Tuesday , October 24 2017
Home / India / एस पी की मध्य प्रदेश के मुस्लिम वोटर्स पर नज़र, असलम शेर खां

एस पी की मध्य प्रदेश के मुस्लिम वोटर्स पर नज़र, असलम शेर खां

समाजवादी पार्टी जिसने हालिया असेंबली इंतेख़ाबात में मुस्लिम अक्सरीयत वोटों के हुसूल के ज़रीया ज़बरदस्त कामयाबी हासिल की है, अब उसकी नज़र मध्य प्रदेश है, जहां वो वीदीशा के चौधरी मुनव्वर सलीम को राज्य सभा के लिए नामज़द करने की पेशकश

समाजवादी पार्टी जिसने हालिया असेंबली इंतेख़ाबात में मुस्लिम अक्सरीयत वोटों के हुसूल के ज़रीया ज़बरदस्त कामयाबी हासिल की है, अब उसकी नज़र मध्य प्रदेश है, जहां वो वीदीशा के चौधरी मुनव्वर सलीम को राज्य सभा के लिए नामज़द करने की पेशकश करते हुए मुस्लमानों की हमदर्दी हासिल करना चाहती है।

सीनीयर कांग्रेसी क़ाइद और साबिक़ मर्कज़ी वज़ीर असलम शेर ख़ां ने पी टी आई से बातचीत करते हुए इन ख़्यालात का इज़हार किया। उन्होंने कहा कि सदर समाजवादी पार्टी मुलायम सिंह यादव यक़ीनी तौर पर मध्य प्रदेश के मुस्लिम तबक़ा को इस इक़दाम के ज़रीया रिझाने की कोशिश की है। उन्होंने कहा कि मुलायम सिंह रियासत उत्तर प्रदेश के किसी भी मुस्लिम लीडर को राज्य सभा के लिए चुन सकते थे।

ताहम इस इक़दाम के ज़रीया उन्होंने मध्य प्रदेश के मुस्लिम तबक़ा को अपनी जानिब राग़िब किया है। असलम शेर खां जो साबिक़ हाकी ओलंपियन खिलाड़ी रह चुके हैं, ने इस सवाल पर कि कांग्रेस ने रियासत मध्य प्रदेश से किसी मुस्लिम उम्मीदवार को राज्य सभा के लिए नहीं भेजा ये कहा कि रियासत मध्य प्रदेश में अक़ल्लीयती तबक़ा के साथ जो बुनियादी मसला है वो ये है कि यहां कोई क़ियादत नहीं है।

उन्होंने दूसरी बात ये बताई कि कांग्रेस को चाहीए कि वो इस अहम मौज़ू पर संजीदगी के साथ ग़ौर करें जबकि यहां तक़रीबन 70 फ़ीसद मुस्लिम तबक़ा ने कांग्रेस के हक़ में वोट इस्तेमाल किया है। ताहम कोई बेहतर मुतबादिल नहीं होने के सबब इस फ़ीसद में 50 से 45 फ़ीसद कमी दर्ज हुई है।

उन्होंने मज़ीद कहा कि कांग्रेस को चाहीए कि वो मुस्लिम तबक़ा को इंतेख़ाबात में ज़ाइद नुमाइंदगी दें जबकि मुस्लिम वोटस रियासत मध्य प्रदेश में कांग्रेस के लिए एहमीयत के हामिल हैं। उन्होंने कहा कि बी जे पी को मध्य प्रदेश में तीसरी बार इक़्तेदार पर आने से रोकने के लिए ज़रूरी है कि कांग्रेस मुस्लिम तबक़ा के ताल्लुक़ से अपनी हिक्मत-ए-अमली में लचक पैदा करें।

TOPPOPULARRECENT