Tuesday , October 17 2017
Home / Featured News / औलाद की सही तरबियत के लिये वालदैन के पास वक़्त नहीं , मुआशरा में हरतरफ़ बिगाड़

औलाद की सही तरबियत के लिये वालदैन के पास वक़्त नहीं , मुआशरा में हरतरफ़ बिगाड़

दोनों शहरों हैदराबाद-ओ-सिकंदराबाद में ईद उल फ़ित्र का जोश-ओ-ख़ुरोश के साथ एहतिमाम किया गया । फ़रज़ंदाँने तौहीद ने बड़ी तादाद में ईदगाहों-ओ-मसाजिद को पहुंच कर नमाज़ ईद अदा की । ईद उल फ़ित्र का सब से बड़ा अज़ीम उल-शान इजतिमा ईदगाह मी

दोनों शहरों हैदराबाद-ओ-सिकंदराबाद में ईद उल फ़ित्र का जोश-ओ-ख़ुरोश के साथ एहतिमाम किया गया । फ़रज़ंदाँने तौहीद ने बड़ी तादाद में ईदगाहों-ओ-मसाजिद को पहुंच कर नमाज़ ईद अदा की । ईद उल फ़ित्र का सब से बड़ा अज़ीम उल-शान इजतिमा ईदगाह मीर आलम पर देखा गया जहां पर ग़ैरमामूली तादाद में फ़रज़ंदाँने तौहीद ने ईदगाह का रुख करते हुए इजतिमाईयत का पैग़ाम दिया ।

ईदगाह मीर आलम में ज़ाइद अज़ 4 लाख अफ़राद ने नमाज़ ईद उल फ़ित्र अदा की जहां पर नमाज़ ईद की इमामत मिसबाह उलक़ुरा-ए-मौलाना हाफ़िज़ अबदुल्लाह कुरैशी इलाज़ हरी ने की । नमाज़ ईद उल फ़ित्र से क़बल मौलाना मुहम्मद हुसाम उद्दीन सानी जाफ़र पाशाह और मौलाना डाक्टर सैफ उल्लाह शेख उल अदब जामिआ निज़ामीया ने ईदगाह मीर आलम में फ़ज़ाइल ईद उल फ़ित्र बयान किये ।

मौलाना डाक्टर सैफ उल्लाह ने इस मौक़ा पर अपने ख़िताब के दौरान औलाद की तरबियत पर तवज्जा देने की तलक़ीन करते हुए कहा कि फ़ी ज़माना फैल रही मुआशरती बुराईयों की अहम वजह औलाद की मुनासिब तरबियत ना करने का नतीजा है । उन्हों ने कहा कि वालदैन औलाद के लिये वक़्त नहीं दे रहे हैं जिस के नतीजा में इन की औलाद मुआशरती बिगाड़ का सबब बन रही है ।

मौलाना डाक्टर सैफ उल्लाह ने वालदैन को मश्वरा दिया कि वो अपनी औलाद के लिये वक़्त निकालें और उन की तरबियत को यक़ीनी बनाएं । उन्हों ने इजतिमाई शादियों को फ़रोग़ देने की ज़रूरत पर ज़ोर देते हुए कहा कि इजतिमाई शादियों के रुजहान में इज़ाफ़ा की ज़रूरत है लेकिन इस में तशहीर का अंसर ना हो तो लोग इस से मुस्तफ़ीद होने में उकताहट महसूस नहीं करेंगे ।

ईदगाह मीर आलम में नमाज़ ईद उल फ़ित्र के लिये रियासती वक़्फ़ बोर्ड की जानिब से अज़ीम उल-शान पैमाने पर इंतिज़ामात के गए थे । सदर नशीन वक़्फ़ बोर्ड मौलाना ग़ुलाम सय्यद अफ़ज़ल ब्याबानी ख़ुसरो पाशाह की हिदायत पर चीफ एकज़ेकटिव ऑफीसर वक़्फ़ बोर्ड जनाब मुहम्मद अबदुल ग़फ़्फ़ार ने रास्त इंतिज़ामात की निगरानी की ।

ईदगाह क़दीम मादना पेट में भी कसीर तादाद में फ़रज़ंदाँने तौहीद ने नमाज़ ईद उल फ़ित्र अदा की जहां पर मौलाना दउद मदनी ने नमाज़ ईद की इमामत की और क़बल अज़ीं(इस्से क़ब्ल ) फ़ज़ाइल ईद बयान किये । तारीख़ी मक्का मस्जिद में नमाज़ ईद उल फ़ित्र की इमामत हाफ़िज़ मुहम्मद रिज़वान कुरैशी इमाम मक्का मस्जिद ने की ।

क़बल अज़ीं(इस्से क़ब्ल ) हाफ़िज़ मुहम्मद उसमान नक़्शबंदी ने फ़ज़ाइल ईद बयान किये । ईदगाह बलाली ( हाकी ग्राउंड ) में नमाज़ ईद उल फ़ित्र की इमामत मौलाना मुफ़्ती तजम्मुल हुसैन ने की । क़बल अज़ीं(इस्से क़ब्ल ) मौलाना आबिद ख़ां साहब ने फ़ज़ाइल ईद बयान किये ।

रैड हिलज़ प्ले ग्राउंड में नमाज़ ईद उल फ़ित्र की इमामत मौलाना उबैद उलरहमन अतहर नदवी ख़तीब-ओ-इमाम मस्जिद टीन पोश ने की । दोनों शहरों की ईदगाहों और बड़ी मसाजिद के करीब आसाम के मुतासरीन के लिये इमदाद भी जमा की जा रही थी ।

फ़रज़ंदाँने तौहीद की बड़ी तादाद ने ईदगाहों का रुख किया था और सब से बड़े इजतिमा के लिये महकमा आर टी सी , पुलिस , ट्रांस्को , आ बरसानी ,बलदिया के वसीअ-ओ-अरीज़ इंतिज़ामात ईदगाह मीर आलम पर किए गए थे ।।

TOPPOPULARRECENT