Monday , August 21 2017
Home / Hyderabad News / ओवैसी और रहमान का नाम दुनिया के बाअसर मुसलमानों की फहरिस्त में

ओवैसी और रहमान का नाम दुनिया के बाअसर मुसलमानों की फहरिस्त में

जॉर्डन वाके एक इस्लामी तहकीक मराकज़ ने हाल ही में दुनिया के 500 बाअसर मुसलमानों की फहरिस्त जारी की है. इस फहरिस्त में एआईएमआईएम के लीडर असदुद्दीन आवैसी और मूशीकार एआर रहमान का नाम भी शामिल किया गया है.

‘द मुस्लिम 500’ नाम की इस फहरिस्त को सबसे पहले 2009 में बनाया गया था. इसके बाद हर साल इसे ओमान की रॉयल इस्‍लामिक स्‍ट्रेटेजिक स्‍टडीज सेंटर (आरआईएसएससी) जारी करती है.

फहरिस्त को दो हिस्सो में बांटा जा सकता है. पहले हिस्से में दुनिया के 50 बाअसर मुसलमानो का नाम शामिल किया गया है, जिसमें हिंदुस्तान से मुफ्ती मुहम्‍मद अख्‍तर रजा खान कादरी अल-अजहरी और मौलाना महमूद मदनी का नाम बताया गया है. बाकी बचे 450 नामों में हिंदुस्तान से रहमान और ओवैसी के साथ और भी हस्तियों के नाम शामिल किए गए हैं.

मुफ्ती अल-अजहरी, बरेलवी तहरीक के बानी रहे अहमद रजा खान के परपोते हैं. वहीं मौलाना मदनी जमीयत उलेमा-ए-हिंद के इग्जीक्यूटिव अराकीन और लीडर हैं.

कौन-कौन है फहरिस्त में

· जॉर्डन के बादशाह अब्‍दुल्‍ला 2 इब्‍न अल-हुसैन

· सऊदी अरब के बादशाह सलमान बिन अब्‍दुल अजीज

· ईरान के टाप लीडर अयातुल्‍ला सईद अली खामनेई

· तुर्की के सदर तायिप एर्दगन

· अल-अजहर यूनिवर्सिटी के चीफ इमाम प्रोफेसर डॉक्‍टर शेख अहमद मुहम्‍मद अल-तायिब

· मिस्र के फौजी हुक्मरान अब्‍दल फतेह अल-सीसी

· ओमान के हुक्मरान सुल्‍तान कुबूस बिन सैद अल-सैद

· फिलीस्‍तीन के सदर महमूद अब्‍बाद और हिजबुल्‍ला लीडर सैयद हसन नसरल्‍ला

बाअसर मुसलमानों की फहरिस्त में शामिल हिंदुस्तानी नाम

· डॉक्‍टर जाकिर नाइक

· अलामा जिया अल-मुस्‍तफा

· मौलाना वहीउद्दीन खान

· रैबी हसानी नादवी

· मीरवाइज उमर फारूक

· शेख अबुबकर अहमद

· सैयद इब्राहिमुल खालिद अल-बुखारी

· मौलाना शेख अली नूरीद

· असदुद्दीन ओवैसी

· मौलाना कमरजमन आजमी

· अरशद मदनी

· सैयद अमीन मियां कादिर

· बोहरा लीडर सैयदना मुफदल सैफुद्दीन और शेख शुआब तिखा

फन और शकाफत (Arts and Culture) के जुमरे में इस फहरिस्त में बॉलीवुड से अदाकारा शबाना आजमी और आमिर खान, मूशीकार अल्‍लाह रक्‍खा रहमान (एआर रहमान) का नाम शामिल किया गया है.

आरआईएसएससी का दावा है कि द मुस्लिम 500 फहरिस्त बनाने के लिए मज़हब , कल्चर , सियासत, नज़रिया और इक्तेसादी मयार की बुनियाद पर आलमी सर्वे किया गया था. सा‍इंस और टेक्नालोजी की कटेगरी में साबिक सदर जम्हूरिया एपीजे अब्‍दुल कलाम का नाम रखा गया है.

TOPPOPULARRECENT