Monday , October 23 2017
Home / District News / उर्दू के साथ अंग्रेज़ी और तलगो में महारत हासिल करने पर ज़ोर

उर्दू के साथ अंग्रेज़ी और तलगो में महारत हासिल करने पर ज़ोर

ज़हीराबाद, १४ जनवरी ( सियासत डिस्ट्रिक्ट न्यूज़) रुकन एगज़ीक्यूटीव कौंसल उस्मानिया यूनीवर्सिटी-ओ-सदर ए पी यू ड्ब्लू जय ज़िला ,मेदक जनाब अबदुलक़ादिर फ़ैसल ने कहा कि मादरी ज़बान को नजरअंदाज़ कर के सिर्फ अंग्रेज़ी ज़बान में तालीम हासिल क

ज़हीराबाद, १४ जनवरी ( सियासत डिस्ट्रिक्ट न्यूज़) रुकन एगज़ीक्यूटीव कौंसल उस्मानिया यूनीवर्सिटी-ओ-सदर ए पी यू ड्ब्लू जय ज़िला ,मेदक जनाब अबदुलक़ादिर फ़ैसल ने कहा कि मादरी ज़बान को नजरअंदाज़ कर के सिर्फ अंग्रेज़ी ज़बान में तालीम हासिल करना कमाल नहीं है|

बल्कि मादरी ज़बान के साथ साथ अंग्रेज़ी और इलाक़ाई ज़बान तलगो भी जानना अज़ हद ज़रूरी है । जनाब फ़ैसल कल यहां यूनाइटेड फंक्शन हाल में रोज़नामा सियासत के शाय करदा एस एससी क्योशचन बैंक बराए 2012 की तक़सीम के सिलसिला में मुनाक़िदा तक़रीब के शुरका को मुख़ातब कर रहे थे ।

उन्हों ने कहा कि मादरी ज़बान में तालीम हासिल करने की एहमीयत को आलमी सतह पर तस्लीम किया गया है जिस की पुरज़ोर वकालत अक़वाम-ए-मुत्तहिदा के इदारा यूनिसेफ ने भी की है । उन्हों ने कहा कि चीन और जापान जैसे इंतिहाई तरक़्क़ी याफ़ता ममालिक में भी मादरी ज़बानों में हुसूल-ए-ताअलीम को लाज़िमी क़रार दिया गया है जब कि हिंदूस्तान में इस तरह के कोई इक़दामात नहीं किए गए थे ।

उन्हों ने उर्दू मीडियम से तालीम हासिल करने वाले तलबा-ए-को एहसास कमतरी में मुबतला हुए बगै़र उर्दू के साथ साथ अंग्रेज़ी और तेलगू ज़बानों में भी महारत हासिल करने की ज़रूरत पर ज़ोर दिया । इस हक़ीक़त से इनकार नहीं किया जा सकता कि हुकूमती सतह पर उर्दू मीडियम के साथ मुतासबाना रवैय्या इख़तियार किया गया है जिस के ख़िलाफ़ हमें मुत्तहदा जद्द-ओ-जहद करनी होगी ।

उन्हों ने ज़िला मीदक में 29 हज़ार तलबा-ए-उर्दू मीडियम से तालीम हासिल करने का इन्किशाफ़ किया है । ज़िला मेदक केलिए 167 स्कूल अस्सिटैंट और 187 ऐस जी टी जायदादों की ज़रूरत है ।

उन्हों ने कहा कि रोज़नामा सियासत एक अख़बार ही नहीं बल्कि एक मिशन है जो कि गुज़शता 64 बरसों से मुस्लमानों की हमा जहती तरक़्क़ी के लिए बेलौस ख़िदमात अंजाम दे रहा है । उन्हों ने रोज़नामा सियासत की सहाफ़ती समाजी मेलो और तालीमी ख़िदमात पर तालीमी रोशनी डालते हुए तलबा-ए-को असातिज़ा की
रहनुमाई में इमतेहान की तैयारी करने की ज़रूरत उजागर की ।

उन्होंने जनाब सय्यद मुनीर जर्नलिस्ट की तालीमी सरगर्मीयों की भी सताइश की । जनाब निज़ाम उद्दीन ग़ौरी सदर मुदर्रिस गर्वनमैंट हाई स्कूल ज़हीरा बाद ने कहा कि किसी भी क़ौम-ओ-मुल़्क की तरक़्क़ी का इन्हिसार तलबा-ए-पर है । वो क़ौम उस वक़्त तक ताक़तवर नहीं होसकती जब तक कि इस क़ौम में डॉक्टर्स इंजनीयर्स आई ए एस ऑफीसर्स बनने की सलाहीयत पैदा ना हो ।

जनाब अबदुल सत्तार मुदर्रिस ने कहा कि नौजवान क़ौम की रीढ़ की हड्डी होती है । जनाब मुहम्मद अबदुलसमी ऐडवोकेट ने ज़हीराबाद के मुख़्तलिफ़ मदारिस की दसवीं जमातों में ज़ेर-ए-तालीम तलबा-ए-केलिए रोज़नामा सियासत की जानिब से फ़राहम किए गए Question Bank को कामयाबी का ज़ामिन क़रार दिया । जनाब मुहम्मद शफ़ी अहमद डी आर पी ने कहा कि रोज़नामा सियासत की जानिब से जो मवाद फ़राहम किया जा रहा है वो बहुत कारआमद है और इस से तलबा-ए-तालिबात को बहुत फ़ायदा हो रहा है ।

क़बल अज़ीं हाफ़िज़ मुहम्मद ख़लील की तिलावत कलाम पाक से तक़रीब का आग़ाज़ हुआ । तलबा-ए-मुहम्मद आदिल हुसैन और अबदुर्रहमान ने बारगाह रिसालत मआब सलाम में हदया नाअत पेश किया । तालिबात तज़ईन बेगम प्रवीन बेगम और अफ़्शां बेगम ने तराना हिन्दी पेश कर के समां बांध दिया ।

ख़्वाजा ग़रीबनवाज़ वेलफेयर सोसाइटी शाख़ ज़हीराबाद के ओहदेदारान मसरज़ मुहम्मद इफ़्तेख़ार मुहम्मद रफ़ी
तैयब अली अहमद सिद्दीक़ी के इलावा असातिज़ा ने भी जनाब क़ादिर फ़ैसल की गुलपोशी की । इस मौक़ा पर मुस्तक़र ज़हीराबाद के इलावा मवाज़आत शीख़ापोर अलचलमा असद गंज के हाई स्कूल में ज़ेर-ए-तालीम ज़ाइद अज़ 500तलबा में Question Bank तक़सीम किए गए ।

जनाब सय्यद मुनीर जर्नलिस्ट के इज़हार-ए-तशक्कुर पर तक़रीब इख़तेताम पज़ीर हुई |

TOPPOPULARRECENT