Wednesday , August 23 2017
Home / Sports / ऑस्ट्रेलिया ने टीम इंडिया को 333 रन से हराया

ऑस्ट्रेलिया ने टीम इंडिया को 333 रन से हराया

पुणे: घरेलू मैदान पर पिछले 20 टेस्ट मैच और विराट कोहली की कप्तानी में लगातार 19 टेस्ट मैचों से अजेय टीम इंडिया को आखिरकार हार का सामना करना ही पड़ गया. कमतर आंकी जा रही ऑस्ट्रेलियाई टीम ने टीम इंडिया को 4 टेस्ट मैचों की सीरीज के तहत पुणे में खेले गए पहले मैच में शनिवार को 333 रन से हराकर उसके अजेय रहने के अभियान पर विराम लगा दिया. तीसरे दिन 441 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए टीम इंडिया चायकाल के बाद 107 रन पर ही सिमट गई. पहली पारी में भी वह महज 105 रन ही बना पाई थी. ऑस्ट्रेलिया ने भारत को उसके मजबूत पक्ष स्पिन में ही मात दी. मतलब टीम इंडिया अपने ही जाल में फंस गई. ऑस्ट्रेलियाई स्पिनर स्टीव कीफी ने चमत्कारिक गेंदबाजी करते हुए मैच में कुल 12 विकेट चटकाए और टीम को सीरीज में 1-0 की बढ़त दिला दी.

ऑस्ट्रेलिया के कप्तान स्टीव स्मिथ ने जहां दूसरी पारी में शतक (109) लगाया, वहीं टीम इंडिया की ओर से दूसरी पारी में सर्वोच्च स्कोर 31 रन (चेतेश्वर पुजारा), तो पहली पारी में 64 रन (लोकेश राहुल) रहा. पहली पारी में इंडिया के 8, तो दूसरी पारी में 7 बल्लेबाज दहाई का आंकड़ा भी नहीं छू सके.

टीम इंडिया की घटिया बल्लेबाजी
टीम इंडिया की मांग के मुताबिक स्पिन विकेट बनाया गया. पुणे का यह विकेट ऐसा था कि गेंद पहले दिन से ही कुछ-कुछ घूमने लगी थी. फिर भी ऑस्ट्रेलिया ने सम्मानजनक स्कोर बना लिया, लेकिन टीम इंडिया के बल्लेबाज नवोदित स्पिनर स्टीव ओकीफी के सामने समर्पण कर बैठे और अपने ही जाल में फंस गए. टीम इंडिया की बल्लेबाजी को आप दोनों पारियों के विकेट पतन पर नजर डालकर समझ सकते हैं…
दूसरी पारी में विकेट पतन : 1/10 (मुरली विजय- 2), 2/16 (लोकेश राहुल- 10), 3/47 (विराट कोहली- 13), 4/77 (अजिंक्य रहाणे-18), 5/89 (आर अश्विन- 8), 6/99 (ऋद्धिमान साहा- 5), 7/100 (चेतेश्वर पुजारा- 31), 8/102 (रवींद्र जडेजा- 3), 9/102 (ईशांत शर्मा- 0), 10/107 (जयंत यादव- 5)
पहली पारी में विकेट पतन : 1/26 (मुरली विजय- 10), 2/44 (चेतेश्वर पुजारा- 6), 3/44 (विराट कोहली- 0), 4/94 (लोकेश राहुल – 64), 5/95 (अजिंक्य रहाणे- 13), 6/95 (ऋद्धिमान साहा- 0), 7/95 (आर अश्विन- 1), 8/98 (जयंत यादव- 2), 9/101 (रवींद्र जडेजा- 2), 10/105 (उमेश यादव- 4)

लंच के बाद 441 रन के विशाल लक्ष्य का पीछा करने उतरी टीम इंडिया को पारी के पांचवें ओवर में ही लग गया, जब ओपनर मुरली विजय (2) पहली पारी की ही तरह जल्दी लौट गए. उनको पहली पारी में 6 विकेट लेने वाले स्पिनर स्टीव ओकीफी ने पगबाधा आउट किया. विजय ने रिव्यू लिया, लेकिन उसमें भी नहीं बच पाए. इसके बाद लोकेश राहुल भी 10 रन बनाकर नैथन लियोन का शिकार हो गए. कीफी ने टीम इंडिया को विराट कोहली के रूप में सबसे बड़ा झटका दिया. वह भी उन्हें क्लीन बोल्ड कर दिया. इसके बाद पुजारा ने रहाणे के साथ 30 रन जोड़े, लेकिन रहाणे साथ नहीं दे पाए और उनको भी कीफी ने 18 रन पर कैच करा दिया. टीम इंडिया ने 89 रन पर पांचवां विकेट खोया. इसके बाद तो तू चल मैं आया वाली स्थिति बन गई और 18 रन के अंतराल पर ही 5 विकेट गिर गए और टीम 107 रन पर सिमट गई.

