Sunday , August 20 2017
Home / International / ‘ओबामा मुसलमानों को यूरोप में बसाने की साज़िश कर रहे हैं’: यानोश लाज़ार

‘ओबामा मुसलमानों को यूरोप में बसाने की साज़िश कर रहे हैं’: यानोश लाज़ार

बुडापेस्ट:  हंगरी के प्रधानमंत्री विक्टोर ओर्बान के चीफ ऑफ स्टाफ का कहना है कि अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा और अमेरिका यूरोप की ओर अवैध प्रवास का समर्थन इसलिए कर रहे हैं क्योंकि वे अधिक से अधिक मुसलमानों को यूरोप में आबाद करना चाहते हैं।

समाचार एजेंसी एसोसिएटेड प्रेस के अनुसार हंगरी के प्रधानमंत्री विक्टोर ओर्बान के चीफ ऑफ स्टाफ यानोश लाज़ार ने अमरीका और अमेरिकी राष्ट्रपति पर आरोप लगाया है कि वह अवैध आप्रवासियों की यूरोप की ओर पलायन का समर्थन इसलिए कर रहे हैं क्योंकि ‘वह यूरोप में अधिक से अधिक मुसलमानों को आबाद करना चाहते हैं।’

यानोश लाजार ने 19 मई गुरुवार को अपने एक बयान में कहा कि हंगरी में जन्मे अमेरिकी निवेशक जॉर्ज सूरवज़ राष्ट्रपति ओबामा की यूरोप के लिए आदेश दी गई शरणार्थियों से संबंधित नीति को बढ़ावा देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं।इस कथित साजिश के बारे में बात करते हुए हंगरी के इस उच्च अधिकारी का कहना था कि ‘कुछ अमेरिकी समूह’ यूरोप को ‘कमजोर या भंग करने पर आमादा हैं। वे चाहते हैं कि इस प्रकार यूरोप अमेरिका के साथ बिना शर्त सहयोग करने के लिए मजबूर हो जाएगा। ”

1930  में जन्मे जॉर्ज सूरवज़ के पास अमेरिकी और हंगरी की नागरिकता है और उनकी गिनती दुनिया के तीस सबसे अमीर हस्तियों में होता है। उद्यमी होने के अलावा उन्हें एक लेखक और उनके मानवीय कार्यों के लिए भी जाना जाता है। सोरोज़ की ‘ओपन सोसायटी फाउंडेशन’ दुनिया भर में सामाजिक संगठनों को वित्तीय सहायता प्रदान करने में आगे रहती है।

लाज़ार का कहना था कि सोरोज़ डेमोक्रेटिक पार्टी की ओर से अमेरिका के अगले राष्ट्रपति बनने की इच्छुक हिलेरी क्लिंटन संरक्षक भी हैं। उनका यह भी कहना था कि अमेरिका की डेमोक्रेटिक पार्टी हंगरी के प्रधानमंत्री विक्टोर ओर्बन के खिलाफ सक्रिय है।अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा और हिलेरी क्लिंटन का संबंध भी डेमोक्रेटिक पार्टी से है। दोनों प्रमुख अमेरिकी नेता विटोरि ओर्बन उनके सत्तावादी व्यवहार, सिविल सोसायटी और समलैंगिक के खिलाफ क्रेक डाउन  करने पर गंभीर आलोचना करते रहे हैं।

दूसरी ओर हंगरी के प्रधानमंत्री विक्टोर का कहना है कि हंगरी में सक्रिय सामाजिक संगठनों में से कई पैसे लेकर विदेशियों के लिए काम करती हैं।

TOPPOPULARRECENT