Friday , October 20 2017
Home / Khaas Khabar / और हुआ महंगा रेल टिकट कैंसिल कराना

और हुआ महंगा रेल टिकट कैंसिल कराना

नई दिल्ली, 26 जून: टिकट वापसी के नए नियमों की आड़ में रेलवे ने आम मुसाफिरों की जेब पर फिर से कैंची चला दी है। एक जुलाई से लागू होने वाले नए नियमों के तहत मुसाफिरों को टिकट वापस या रद्द कराने के लिए ज्यादा कीमत चुकानी पड़ेगी।

नई दिल्ली, 26 जून: टिकट वापसी के नए नियमों की आड़ में रेलवे ने आम मुसाफिरों की जेब पर फिर से कैंची चला दी है। एक जुलाई से लागू होने वाले नए नियमों के तहत मुसाफिरों को टिकट वापस या रद्द कराने के लिए ज्यादा कीमत चुकानी पड़ेगी।

यही नहीं अब ट्रेन छूटने के दो से तीन घंटे के बाद रेलवे एक पैसे का भी रिफंड नहीं देगा। डुप्लीकेट टिकट पाने के लिए भी मुसाफिरों को अपनी जेब ढीली करनी पड़ेगी।

नए नियमों के तहत मुसाफिरों को ज़्यादासे ज़्यादा रिफंड पाने के लिए ट्रेन छूटने से 48 घंटे पहले टिकट रद्द कराना होगा। पहले यह मुद्दत 24 घंटे थी।

25 फीसदी रकम काटकर रिफंड पाने के लिए मुसाफिर को ट्रेन छूटने से कम से कम छह घंटे पहले टिकट रद्द करानी होगी। पहले मुसाफिर चार घंटे पहले भी टिकट रद्द करा सकते थे। ट्रेन छूटने के दो घंटे बाद रेलवे कन्फर्म टिकट के रकम वापस नहीं करेगा।

मौजूदा नियम के तहत अगर सफर 500 किमी से ज़्यादा है, तो ट्रेन छूटने के 12 घंटे के अंदरून मुसाफिर टिकट वापस करा सकते हैं।

आरएसी और वेटिंग टिकट वाले मुसाफिरों को भी ट्रेन छूटने से तीन घंटे पहले टिकट रद्द करानी होगी, जिसके लिए एक जुलाई से उन्हें 30 रुपये फीस भी अदा करना होगा।

ई टिकट की ज़ुमरे में वेटिंग लिस्ट और आरएसी की टिकटों पर पहले की तरह पूरा रिफंड मिलेगा।

अगर हड़ताल या किसी तबाही या मुसीबत के सबब मुसाफिर ट्रेन तक नहीं पहुंच पाता है, तो उसे 10 दिन के अंदरून रिफंड के लिए क्लेम करना होगा जबकि पहले यह मुद्दत 90 दिन थी।

डुप्लीकेट कन्फर्म या आरएसी टिकट के लिए भी मुसाफिरों को सेकेंड और स्लीपर क्लास के लिए 50 रुपये और इससे ऊपर के क्लास के लिए 100 रुपये चुकाने होंगे।

वज़ारत के मुताबिक जिन स्टेशनों पर रात के वक्त काउंटर नहीं हैं, वहां पर रिजर्वेशन काउंटर खुलने के पहले दो घंटे रिफंड किया जा सकेगा।

TOPPOPULARRECENT