Wednesday , October 18 2017
Home / India / उर्दू ज़बान की हमा जिहत तरक़्क़ी हम सब की ज़िम्मेदारी

उर्दू ज़बान की हमा जिहत तरक़्क़ी हम सब की ज़िम्मेदारी

नई दिल्ली,23 मार्च: क़ौमी कौंसल बराए फ़रोग़ उर्दू ज़बान की मजलिसे आमिला (जनरल बॉडी) की मीटिंग शास्त्री भवन में मुनाक़िद हुई। मीटिंग की सदारत मर्कज़ी वज़ीरे ममलिकत बराए फ़रोग़ इंसानी वसाइल जनाब जतिन प्रसाद ने की। वज़ीर मौसूफ़ की सदारत में पह

नई दिल्ली,23 मार्च: क़ौमी कौंसल बराए फ़रोग़ उर्दू ज़बान की मजलिसे आमिला (जनरल बॉडी) की मीटिंग शास्त्री भवन में मुनाक़िद हुई। मीटिंग की सदारत मर्कज़ी वज़ीरे ममलिकत बराए फ़रोग़ इंसानी वसाइल जनाब जतिन प्रसाद ने की। वज़ीर मौसूफ़ की सदारत में पहली मर्तबा मुनाक़िद हुई। आमिला की इस मीटिंग में उर्दू ज़बान की हमा जिहत तरक़्क़ी और कौंसल की कारकर्दगी पर संजीदगी से ग़ौर-ओ-ख़ौज़ किया गया।

अपने ख़िताब में जनाब जतिन प्रसाद ने कहा कि मर्कज़ी हुकूमत उर्दू ज़बान के फ़रोग़ के लिए हर मुम्किन कोशिश कर रही है और क़ौमी उर्दू कौंसल की कारकर्दगी इस कोशिश की बेहतरीन मिसाल है। उन्होंने कहा कि आज कमप्यूटर टेक्नोलोजी का दौर है,और कौंसल एक्स सिम्त में भी काम कर रही है,और इस सिलसिले में असरी तक़ाज़ों को मल्हूज़ रखा जाएगा।

उर्दू ज़बान से अपनी वालहाना मुहब्बत और अपनी दिलचस्पी का इज़हार करते हुए उन्होंने कहा कि उर्दू बेहद ख़ूबसूरत ज़बान है और बचपन से ही इस ज़बान से मुतास्सिर रहे हैं। उर्दू ज़बान की एहमियत को उजागर करते हुए उन्होंने उर्दू ज़बान के मौजूदा चलन पर भी अपनी तशवीश ज़ाहिर की और कहा कि आज इस ख़ूबसूरत ज़बान का चलन कम होरहा है।

लिहाज़ा इस ज़बान की आबयारी करना हम सब की ज़िम्मेदारी है। उर्दू ज़बान के तालीमी-ओ-रोज़गार के मसाइल पर भी उन्होंने ज़ोर दिया और कहा कि मर्कज़ी हुकूमत उर्दू ज़बान के उन मसाइल को हल करने की भी कोशिश करेगी। कौंसल की ये 20 वीं मीटिंग थी। क़ौमी उर्दू कौंसल के डायरेक्टर डा. ख़्वाजा मुहम्मद इकरामुद्दीन ने मीटिंग में आए तमाम अराकीन का ख़ौरेमक़दम किया और कौंसल की कारकर्दगी से इजलास को वाक़िफ़ कराया।

साथ ही कौंसल को दरपेश मसाइल से भी उन्होंने इजलास-ओ-वज़ीर मौसूफ़ को बाख़बर कराया। उन्होंने कहा कि कौंसल उर्दू ज़बान को फ़रोग़ देने और उसे रोज़गार से जोड़ने के लिए कम्पयूटर, केलिग्राफी, उर्दू अरबी डिप्लोमा कोर्स मुल्की सतह पर चला रही है, लेकिन कौंसल के इन डिप्लोमा कोर्सेज़ के सर्टीफ़िकेट के वसीअ तर इख़्तेयारात कौंसल के पास नहीं हैं।

TOPPOPULARRECENT