Thursday , October 19 2017
Home / Khaas Khabar / कई दरियाएं सेलाब ज़दा , ओडिशा में 17,000 अफ़राद का तख़लिया

कई दरियाएं सेलाब ज़दा , ओडिशा में 17,000 अफ़राद का तख़लिया

ओडिशा की कई दरियाएं ख़तरे के निशान से ऊपर बह रही हैं। उसकी वजह मुसलसल मोसलाधार बारिश है। रियासती हुकूमत ने बचाओ कार्यवाईयों में शिद्दत पैदा करते हुए 17 हज़ार अफ़राद को महफ़ूज़ मुक़ामात पर मुंतक़िल कर दिया जबकि बारिश और सेलाब से मुताल्

ओडिशा की कई दरियाएं ख़तरे के निशान से ऊपर बह रही हैं। उसकी वजह मुसलसल मोसलाधार बारिश है। रियासती हुकूमत ने बचाओ कार्यवाईयों में शिद्दत पैदा करते हुए 17 हज़ार अफ़राद को महफ़ूज़ मुक़ामात पर मुंतक़िल कर दिया जबकि बारिश और सेलाब से मुताल्लिक़ हादिसात में हलाकतों की तादाद 23 होगई।

कई दरियाएं तुग़यानी में हैं। जॉर्ज पर और भद्रक अज़ला में सूरत-ए-हाल ख़तरनाक है। दरयाए बीता रानी कई इलाक़ों में परेशानकुन सैलाबी सतह तक पहुंच गई है। ख़ुसूसी राहत रसानी कमिशनर पी के मोहा पत्रा ने कहा कि कई देहात सैलाबी पानी में घर कर बाक़ी इलाक़ों से अलग थलग होगए हैं।

पाँच अज़ला जॉर्ज पर, कटक, संबल पर, भद्रक और कीवनझार के अवाम को महफ़ूज़ मुक़ामात पर मुंतक़िल कर दिया गया है। उनके लिए मुफ़्त बावर्चीख़ाने क़ायम किए गए हैं ताकि उन्हें पक्की हुई ग़िज़ा फ़राहम की जा सके, ताहम जॉर्ज पर और भद्रक के सिवा-ए-इमकान है कि दीगर अज़ला में सूरत-ए-हाल बेहतर होजाएगी, क्योंकि बारिश इन इलाक़ों में कमज़ोर पड़ गई है।

गुज़िश्ता चार दिन से यहां मोसलाधार बारिश जारी थी। दरयाए बीता रानी में तुग़यानी आगई है और ज़िला जॉर्ज पर के इलाक़ा अख्वा पाड़ा में उस की सतह आब में इज़ाफ़ा होता जा रहा है जिस की वजह से ज़ि के 50 हज़ार अफ़राद मुतास्सिर होगए हैं। 2000 से ज़्यादा अफ़राद को घिरे हुए देहातों से राहत रसानी मराकिज़ में मुंतक़िल कर दिया गया है।

बारिश और सेलाब से मुताल्लिक़ा हादिसात में जारीया मौसम बारिश में हलाकतों की तादाद 23 होगई है। मोहा पत्रा ने कहा कि बेशतर हलाकतें ग़र्क़ होने या दीवारों के इन्हिदाम का नतीजा हैं। 14 अफ़राद बारिश और सेलाब के पहले दौर में और 9 अफ़राद हफ़्ते के दिन से अब तक हलाक हुए हैं।

ज़िला भद्रक में सेलाब की सूरत-ए-हाल संगीन है। राहत रसानी अशीया बिशमोल ख़ुशक ग़िज़ा और दवाएं मुतास्सिरा इलाक़ों में सरबराह की गई हैं। ज़िला जॉर्ज पर के कलेक्टर अनील सामिल ने कहा कि तीन ब्लॉक्स बदतरीन मुतास्सिर हैं। इंतेज़ामीया, सूरत-ए-हाल से निमटने के लिए पूरी तरह तैयार है।

तक़रीबन 40,000 अफ़राद जो सेलाब से मुतास्सिरा 9 पंचायतों से ताल्लुक़ रखते हैं, मुंतक़िल किए गए हैं। बीता रानी की सतह आब 41 मीटर है, जबकि ख़तरे का निशान 38.36 मीटर मुक़र्रर किया गया है। इसी तरह दरयाए महानदी 26.50 मीटर की बुलंदी पर कटक के क़रीब नारज के इलाक़े में बह रही है जहां ख़तरे की सतह 26.41 मीटर है। दरियाओं के बहाओ में 9.87 पानी की शमूलियत के नतीजा में इन में तुग़यानी आगई है।

TOPPOPULARRECENT