Friday , September 22 2017
Home / World / उ कोरिया ने जापान की ओर फिर दागी मिसाइल, संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने बुलाई इमरजेंसी मीटिंग

उ कोरिया ने जापान की ओर फिर दागी मिसाइल, संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने बुलाई इमरजेंसी मीटिंग

नई दिल्ली: उत्तर कोरिया ने प्योंगयांग से जापान की ओर फिर से एक मिसाइल दागी है। दक्षिण कोरिया और जापान की सरकार ने इसकी पुष्टि की है। इस मिसाइल का परीक्षण उत्तर कोरिया की ओर से तब किया गया है जबकि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने उत्तर कोरिया के मिसाइल और परमाणु कार्यक्रमों पर प्रतिबंध लगा दिया है। उत्तर कोरिया की इस हरकत के बाद संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने आपात बैठक बुलाई है। दक्षिण कोरिया की सेना ने बताया कि यह मिसाइल करीब 770 किलोमीटर की ऊंचाई तक गई और इसने क़रीब 3700 किलोमीटर का सफर तय किया। जापान के एनएचके टीवी ने जानकारी दी है कि यह मिसाइल स्थानीय समय के मुताबिक सुबह 6:57 बजे छोड़ी गई और यह 7:06 बजे जापान के होकाइडो द्वीप के ऊपर से गुज़री।

जापान के प्रधानमंत्री शिंज़ो आबे कड़े शब्दों में कहा है, कि ‘जापान उत्तर कोरिया द्वारा उकसाने वाली इस गतिविधि को कभी सहन नहीं करेगा।’ उत्तर कोरिया की इस हरकत के बाद जापान ने अपने लोगों को अलर्ट रहने के निर्देश जारी कर दिए हैं। दक्षिण कोरिया और अमरीका इस मिसाइल लॉन्च के ब्यौरों पर नजर रखे हुए हैं। उत्तर अमेरिकी एयरोस्पेस डिफेंस कमांड का कहना है कि इस बैलिस्टिक मिसाइल ने उनके लिए कोई खतरा नहीं है। उन्होंने यह भी निर्धारित किया है कि इस बैलिस्टिक मिसाइल से गुआम के लिए भी कोई खतरा नहीं है।

राजनयिकों ने बताया कि अमेरिका और जापान के अनुरोध पर शुक्रवार को उत्तर कोरिया की ओर से किए गए मिसाइल परीक्षण पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की बैठक 3 बजे होगी। बता दें कि, 15 सदस्यीय सुरक्षा परिषद ने सर्वसम्मति से उत्तर कोरिया के खिलाफ 3 सितंबर को किए गए परमाणु परीक्षण के बाद प्रतिबंध लगा दिया था। उत्तर कोरिया की इस हरकत के बाद अमेरिका ने चीन और रूस को इस संदर्भ में कड़े कदम उठाने की अपील की है। उत्तर कोरिया ने एक दिन पहले ही संयुक्त राष्ट्र में उत्तर कोरिया पर नई पाबंदिया लगाने के प्रस्ताव का समर्थन करने के लिए जापान को डुबोने और अमरीका को राख और अंधेरे में बदल देने की धमकी दी थी. पिछले महीने भी उत्तर कोरिया ने जापान के ऊपर से एक मिसाइल छोड़ी थी, जिसे जापान ने अपने लिए ‘अभूतपूर्व ख़तरा’ बताया था.

TOPPOPULARRECENT