घटिया फील्डिंग : स्मिथ के कई कैच टपकाए…
टीम इंडिया ने इस मैच में बल्लेबाजी तो खराब की ही, उसकी फील्डिंग भी घटिया रही, जिससे स्मिथ को कई जीवनदान (23, 29 और 37 रन पर) मिले. उनके दो कैच सब्स्टीट्यूट फील्डर अभिनव मुकुंद ने छोड़े, तो एक कैच मुरली विजय ने टपकाया. फिर क्या था एक बड़े बल्लेबाज के लिए तो इतने मौके काय़पी होते हैं और उन्होंने 109 रन की अहम पारी खेल दी. स्मिथ के अलावा मैट रेनशॉ (31) को भी जीवनदान मिला. उन्होंने स्मिथ के साथ 52 रन की साझेदारी करके ऑस्ट्रेलिया को मजबूत बढ़त दिलाने में बड़ी भूमिका निभाई.

तीसरे दिन लंच तक : ऑस्ट्रेलिया 285 पर सिमटी, इंडिया को 441 का लक्ष्य
लंच तक दूसरी पारी में ऑस्ट्रेलियाई टीम लंच तक285 रन पर सिमट गई थी. इस प्रकार उसे 440 रन की कुल बढ़त हासिल हुई. कप्तान स्टीव स्मिथ 202 गेंदों में 109 रन बनाकर रवींद्र जडेजा का शिकार बने. स्मिथ ने करियर का 18वां शतक लगाया. स्मिथ को दूसरे दिन कई जीवनदान मिले थे. आर अश्विन ने 4 सफलताएं दिलाई, तो रवींद्र जडेजा 3 विकेट, वहीं उमेश यादव को 2 विकेट और जयंत यादव को एक विकेट मिला.

ऑस्ट्रेलिया की दूसरी पारी का विकेट पतन- 1/10 (डेविड वॉर्नर- 10), 2/23 (शॉन मार्श- 0), 3/61 (हैंड्सकॉम्ब- 19), 4/113 (मैट रेनशॉ- 31), 5/169 (मिचेल मार्श- 31), 6/204 (मैथ्यू वेड- 20), 7/246 (स्टीव स्मिथ- 109), 8/258 (मिचेल स्टार्क- 30), 9/279 (नैथन लियोन- 13), 10/285 (स्टीव ओकीफी-6)

तीसरे दिन ऑस्ट्रेलिया की दूसरी पारी को स्टीव स्मिथ (59) और मिचेल मार्श (21) ने 4 विकेट पर 143 रन से आगे बढ़ाया. स्कोर में 26 रन ही जुड़े थे कि रवींद्र जडेजा ने टीम इंडिया को दिन की पहली सफलता दिला दी. उन्होंने मार्श को 31 रन (76 गेंद, 4 चौके, 1 छक्का) पर विकेटकीपर ऋद्धिमान साहा के हाथों कैच कराया. स्मिथ ने एक छोर थामे रखा और मैथ्यू वेड के साथ भी छठे विकेट के लिए 35 रन जोड़ लिए. वेड को उमेश यादव ने विकेटकीपर साहा ने कैच किया. स्मिथ ने मुश्किल विकेट पर तीन जीवनदानों का फायदा उठाते हुए करियर का 18वां शतक ठोक दिया. उन्होंने 187 गेंदों का सामना किया और 11 चौके लगाए. स्मिथ ने मिचेल स्टार्क के साथ सातवें विकेट के लिए 42 रन की अहम साझेदारी की और बढ़त को 400 के पार पहुंचा दिया. हालांकि टीम का स्कोर 246 तक पहुंचा था कि उनको रवींद्र जडेजा ने पगबाधा आउट कर दिया. स्मिथ के बाद स्टार्क भी जल्दी ही आउट हो गए. उन्होंने 31 गेंदों में 30 रन ठोके और आर अश्विन का शिकार बने. कंगारुओं का नौवां विकेट 279 रन पर गिरा. नैथन लियोन को 13 रन पर उमेश यादव ने पगबाधा आउट किया. अंतिम विकेट सामने देख अंपायरों ने लंच लेने की जगह खेल को आगे बढ़ा दिया और फिर रवींद्र जडेजा ने स्टीव ओकीफी को 6 रन पर आउटकर ऑस्ट्रेलिया की दूसरी पारी 285 रन पर समेट दी.

