामी के साथ डिबेट के बाद हमारा उनसे संपर्क नही हुआ है हम उनकी सुरक्षा को लेके चिंचित है

(इंटरव्यू अंग्रेजी अखबार हिन्दू के इंग्लिश वर्जन का हिंदी रूपांतरण है )

साभार -HEADLINE24.IN

TOPPOPULARRECENT