Tuesday , October 17 2017
Home / India / एफ डी आई मसला पर सयासी जमातों से तआवुन की अपील

एफ डी आई मसला पर सयासी जमातों से तआवुन की अपील

नई दिल्ली २९ नवंबर (पी टी आई) रीटेल शोबा में एफडी आई मसला पर अप्पोज़ीशन की पार्लीमैंट में सख़्त मुख़ालिफ़त के तनाज़ुर में वज़ीर कॉमर्स ऐंड इंडस्ट्री आनंद शर्मा ने अरकान पार्लीमान और रियास्ती चीफ़ मिनिस्टर्स से मुलाक़ात की।

नई दिल्ली २९ नवंबर (पी टी आई) रीटेल शोबा में एफडी आई मसला पर अप्पोज़ीशन की पार्लीमैंट में सख़्त मुख़ालिफ़त के तनाज़ुर में वज़ीर कॉमर्स ऐंड इंडस्ट्री आनंद शर्मा ने अरकान पार्लीमान और रियास्ती चीफ़ मिनिस्टर्स से मुलाक़ात की।

उन्होंने इस मसला पर मामूली नौईयत के एतराज़ात से बालातर होने की अपील की। आनंद शर्मा ने लोक सभा राज्य सभा अरकान को मकतूब रवाना करते हुए कहा कि बाअज़ सयासी जमातों की जानिब से जो अंदेशे ज़ाहिर किए जा रहे हैं, उन्हें दूर करना वो अपनी ज़िम्मेदारी समझते हैं।

ये मकतूब सीनीयर बी जे पी क़ाइदीन सुषमा स्वराज और अरूण जेटली, सी पी आई ऐम रुकन पार्लीमान सीता राम यचोरी, सी पी आई रुकन डी राजा, आर जे डी सरबराह लालू प्रसाद यादव , चीफ़ मिनिस्टर बिहार नतीश कुमार , चीफ़ मिनिस्टर मग़रिबी बंगाल ममता बनर्जी और चीफ़ मिनिस्टर उड़ीसा नवीन पटनाइक के इलावा दीगर को रवाना किया गया। आनंद शर्मा ने कहा कि सयासी जमातों को मामूली मुफ़ादात से बालातर होकर हिंदूस्तानी सयासी निज़ाम को मुस्तहकम बनाना चाहीए ।

उन्हों ने वाज़िह किया कि एफडी आई पर फ़ैसला से क़बल वसीअ तर मुशावरत की गई । हुकूमत को चिल्लर फ़रोशी के शोबा में ग़ैर मुल्की रास्त सरमाया कारी (एफडी आई) की 51 फ़ीसद तक इजाज़त के मसला पर अप्पोज़ीशन की शदीद तन्क़ीदों का सामना है।

इस फ़ैसला के नतीजा में ये अंदेशा ज़ाहिर किया जा रहा है कि आलमी इदारे जैसे वाल मार्ट हिंदूस्तान में अपने स्टोरस का जाल फैला देंगे जिन से छोटे ताजरीन के मुफ़ादात को ख़तरा लाहक़ है। अपोज़ीशन के इलावा यू पी ए हलीफ़ जमातों तृणमूल कांग्रेस और डी ऐम के ने हुकूमत से ये फ़ैसला वापिस लेने का मुतालिबा किया है । मर्कज़ी काबीना ने 24 नवंबर को उसे मंज़ूरी दी थी ।

आनंद शर्मा ने कहा कि पालिसी वज़ा करने के मुआमला में कई मुलैय्यन छोटे चिल्लर फ़रोशी का कारोबार करने वालों की तशवीश को भी मल्हूज़ रखा गया है । मल्टी ब्रांड शोबा में ग़ैर मुल्की सरमाया कारी के आलमी तजुर्बा का जायज़ा लेने पर ये इन्किशाफ़ हुआ कि तरक़्क़ी पज़ीर ममालिक जैसे चीन , ब्राज़ील , अर्जनटीना , सिंगापुर , इंडोनेशिया और थाईलैंड में मुक़ामी ताजरीन को काफ़ी फ़ायदा पहुंचा और उन्हें इख़तिराई असकीमात मुतआरिफ़ करने का मौक़ा मिला ।

इस के इलावा ये दोनों शोबे मुनज़्ज़म तौर पर अपने अपने अंदाज़ में काम कर रहे हैं। आनंद शर्मा ने कहा कि हुकूमत ग़रीब से ग़रीब को भी ग़िज़ाई तहफ़्फ़ुज़ यक़ीनी बनाने की ख़ाहां है। मल्टीनेशनल रीटेलर की जानिब से क़ीमतों के ताय्युन के बारे में पाई जाने वाली तशवीश पर उन्हों ने कहा कि मसह बिकती कमीशन इस बात को यक़ीनी बनाएगा कि ऐसी किसी हरकत पर फ़ौरी क़ाबू पाया जा सके ।

उन्होंने सदर नशीन मसह बिकती कमीशन से इस मुआमला में खासतौर पर बात की ताकि इस बात को यक़ीनी बनाया जाय कि क़ीमतों के ताय्युन पर मुसलसल नज़र रखी जाय और मुक़ामी ताजरीन को परेशानी ना हो।

TOPPOPULARRECENT