Tuesday , October 17 2017
Home / India / एन सी पी नाराज़ लेकिन यू पी ए में शामिल रहने का ऐलान

एन सी पी नाराज़ लेकिन यू पी ए में शामिल रहने का ऐलान

एन सी पी ने आज कहा कि वो हुक्मराँ यू पी ए इत्तिहाद का हिस्सा बनी रहेगी लेकिन हुकूमत में इसकी राय को नजरअंदाज़ और कांग्रेस के साथ मर्कज़ ( केंद्र) और महाराष्ट्रा दोनों जगह राबिता ( स‍ंबंध) के फ़ुक़दान ( कमी) पर नाराज़गी का इज़हार किया। महा

एन सी पी ने आज कहा कि वो हुक्मराँ यू पी ए इत्तिहाद का हिस्सा बनी रहेगी लेकिन हुकूमत में इसकी राय को नजरअंदाज़ और कांग्रेस के साथ मर्कज़ ( केंद्र) और महाराष्ट्रा दोनों जगह राबिता ( स‍ंबंध) के फ़ुक़दान ( कमी) पर नाराज़गी का इज़हार किया। महाराष्ट्रा में भी एन सी पी इक़तिदार ( शासन) में कांग्रेस के साथ शिरकतदार है।

शरद पवार ज़ेर-ए-क़ियादत ( नेतृत्व) एन सी पी ने कांग्रेस की जानिब से रखे गए सुलूक की बिना यू पी ए हुकूमत से अलैहदगी का फ़ैसला कर लिया था। पार्टी ने कहा कि हुकूमत की कारकर्दगी तवक़्क़ो (उम्मीद) के मुताबिक़ नहीं है। सीनीयर एन सी पी लीडर प्रफुल पटेल ने पार्टी सरबराह के हमराह दिल्ली से यहां पहुंचने के बाद एयर पोर्ट पर अख़बारी नुमाइंदों को ये बात बताई।

उन्होंने कहाकि हम यू पी ए में शरीक हैं और मुस्तक़बिल ( भविष्य) में बहैसीयत हलीफ़ ( पक्ष के) एक हिस्सा रहेंगे। मर्कज़ी हुकूमत को हर बार हमारी ताईद ( समर्थन) हासिल रही और मुस्तक़बिल ( भविष्य) में भी ऐसा ही होगा। प्रफुल पटेल ने कहा कि एन सी पी का ये नुक़्ता-ए-नज़र है कि एक तरक़्क़ी करने वाली और सैक्यूलर हुकूमत बरक़रार रहनी चाहीए लेकिन इस बात पर तन्क़ीद की कि इन की पार्टी की राय पर ग़ौर नहीं किया जा रहा है।

उन्होंने ये बात ऐसे वक़्त कही है कि पार्टी सरबराह शरद पवार ने महाराष्ट्रा के सरकरदा पार्टी क़ाइदीन ( लीडर) बिशमोल उन के भतीजा और डिप्टी चीफ़ मिनिस्टर अजीत पवार, रियास्ती एन सी पी सदर मधूकर पचाड और वज़ीर-ए-दाख़िला आर आर पाटिल-ओ-दीगर से तबादला-ए-ख़्याल ( विचार विमर्श) किया।

एन सी पी गुज़श्ता आठ साल से कांग्रेस की मुस्तहकम हलीफ़ है लेकिन इस वक़्त हुकूमत को बोहरान ( संकट) का सामना करना पड़ा जब शरद पवार वज़ीर-ए-ज़राअत (कृषि मंत्री) ने वज़ीर-ए-आज़म ( प्रधान मंत्री) मनमोहन सिंह को मकतूब ( पत्र) रवाना करते हुए प्रफुल पटेल वज़ीर बड़ी मसनूआत के हमराह ( समर्थक) अलैहदगी के फ़ैसला से वाक़िफ़ कराया।

प्रफुल पटेल ने कहा कि महाराष्ट्रा में जहां एन सी पी कांग्रेस ज़ेर-ए-क़ियादत इत्तिहाद का हिस्सा है, सूरत-ए-हाल अलग नहीं है। उन्होंने कहा कि राबिता ( सपर्क) के बगै़र काम किया जा रहा है। हम बाहमी राबिता के मेकानिज़म को दुबारा वापस लाने के ख़ाहां हैं।

TOPPOPULARRECENT