Thursday , October 19 2017
Home / India / एफ डी आई पर फैसला मुअत्तल, हुकूमत का ऐलान

एफ डी आई पर फैसला मुअत्तल, हुकूमत का ऐलान

नई दिल्ली 8 दिसमबर (पी टी आई) पार्ल्यामेंट के अंदर और बाहर बढ़ते दबाव के पेश नज़र हुकूमत ने आज रीटेल शोबा में एफ डी आई की इजाज़त देने अपने फैसले को मुअत्तल करने का ऐलान किया। इस के साथ ही पार्ल्यमंट में 9 दिन से जारी तात्तुल ख़तम होगय

नई दिल्ली 8 दिसमबर (पी टी आई) पार्ल्यामेंट के अंदर और बाहर बढ़ते दबाव के पेश नज़र हुकूमत ने आज रीटेल शोबा में एफ डी आई की इजाज़त देने अपने फैसले को मुअत्तल करने का ऐलान किया। इस के साथ ही पार्ल्यमंट में 9 दिन से जारी तात्तुल ख़तम होगया। एफ डी आई के मसला पर आज सुबह मुनाक़िदा कल जमाती इजलास में पारलीमानी तात्तुलको ख़तम करने में पेशरफ़्त हुई। हुकूमत ने अपोज़ीशन से इत्तिफ़ाक़ करते हुए मल्टी ब्रांड के रीटेल शोबा में 51 फीसद एफ डी आई की इजाज़त देने काबीना के फैसले को रोक दिया है।

लोक सभा में वज़ीर फ़ैनानस परनब मुकर्जी की जानिब से कि हुकूमत ने एफ डी आई पर फैसला रोक दिया है कि फ़ौरी बाद राज्य सभा में भी इसी तरह का बयान वज़ीर कॉमर्स-ओ-सनअत आनंद शर्मा ने दिया। लोक सभा में मुकर्जी ने कहा कि मुख़्तलिफ़ दावेदारों के दरमियान होने वाली तब्दीलियों पर इत्तिफ़ाक़ राय पैदा होने तक इस फैसले को मोख़र कर दिया जाता है।

अपोज़ीशन लीडर सुषमा स्वराज ने फैसला रोक देने हुकूमत के ऐलान का ख़ैरमक़दम किया। हुकूमत ने अवाम के ख़ाहिशात का लिहाज़ रखा है। अवाम की मर्ज़ी के सामने झुकना शिकस्त नहीं कहलाती। क़ाइदे एवान की जानिब से बयान देने के बाद स्पीकर मीरा कुमार ने बी जे पी, बाएं बाज़ू और बी एस पी के बिशमोल कई अपोज़ीशन पार्टियों कीजानिब से पेश करदा तहरीक अलतवा को मुस्तर्द कर दिया। इस पर बी एस पी के अरकान नाराज़ होगए और ए एवान से वाक आउट कर दिया।

22 नवंबर से शुरू हुए पार्ल्यमंट के सरमाई सेशन में पहली मर्तबा वकफ़ा-ए-सवालात शुरू किए गए। बड़े ब्रांड वाले रीटेल शोबा मे 51 फ़ीसद रास्त ग़ैर मुल्की सरमाया कारी (एफडी आई) के फ़ैसले को मुल्तवीकरने के हुकूमत के फ़ैसले के साथ ही महंगाई और ब्लैक मनी के मसले पर पार्लीमैंट में बहस कराने के इशारे मिलने के बाद सरमाई इजलास के दौरान इबतिदाई दो हफ़्ते से जारी तात्तुल आज टूट गया।। ज़राए के मुताबिक़ जुमेरात को महंगाई और पीर को ब्लैक मनी के मसले पर बेहस कराई जा सकती है। अप्पोज़ीशन पार्टीयों और दीगर पार्टीयों ने हुकूमत के इस क़दम पर इतमीनान का इज़हार किया है।

TOPPOPULARRECENT