Thursday , October 19 2017
Home / Hyderabad News / उर्दू यूनीवर्सिटी तक़र्रुरात में धांदलियों की शिकायत

उर्दू यूनीवर्सिटी तक़र्रुरात में धांदलियों की शिकायत

मौलाना आज़ाद नेशनल उर्दू यूनीवर्सिटी में तक़र्रुरात की धांदलियों के सिलसिला में तेलगू देशम के मुस्लिम क़ाइदीन के एक वफ़द ने वज़ीर फ़रोग़ इंसानी वसाइल मिस्टर कपिल सिब्बल से यूनीवर्सिटी के गेस्ट हाइज़ में मुलाक़ात करते हुए एक

मौलाना आज़ाद नेशनल उर्दू यूनीवर्सिटी में तक़र्रुरात की धांदलियों के सिलसिला में तेलगू देशम के मुस्लिम क़ाइदीन के एक वफ़द ने वज़ीर फ़रोग़ इंसानी वसाइल मिस्टर कपिल सिब्बल से यूनीवर्सिटी के गेस्ट हाइज़ में मुलाक़ात करते हुए एक मह्ज़र पेश किया और मुतालिबा किया कि मौजूदा वाइस चांसलर के दौर में किए गए तमाम तक़र्रुरात को कल अदम क़रार देते हुए तहकीकात की जाएं और यूनीवर्सिटी एक्ट और क़वाइद की ख़िलाफ़वरज़ी करने वाले अर्बाब यूनीवर्सिटी के ख़िलाफ़ सख़्त तादीबी कार्रवाई की जाय ।

सिक्रेट्री तेलगू देशम जनाब एम हकीम ऐडवोकेट की क़ियादत में पार्टी की एक वफ़द ने मुलाक़ात की और उन्हें यूनीवर्सिटी में तदरीसी ओहदों पर गैर उर्दू दां हज़रात का तक़र्रुर करते हुए यूनीवर्सिटी के किरदार को ख़तम करने की कोशिश पर तशवीश का इज़हार किया वज़ीर मौसूफ़ को बताया गया है कि उर्दू यूनीवर्सिटी के क़ियाम का असल मक़सद उर्दू ज़बान में असरी उलूम को तरवीज की जाय । मगर यूनीवर्सिटी की कारकर्दगी को देख कर एसा महसूस होता है कि यूनीवर्सिटी के क़ियाम का मक़सद फ़ौत हर कर रह गया है ।

अफ़सोस के साथ कहना पड़ता है कि 75 फीसद तदरीसी अमला गैर उर्दू दां है ।यूनीवर्सिटी क़ायम हुए 16 बरस बीत चुके मगर आज तक यूनीवर्सिटी को मुस्तक़िल रजिस्ट्रार नसीब नहीं हुआ । गैर उर्दू दां तदरीसी अमला के बाइस यूनीवर्सिटी का तालीमी मेयार गिरता जा रहा है । तेलगूदेशम वफ़द ने बताया कि यूनीवर्सिटी के क़ियाम में तेलगू देशम सरबराह मिस्टर चंद्रा बाबू नायडू का नाक़ाबिल फ़रामोश रोल रहा है ।

जिन्हों ने हैदराबाद में यूनीवर्सिटी के क़ियाम को यक़ीनी बनाने ज़मीन का मुफ़्त अतीया दिया था । यूनीवर्सिटी के मौजूदा वाइस चांसलर यूनीवर्सिटी को अपनी जागीर समझ रहे हैं और तक़र्रुरात में क़वाइद यकसर नज़र अंदाज करते हुए अक़रबा-पर्वरी का मोज़ाहरा कररहे हैं । वफ़द को मिस्टर कपिल सिब्बल ने तय्क्कुन दिया कि वो इन शिकायत का जायज़ा लेते हुए मुनासिब काररोई करेंगे । वफ़द में मसरस मुहम्मद शफीक शरिफन , मुहम्मद केसर , मुहम्मद अबदुल सलीम और मुहम्मद ज़फ़र और दीगर मौजूद थे ।।

TOPPOPULARRECENT