Sunday , August 20 2017
Home / Khaas Khabar / एक मुसलमान लड़की का वाइट हाउस में सलाहकार बनने तक का मुश्किल सफ़र

एक मुसलमान लड़की का वाइट हाउस में सलाहकार बनने तक का मुश्किल सफ़र

कुछ इस तरह की भी ज़िन्दगानियाँ हमारी नज़रों से गुज़रती हैं जिन्हें देख के हमें एक अलग सी प्रेरणा मिलती है, इसी तरह की एक ज़िन्दगी का नाम है रूमाना अहमद. रूमाना अहमद बंगलादेशी माँ-बाप की बेटी हैं जिनकी परवरिश वाशिंगटन डी सी के पास मेरीलैंड में हुई है. बचपन में उन्हें बास्केटबॉल का शौक़ था, घूमने का भी और परिवार के साथ घुलने मिलने का. सबकुछ अच्छा चल रहा था लेकिन सितम्बर 2001 के हमले ने सब बदल दिया और उनका मुसलमान होना उनके लिए एक परेशानी बनता चला गया, हिजाब में एक नौजवान लड़की का होना अमरीकियों को खटकने लगा और लोग उन पर तरह तरह की फब्तियां कसने लगे, हालाँकि अहमद ने इन सब बातों का सामना किया और बजाय हारने के आगे बढ़ने लगीं और उनकी कामयाबी का सबसे बड़ा नमूना है कि आज वो वाइट हाउस में नौकरी कर रही हैं और यहाँ उनका हिजाब में होना उनको फख्र का एहसास दिलाता है. उन्होंने बताया कि वाइट हाउस में उनका हिजाब पहेनना उनकी सबसे बड़ी ताक़त है, वाइट हाउस में लोग उनसे उनका नज़रिया जानने की कोशिश करते रहते हैं.
रूमाना ने बताया कि वो राष्ट्रपति बराक ओबामा से प्रेरित हैं.

TOPPOPULARRECENT