Saturday , October 21 2017
Home / Uttar Pradesh / एक जनवरी से बैंक में मिलेगी एलपीजी सब्सिडी

एक जनवरी से बैंक में मिलेगी एलपीजी सब्सिडी

घरेलू एलपीजी गैस सारफीन को उनके बैंक खाते में ही सब्सिडी की रकम मिलेगी। सारफीन के बैंक खाते से एलपीजी कनेक्शन को जोड़ना जरूरी कर दिया गया है। एक जनवरी से पूरे मुल्क में इसे लागू किया जा रहा है। इस बार आधार की मजबूरी खत्म कर दी गयी ह

घरेलू एलपीजी गैस सारफीन को उनके बैंक खाते में ही सब्सिडी की रकम मिलेगी। सारफीन के बैंक खाते से एलपीजी कनेक्शन को जोड़ना जरूरी कर दिया गया है। एक जनवरी से पूरे मुल्क में इसे लागू किया जा रहा है। इस बार आधार की मजबूरी खत्म कर दी गयी है। जिनके पास आधार कार्ड नहीं है, वे भी इसमें शामिल हो सकेंगे। गाहकों को फॉर्म भर कर इसकी जानकारी देनी होगी। फॉर्म ऑनलाइन या डिस्ट्रीबूटर के पास से हासिल किये जा सकते हैं।

31 दिसंबर तक होना होगा शामिल

इस बार चार तरह के फॉर्म जारी किये गये हैं। दो फॉर्म आधार कार्ड वाले गाहकों के लिए और दो फॉर्म बिना आधार कार्ड वाले गाहकों के लिए हैं। इसमें एक गैस एजेंसी के पास जमा होगा और एक बैंक में. बिना आधार कार्डवाले गाहक चाहें, तो अपने बैंक में 17 पॉइंट्स वाला एलपीजी खाता नंबर के साथ फॉर्म भर कर भी दे सकते हैं। उन्हें एजेंसी के पास देने की जरूरत नहीं होगी। यह नंबर गाहक ऑनलाइन या एजेंसी के पास से हासिल कर सकते है. इसमें 16 पॉइंट्स का कस्टमर नंबर होगा और सबसे पहले गैस कंपनी का नंबर होगा। इनके लिए 31 दिसंबर 2014 तक का वक़्त है। एक जनवरी से सब्सिडी खाते में ही जायेगी।

एसएमएस से दी जा रही है इत्तिला

एलपीजी गाहकों को एसएमएस के जरिये से भी इसकी इत्तिला दी जा रही है। जो पहले से ही बैंक खाते से जुड़े हुए हैं, उन्हें भी बताया जा रहा है कि उन्हें कुछ करने की जरूरत नहीं है।

568 रुपये मिलेंगे एडवांस

सब्सिडी के लिए बैंक खाता के शामिल होते ही खाते में 568 रुपये जमा हो जायेंगे। यह सब्सिडी की एडवांस रकम है। पहले यह रकम 435 रुपये थी, जिसे बढ़ाकर 568 रुपये कर दिया गया है। गाहकों को सिलिंडर की डिलिवरी के वक़्त पूरे रुपये देने होंगे। इसमें मिलनेवाली सब्सिडी की रकम सीधे बैंक खाते में ही जायेगी।

16.83 लाख में 7.10 ही अभी जुड़े

राज्य में इंडेन, एचपी गैस व भारत गैस के टोटल 16.83 लाख घरेलू एलपीजी गाहक हैं। इनमें से तकरीबन 42 फीसद लोगों के खाते आधार से जुड़ चुके हैं। बैंकों में यह हालत काफी कम है। बैंकों में अब तक तकरीबन 27 फीसद यानी 4.60 लाख गाहक ही जुड़े हैं। इसमें इंडेन गैस के 12 लाख गाहक हैं। इसमें 2.77 लाख गाहकों के बैंक खाते में सब्सिडी की रकम जा रही है। वहीं 4.55 लाख गाहक ने आधार कार्ड एजेंसियों को मुहैया कर दिये है। गाहकों के खाते को जोड़ने में बैंकों की रफ्तार अभी धीमी है।

ऑनलाइन भी दे सकते हैं जानकारी

सारफीन अगर चाहे तो बिना बैंक या एजेंसी के पास जाये भी अपने बैंक खाते को इससे जोड़ सकते हैं। इसके लिए उन्हें एलपीजी गैस कंपनियों की वेबसाइट पर जाना होगा। यहां 17 डिजिट वाला खाता नंबर भरना होगा। इस नंबर की जानकारी भी ऑनलाइन ही मिल सकती है। इसके अलावा जिस नंबर से गैस की बुकिंग की जाती है, उस पर एसएमएस कर के भी यह सहूलत हासिल की जा सकती है। सारफीन टोल फ्री नंबर 18002333555 पर भी राब्ता कर इसमें शामिल हो सकते हैं।

TOPPOPULARRECENT