Thursday , August 17 2017
Home / Khaas Khabar / उस्मानिया हॉस्पिटल की इमारत को मुनहदिम करने चीफ़ मिनिस्टर अटल

उस्मानिया हॉस्पिटल की इमारत को मुनहदिम करने चीफ़ मिनिस्टर अटल

हैदराबाद 11 अगस्त:उस्मानिया हॉस्पिटल की तारीख़ी इमारत को मुनहदिम करने के फ़ैसले पर क़ायम चीफ़ मिनिस्टर चंद्रशेखर राव ने तारीख़ी इमारतों के तहफ़्फ़ुज़ से मुताल्लिक़ तन्ज़ीमों से मुलाक़ात से इनकार कर दिया है।

बताया जाता हैके मुख़्तलिफ़ रज़ाकाराना तन्ज़ीमों ने इस मसले पर मुलाक़ात के लिए चीफ़ मिनिस्टर से वक़्त मांगा है। ये तंज़ीमें जिनमें बाज़ क़ौमी सतह की तंज़ीमें शामिल हैं चीफ़ मिनिस्टर को तारीख़ी इमारत की हक़ीक़ी सूरत-ए-हाल से वाक़िफ़ कराना चाहती है।

बताया जाता हैके चीफ़ मिनिस्टर इमारत के इन्हिदाम के ख़िलाफ़ जारी मुहिम से सख़्त नाराज़ हैं और उन्होंने वज़ीर-ए-सेहत लकशमा रेड्डी को हिदायत दी हैके वो इमारत से मरीज़ों की मुंतकली का काम जल्द मुकम्मिल करें। महकमा-ए-सेहत के आला ओहदेदार मरीज़ों और मुताल्लिक़ा शोबाजात की मुंतकली में मसरूफ़ हैं।

बताया जाता हैके उस्मानिया हॉस्पिटल के एक साबिक़ सुपरिन्टेन्डेन्ट ने भी इस मसले पर चीफ़ मिनिस्टर से मुलाक़ात का वक़्फ़ मांगा लेकिन एक हफ़्ते से उन्हें वक़्त नहीं दिया गया।

साबिक़ सुपरिन्टेन्डेन्ट हॉस्पिटल की इमारत के इन्हिदाम के ख़िलाफ़ हैं। उनका मानना हैके इमारत की मुनासिब निगहदाशत की जाये तो उसे मुस्तहकम और मज़बूत किया जा सकता है।

तारीख़ी इमारतों के तहफ़्फ़ुज़ से मुताल्लिक़ माहिरीन का ख़्याल हैके ओहदेदार इमारत की ख़स्ता-हाली के बारे में जो तास्सुर दे रहे हैं वो हक़ायक़ के बरख़िलाफ़ है।

इसी दौरान टी आर एस के बाज़ क़ाइदीन ने चीफ़ मिनिस्टर को इस मसले पर माहिरीन और सियासी जमातों के नुमाइंदों के साथ मीटिंग मुनाक़िद करने की तजवीज़ पेश करने का फ़ैसला किया था।

ताहम चीफ़ मिनिस्टर के सख़्त-गीर रवैये को देखते हुए इस तजवीज़ से दसतबरदारी इख़तियार करली गई। बताया जाता हैके वज़ीर-ए-सेहत लकशमा रेड्डी ने पार्टी क़ाइदीन पर वाज़िह कर दिया कि उस्मानिया हॉस्पिटल की मुंतकली के मसले पर चीफ़ मिनिस्टर कोई राय सुनने के लिए तैयार नहीं है।

वो चाहते हैंके अंदरून एक हफ़्ता क़दीम इमारत का मुकम्मिल तख़लिया कर दिया जाये ताके हाईकोर्ट से इमारत के इन्हिदाम की इजाज़त हासिल की जा सके।

इन्हिदाम की मुख़ालिफ़त करने वाली तन्ज़ीमों ने सवाल किया हैके चीफ़ मिनिस्टर नई इमारत की तामीर के लिए रक़म कहाँ से लाएँगे। हुकूमत अपने ख़ज़ाने को पुर करने के लिए बंजाराहिलस के इलाके में 600 करोड़ रुपये मालियती सरकारी अराज़ी फ़रोख़त करने का फ़ैसला कर चुकी है।

TOPPOPULARRECENT