Wednesday , October 18 2017
Home / India / एसएसबी ने खोली दिल्ली पुलिस की पोल

एसएसबी ने खोली दिल्ली पुलिस की पोल

नई दिल्ली, 26 मार्च: हिजबुल दहशतगर्द लियाकत शाह की गिरफ्तारी दिल्ली पुलिस के लिए शाबासी की बजाय फजीहत लेकर आई है। गिरफ्तारी के बाद से आ रहे लगातार मुतनाज़ा बयानों ने दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल को बैकफुट पर ला दिया है। रही-सही कसर एस

नई दिल्ली, 26 मार्च: हिजबुल दहशतगर्द लियाकत शाह की गिरफ्तारी दिल्ली पुलिस के लिए शाबासी की बजाय फजीहत लेकर आई है। गिरफ्तारी के बाद से आ रहे लगातार मुतनाज़ा बयानों ने दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल को बैकफुट पर ला दिया है। रही-सही कसर एसएसबी के इस बयान ने पूरी कर दी कि लियाकत को उसकी हिरासत में दिल्ली रेलवे स्टेशन तक पहुंचाया गया था।

गोरखपुर में सोनौली बार्डर पर तैनात एसएसबी प्रथम वाहिनी के कमांडेंट केएस बनकौटी के मुताबिक लियाकत, उसकी बीवी व 15 साल की बेटी के अलावा अरशद मीर, शाह नवाज मीर, मुर्तजा मीर और उनके साथ के पांच बच्चों समेत 11 लोग सरहद पार करते वक्त 18 मार्च को ही पकड़े गये थे। दो दिनों तक पूछताछ के बाद 20 मार्च को उनकी टीम ट्रेन से सभी को दिल्ली लेकर गई। माना जा रहा है कि दिल्ली पुलिस के लिए एसएसबी के इस बयान को खारिज करना मुश्किल होगा।

दिल्ली पुलिस पहले से ही दबाव में है, खासकर जिस तरह लियाकत का मामला राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) को सौंपने का फैसला किया गया। आईबी पहले ही इस मामले में यह कह कर पल्ला झाड़ चुकी है कि उसका दिल्ली पुलिस के साथ इस मामले में इत्तेला की कोई तबादला फराहम नहीं हुई।

मालूम हो कि दिल्ली पुलिस ने लियाकत की गिरफ्तारी की इत्तेला देते वक्त दावा किया था कि उसका इरादा होली से पहले अपने साथियों के साथ राजधानी में बड़े फिदायीन हमले को अंजाम देना था। स्पेशल सेल के खुसुसी कमिश्नर एसएन श्रीवास्तव ने बताया था कि लियाकत को गोरखपुर से पकड़ा गया है और सीबीआई ने भी उसकी गिरफ्तारी में अहम किरदार निभाया । उसकी निशानदेही पर दिल्ली के एक गेस्ट हाउस से हथियार गोला-बारुद का जखीरा मिला था।

इस बीच लियाकत शाह की गिरफ्तारी को लेकर जम्मू-कश्मीर और पाकिस्तान में बैठे लोगों की बातचीत को खुफिया एजेंसियों ने इंटरसेप्ट किया है। ज़राए का कहना है कि कॉल जम्मू-कश्मीर से पाकिस्तान की गई थीं। इनमें लियाकत के पकड़े जाने की इत्तेला देते हुए अफसोस जाहिर किया जा रहा है। उधर, दिल्ली पुलिस अपने उस बयान पर कायम है जिसमें लियाकत शाह के फिदायीन हमले को अंजाम देने दिल्ली आने की बात कही गई थी।

दिल्ली पुलिस ज़राए की मानें तो लियाकत की गिरफ्तारी से हिजबुल मुजाहिदीन में खलबली है। इतने अहम ऑपरेशन को अंजाम तक पहुंचने के पहले ही फेल हो जाने से दहशतगर्द सकते में हैं। एक आला आफीसर के मुताबिक कुछ इसी उम्मीद की कॉल खुफिया एजेंसियों ने इंटरसेप्ट की है।

जम्मू-कश्मीर से कुछ लोगों ने पाकिस्तान में बैठे अपने आकाओं को फोन कर लियाकत की गिरफ्तारी की खबर दी थी। इस खुलासे के बाद सेक्युरिटी एजेंसियों की नजरें जम्मू-कश्मीर में सरगर्म लियाकत के राबितों पर टिक गई हैं। उसके मोबाइल फोन से मिले नंबरों की भी जांच पड़ताल हो रही है।

स्पेशल सेल आफीसरों की मानें तो लियाकत ने रिक्शे में बैठकर सोनोली बार्डर पार किया था। उसको गोरखपुर रेलवे स्टेशन से गिरफ्तार किया गया। उसके कब्जे से तलाशी मे पाकिस्तान के मुजफ्फराबाद में बना उसका मुहाजिर कार्ड भी बरामद हुआ था। जांच में पता चला है कि जो एके 56 राइफल जामा मस्जिद इलाके में वाकेय् हाजी अराफात गेस्ट हाउस से बरामद की गई है, वह चीन की बनी हुई है। गेस्ट हाउस में जिस दहशतगर्द ने कमरा बुक कराया था उसने अपना नाम मोहम्मद और पता भिवानी, हरियाणा लिखाया था। जांच में यह नाम और पता फर्जी पाए गए हैं। उधर, स्पेशल सेल आफीसरों ने बयान दिया कि लियाकत की गिरफ्तारी में Armed Border Force की भी मदद ली गई थी।

TOPPOPULARRECENT