Sunday , October 22 2017
Home / Hyderabad News / एक लाख सरकारी जायदादों पर तक़र्रुत

एक लाख सरकारी जायदादों पर तक़र्रुत

चीफ़ मिनिस्टर के चन्द्रशेखर राव‌ ने एलान किया कि आइन्दा पाँच माह में एक लाख से ज़ाइद मख़लवा जायदादों पर मरहलावार अंदाज़ में तक़र्रुत किए जाऐंगे।

चीफ़ मिनिस्टर के चन्द्रशेखर राव‌ ने एलान किया कि आइन्दा पाँच माह में एक लाख से ज़ाइद मख़लवा जायदादों पर मरहलावार अंदाज़ में तक़र्रुत किए जाऐंगे।

चीफ़ मिनिस्टर ने मुलाज़मतों की फ़राहमी के सिलसिले में नौजवानों को तक़र्रुत की हद उम्र में पाँच साल रियायत देने का भी एलान किया। असेंबली में सरकारी और निम सरकारी इदारों में तक़र्रुत के मसले पर मुबाहिस का जवाब देते हुए चीफ़ मिनिस्टर ने कहा कि हुकूमत सरकारी मख़लवा जायदादों के अलावा ख़ानगी शोबा में रोज़गार के मवाक़े पैदा करने के इक़दामात कर रही है।

उन्होंने बताया कि तेलंगाना में एक लाख 7744 मख़लवा जायदादों की निशानदेही की गई और हुकूमत जलद ही तेलंगाना पब्लिक सरविस कमीशन तशकील देगी और तक़र्रुत के अमल का आग़ाज़ होगा।

उन्होंने तेलंगाना के तालीम-ए-याफ़ता बेरोज़गार नौजवानों से अपील की के वो मुलाज़मत के सिलसिले में मायूसी का शिकार ना हूँ। टी आर एस ने चुनाव मंशूर में बेरोज़गार नौजवानों को रोज़गार की फ़राहमी का जो वादा किया है, इस पर बहरसूरत अमल किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि मुलाज़िमीन की तेलंगाना और आंध्र प्रदेश में तक़सीम का अमल बाक़ी है, जिस के बाइस मख़लवा जायदादों की निशानदेही में ताख़ीर होरही है। उन्होंने कहा कि कमल नाथन कमेटी की रिपोर्ट और मुलाज़िमीन की तक़सीम के बाद मख़लवा जायदादों का सही अंदाज़ा होगा।

चीफ़ मिनिस्टर ने कॉन्ट्रैक्ट मुलाज़िमीन की ख़िदमात को बाक़ायदा बनाने से मुताल्लिक़ हुकूमत के वादे का तज़किरा करते हुए कहा कि उनकी हुकूमत कंट्टर कॉन्ट्रैक्ट मुलाज़िमीन की ख़िदमात को बाक़ायदा बनाने हर मुम्किन इक़दामात करेगी।

तेलंगाना में जुमला 25,000 कॉन्ट्रैक्ट मुलाज़िमीन की निशानदेही की गई है, उनकी ख़िदमात को बाक़ायदा बनाने के लिए चीफ़ सेक्रेटरी की क़ियादत में कमेटी तशकील दी गई जिस ने अभी तक मुख़्तलिफ़ मह्कमाजात में 19,000 कॉन्ट्रैक्ट मुलाज़मीन की निशानदेही की है।

बहुत जल्द दुसरे मह्कमाजात का जायज़ा लेते हुए ये कमेटी कॉन्ट्रैक्ट मुलाज़िमीन की तादाद का ताय्युन करेगी। के सी आर ने कहा कि नए तक़र्रुत या फिर कॉन्ट्रैक्ट मुलाज़िमीन को बाक़ायदा बनाने के सिलसिले में रोस्टर सिस्टम और दुसरे तमाम क़वाइद पर अमल किया जाएगा।

चीफ़ मिनिस्टर ने कहा कि तेलंगाना में नई सनअतों के क़ियाम के ज़रीये नौजवानों के लिए रोज़गार के मवाक़े पैदा किए जाऐंगे। हुकूमत बहुत जल्द नई सनअती पालिसी का एलान करेगी।

उन्होंने बताया कि सरकारी मुलाज़मतों के अलावा ख़ानगी शोबे जैसे इन्फ़ार्मेशन टेक्नालोजी ,फार्मास्यूटिकलस और दुसरे सनअतों में बड़े पैमाने पर रोज़गार के मवाक़े पैदा किए जाऐंगे।

उन्होंने बताया कि महिकमा बर्क़ी , आर टी सी , सिंगारीनी कालरीज़ और मुख़्तलिफ़ कार्पोरेशनों की तक़सीम का अमल मुकम्मिल होने के बाद हुकूमत नए तक़र्रुत के अमल में तेज़ी पैदा करेगी।

उन्होंने कहा कि 1995 से अब तक मुख़्तलिफ़ (DSC) तशकील दिए गए लेकिन तक़र्रुत मुकम्मिल नहीं किए गए। हुकूमत डी एससी के मुताबिक़ असातिज़ा के तक़र्रुत के इक़दामात करेगी।

उन्होंने अप्पोज़ीशन जमातों की तरफ से हुकूमत को तन्क़ीद का निशाना बनाए जाने पर अफ़सोस का इज़हार किया और कहा कि अप्पोज़ीशन को इस बात का जायज़ा लेना होगा कि इस सूरत-ए-हाल के लिए ज़िम्मेदार कौन है ? साबिक़ा हुकूमतों की ग़लत पालिसीयों के सबब ये सूरत-ए-हाल पैदा हुई है और बेरोज़गारी की शरह में इज़ाफ़ा हुआ।

उन्होंने कहा कि टी आर एस हुकूमत के चंद माह मुकम्मिल हुए हैं और इस से इस क़दर तवील मुद्दती ज़ेर अलतवा मसले की यकायक यकसूई की तवक़्क़ो करना मज़हकाख़ेज़ है। चीफ़ मिनिस्टर के जवाब के बाद अप्पोज़ीशन जमातों ने वज़ाहत का मौक़ा तलब किया ताहम स्पीकर मधु सुदन चारी ने इजाज़त नहीं दी जिस पर तेलुगु देशम अरकान ने अपना एहतेजाज दर्ज किराया।

TOPPOPULARRECENT