Monday , October 23 2017
Home / Hyderabad News / उर्दू के ज़रीए तालीम तरक़्क़ी में रुकावट नहीं तलबा सलाहियतों को मनवाएं

उर्दू के ज़रीए तालीम तरक़्क़ी में रुकावट नहीं तलबा सलाहियतों को मनवाएं

हैदराबाद 4 मार्च (सियासत न्यूज़) तलबा अपनी सलाहीयतों में इज़ाफ़ा करके अपनी सलाहीयतों का लोहा मनवाएं। जब तक तलबा अपनी सलाहीयतों को उजागर कर के दुनिया के सामने पेश नहीं करेंगे उस वक़्त तक वो अपनी मुनफ़रद शनाख़्त नहीं बना सकते। किसी

हैदराबाद 4 मार्च (सियासत न्यूज़) तलबा अपनी सलाहीयतों में इज़ाफ़ा करके अपनी सलाहीयतों का लोहा मनवाएं। जब तक तलबा अपनी सलाहीयतों को उजागर कर के दुनिया के सामने पेश नहीं करेंगे उस वक़्त तक वो अपनी मुनफ़रद शनाख़्त नहीं बना सकते। किसी भी ज़बान के तालीम याफ्ता हो उन्हें कोई रुकावट नहीं होती बशर्त के वो अपने मज़मून में माहिर हों।

उर्दू एकेडमी जद्दा की एस एस सी उर्दू मीडियम में आला निशानात से कामयाबी हासिल करने वाले तलबा बेहतरीन असातिज़ा और सदर मुदर्रिसीन को एवार्ड तक़रीब से ख़िताब में मेहमानों ने इन ख़्यालात का इज़हार किया। प्रोफ़ेसर मुहम्मद अकबर अली ख़ान वाइस चांसलर तेलंगाना यूनीवर्सिटी ने बताया कि उर्दू के ज़रीए तालीम तरक़्क़ी में रुकावट नहीं है।

उन्हों ने कहा कि जब उर्दू के ज़रीए तालीम रखने वाले तलबा अपनी महारतों को दुनिया के सामने पेश करते हैं तो उन की एहमीयत को भी दुनिया क़बूल करने पर मजबूर हो जाती है। मेहमानों ने उर्दू एकेडमी जद्दा की ख़िदमात की सराहना करते हुए कहा कि ख़ानगी इदारों की जानिब से इस तरह की हौसला अफ़्ज़ाई की कोशिशें उर्दू की बक़ा में कलीदी किरदार अदा कर रही हैं।

इजलास का आग़ाज़ करअत कलाम पाक से हुआ और जनाब ग़ुलाम आसिफ़ समदानी सरपरस्त आला उर्दू एकेडमी जद्दा ने ख़ुतबा इस्तक़बालीया पेश करते हुए उर्दू एकेडमी जद्दा की सरगर्मीयों से वाक़िफ़ करवाया। जनाब सैयद जमाल उल्लाह कादरी सदर उर्दू एकेडमी जद्दा ने बताया कि एकेडमी का मक़सद तलबा की हौसला अफ़्ज़ाई और उन में तालीमी रुजहान बढ़ाना है।

उन्हों ने बताया कि एकेडमी की सरगर्मीयों से कई लोग मुतास्सिर हो रहे हैं और अपने तौर पर तलबा की हौसला अफ़्ज़ाई की कोशिशें भी की जा रही हैं। उन्हों ने कहा कि मर्कज़ी हुकूमत ने एकेडमी की ही तवज्जा दहानी पर मुजाहिद आज़ादी मौलाना अबूल कलाम आज़ाद की यौम पैदाइश पर 11 नवंबर को यौम तालीम के तौर पर मनाने का फ़ैसला किया है जो कि एकेडमी की बड़ी कामयाबी है। जनाब आबिद सिद्दीक़ी ने निज़ामत के फ़राइज़ अंजाम दिए।

TOPPOPULARRECENT