अश्विन ने कपिल, कुंबले को पीछे छोड़ा, स्टेन से हैं पीछे
ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने दूसरे दिन लंच से पहले पहली पारी में मिचेल स्टार्क को आउट करने के साथ ही भारत के महान ऑलराउंडर कपिल देव का एक रिकॉर्ड तोड़ दिया. उन्होंने होम सीजन में 64 विकेट हासिल करके कपिल देव के किसी होम सीजन में सबसे अधिक 63 विकेटों के रिकॉर्ड को पीछे छोड़ दिया. दूसरी पारी में उन्होंने टीम इंडिया के ही स्पिनर अनिल कुंबले के 11 मैचों में 64 विकेट (2004-05) के रिकॉर्ड को भी पीछे छोड़ा. वर्ल्ड लेवल पर वह दक्षिण अफ्रीका के डेल स्टेन से पीछे हैं, जो 12 मैचों में 78 विकेट (2007-08 के सीजन में) के साथ पहले नंबर पर हैं, जबकि अश्विन के नाम अब 10 मैचों में कुल 67 विकेट हो गए हैं. अश्विन भारतीय धरती पर 200 विकेट पूरे करने के भी करीब हैं. इसके लिए उन्हें सिर्फ 7 विकेट चाहिए. ऐसे करते ही वह अनिल कुंबले (350), हरभजन सिंह (265) और कपिल देव (219) के बाद ये उपलब्धि हासिल करने वाले चौथे भारतीय गेंदबाज बन जाएंगे.

दूसरे दिन के खेल का अपडेट : टीम इंडिया की घटिया बल्लेबाजी
टीम इंडिया 105 रन पर ही सिमट गई. उसकी बल्लेबाजी के स्तर का आप अंदाजा इसी बात से लगा सकते हैं, कि उसके 8 बल्लेबाज दहाई का आंकड़ा भी नहीं छू सके. लोकेश राहुल ने सबसे अधिक 64 रन बनाए, तो अजिंक्य रहाणे ने 13 और मुरली विजय ने 10 रन बनाए. कप्तान कोहली से बड़ी उम्मीद थी, लेकिन वह खाता भी नहीं खोल सके और मिचेल स्टार्क का शिकार बन गए.

ऑस्ट्रेलिया 260 पर ऑलआउट
इससे पहले दिन के पहले ओवर की पांचवीं गेंद पर ही ऑस्ट्रेलियाई टीम 260 रन पर ऑलआउट हो गई. जॉश हेजलवुड (1) नाबाद रहे, जबकि मिचेल स्टार्क को 61 रन पर आर अश्विन ने आउट किया. गौरतलब है कि पहले दिन के खेल के अंतिम घंटे में स्टार्क ने तूफानी बल्लेबाजी की. उन्होंने 47 गेंदों में फिफ्टी बना दी थी. टीम इंडिया की ओर से उमेश यादव ने सबसे अधिक 4 विकेट, तो आर अश्विन ने 3 विकेट, वहीं रवींद्र जडेजा ने 2 विकेट और जयंत यादव ने एक विकेट चटकाया.

ऑस्ट्रेलिया की पहली पारी में विकेट पतन – 1/82 (डेविड वॉर्नर- 38), 2/119 (शॉन मार्श- 16), 3/149 (पीटर हैंड्सकॉम्ब- 22), 4/149 (स्टीव स्मिथ- 27), 5/166 (मिचेल मार्श- 5), 6/190 (मैथ्यू वेड- 8), 7/198 (मैट रेनशॉ- 68), 8/205 ( स्टीफन ओकीफी- 0), 9/205 (नैथन लियोन- 0), 10/260 (मिचेल स्टार्क- 61)

पहले दिन के खेल का अपडेट
टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने उतरी ऑस्ट्रेलियाई टीम की ओर से मैट रेनशॉ ने सबसे अधिक 68 रन, तो मिचेल स्टार्क ने नाबाद 57 रन, डेविड वॉर्नर ने 38 रन (77 गेंद, 6 चौके), कप्तान स्टीव स्मिथ ने 95 गेंदों में 27 रन, शॉन मार्श ने 55 गेंदों का सामना किया और 16 रन जोड़े. पीटर हैंड्सकॉम्ब ने 45 गेंदों में 22 रन बनाए. कंगारुओ की ओर से कोई भी बड़ी साझेदारी नहीं हो पाई. जैसे ही कोई जोड़ी आगे बढ़ती तो टीम इंडिया के गेंदबाज उसे तोड़ देते. खासतौर से चायकाल के बाद तो उसकी बल्लेबाजी ताश के पत्तों की तरह झड़ गई. दिन का खेल खत्म होने तक उनसे पहले मैट रेनशॉ 36 रन पर रिटायर्ड हर्ट होने के बाद फिर बैटिंग करने के लिए लौटे और अच्छी बल्लेबाजी की. उन्होंने करियर की दूसरी फिफ्टी बनाई, लेकिन 68 रन (156 गेंद, 10 चौके, 1 छक्का) पर आर अश्विन ने उन्हें आउट कर दिया.

TOPPOPULARRECENT