Tuesday , September 26 2017
Home / AP/Telangana / ओक़ाफ़ी जायदादों की सुरक्षा के लिए विशेष आयोग की सिफारिश

ओक़ाफ़ी जायदादों की सुरक्षा के लिए विशेष आयोग की सिफारिश

हैदराबाद 02 नवंबर: सुधीर आयोग जांच ने तेलंगाना में अल्पसंख्यक की पसमांदगी और जनसंख्या के आधार पर अल्पसंख्यक कल्याण बजट अपर्याप्त करार दिया है। आयोग ने सरकार को पेशकश अपनी रिपोर्ट में बजट की इजराई और खर्च पर असंतोष व्यक्त किया। आयोग ने इस स्थिति को निराशाजनक करार देते हुए बजट में वृद्धि के साथ साथ उसके उचित खर्च सुनिश्चित करने की सिफारिश की है।

तेलंगाना में अल्पसंख्यकों की आबादी 12.68 प्रतिशत है। इस दृष्टि से उनके लिए आवंटित गए बजट अत्यंत अपर्याप्त है। आयोग ने इस संबंध में एससी, एसटी और बीसी वर्ग को आवंटित किए जाने वाले बजट का तुलनात्मक करते हुए मुसलमानों के लिए भी अलाहिदा सबसे योजना प्रस्तावित है।

सुधीर आयोग ने शिक्षा, प्रशिक्षण एम्प्लॉयमेंट और सरकारी नौकरियों जैसे महत्वपूर्ण क्षेत्रों में मुसलमानों की उपेक्षा किए जाने का हवाला दिया। इसके अलावा उर्दू भाषा के संरक्षण और प्रचार के लिए भी कदम उठाने की सिफारिश की है। सुधीर आयोग ने हर अल्पसंख्यक संस्थान और उनमें जारी स्कीमात की समीक्षा की।

आयोग का यह एहसास है कि सरकार ने अल्पसंख्यक कल्याण के लिए स्कीमात तो शुरू की है लेकिन क्रियान्वयन की गति बेहद धीमी है। आयोग ने उर्दू एकेडेमी के तहत चलने वाले 43 कंप्यूटर सेंटर्स और पुस्तकालयों के प्रदर्शन को असंतोषजनक बताया। रिपोर्ट में कहा गया है कि इन केन्द्रों की जिम्मेदारी अल्पसंख्यक फाइनैंस निगम को दी गई है ताकि उनके कंप्यूटर सेंटर्स विभिन्न कोरसस प्रशिक्षण केंद्रों में तब्दील किया जाए।

सुधीर आयोग ने ओक़ाफ़ी जायदादों के संरक्षण और उनकी देखभाल के लिए विशेष आयोग स्थापित करने का इज़हार किया। रिपोर्ट में कहा गया है के आयोग को जो सुझाव दिए गए थे, उनमें समर्पित का विषय शामिल नहीं है। हालांकि समस्या के महत्व के मद्देनजर विशेष आयोग के गठन की सिफारिश की जा रही है।

रिपोर्ट में कहा गया कि शहरी क्षेत्रों के मुस्लिमन गंजान आबादी क्षेत्रों में रहते हैं, उन्हें कब्रिस्तान के लिए जगह पाने में दिक्कत पेश आरही है। सरकार से सिफारिश की के आवासीय क्षेत्रों से तीन किलो मीटर्स की दूरी पर कब्रिस्तान के लिए भूमि प्रदान की जाए। सुधीर आयोग ने सरकार के 37 महत्वपूर्ण मह्कमाजात में मुसलमानों का प्रतिनिधित्व और विशेष रूप से राजपत्रित पद पर कम प्रतिनिधित्व की रिपोर्ट में बताया है।

TOPPOPULARRECENT