Sunday , October 22 2017
Home / India / कई शोबों में एफ डी आई की हद में इज़ाफे की मज़म्मत

कई शोबों में एफ डी आई की हद में इज़ाफे की मज़म्मत

ग़ैर मुल्की ज़र-ए-मुबादला के लिए मुल्क की मईशत को रहन रखने का बाएं बाज़ू का इल्ज़ाम

ग़ैर मुल्की ज़र-ए-मुबादला के लिए मुल्क की मईशत को रहन रखने का बाएं बाज़ू का इल्ज़ाम
नई दिल्ली 18 जुलाई (पी टी आई) बाएं बाज़ू की पार्टी ने आज हुकूमत पर मुल्क की मईशत को ग़ैर मुल्की ज़र-ए-मुबादला हासिल करने के लिए रहन रख देने का इल्ज़ाम आइद किया और कहा कि कई शोबों में रास्त ग़ैर मुल्की सरमायाकारी (एफ डी आई) की बालाई हद में इज़ाफे के फ़ैसले पर नज़रसानी ज़रूरी है।

सी पी आई (एम) की पोलेट ब्यूरो के एक बयान में कहा गया है कि हुकूमत की ये दीवालीया की पालिसी करंट एकाऊंट के ख़सारे की बढ़ती हुई ख़लीज कम करने के लिए ग़ैरमुल्की सरमाया की ज़्यादा मिक़दार में हुसूल के मक़सद से इख़तियार की गई है। लेकिन हुकूमत की इस पालिसी का नतीजा मुल्क के मुनाफ़ा और वसाइल को और भी ज़्यादा बैरून-ए-मुल्क मुंतक़िल करने की वजह बनेगा।

सी पी आई ने कहा कि एफ डी आई की बालाई हद में इज़ाफ़ा कांग्रेस ज़ेर-ए-क़ियादत यू पी ए हुकूमत का अपनी दूसरी मीयाद में एक तबाहकुन और मायूसाना इक़दाम है। सी पी आई के बयान में कहा गया है कि मईशत पहले ही अबतर हालत में है। डालर के मुक़ाबिल रुपय की क़दर इन्हितात पज़ीर होकर पस्त तरीन सतह पर पहूंच चुकी है।

जी डी पी के फ़रोग़ में इज़ाफ़ा होचुका है। हिन्दुस्तानी नौजवानों का मुस्तक़बिल तारीक है। अश्या-ए-ज़रुरीया की क़ीमतों में बेतहाशा इज़ाफ़ा होगया है। तेल की मसनूआत फ़रोख़त करनेवाली कंपनीयां मनमाने पेट्रोल और डीज़ल की क़ीमत में बार बार इज़ाफ़ा कररही हैं। ऐसी सूरत-ए-हाल में अवाम दुश्मन, नौ फ़राख़दल पालिसीयों पर नज़रसानी करने के बजाय कांग्रेस ज़ेर-ए-क़ियादत यू पी ए की हुकूमत अपनी दूसरी मीयाद में सिर्फ़ रास्त ग़ैर मुल्की सरमायाकारी पर इन्हिसार कररही है।

ग़ैर मुल्की सरमाया मुल्क को किसी भी बोहरान से नहीं बचा सकता। हुकूमत जो कुछ कररही है ये उलटी सिम्त में पेशरफ़त है। हुकूमत की बेबसी की पेशे नज़र ग़ैर मुल्की सरमायाकार ज़्यादा से ज़्यादा रियायतें तल्ब कररहे हैं। सी पी आई (ऐम) ने कहा कि हुकूमत पहले ही सरमाया पर फ़ाइदाबख्श टैक्स से दसतबरदारी इख़तियार करली है। वोडाफोन को इस टैक्स के बकाया जात माफ़ किए जा चुके हैं।

यू पी ए हुकूमत ग़ैर मुल्की सरमाया की ख़ातिर मईशत रहन रख रही है। बाअज़ शोबों में एफ डी आई की आज़म तरीन हद में इज़ाफ़ा और ख़ुदकार तरीक़ों से बाअज़ दीगर शोबों में रास्त ग़ैरमुल्की सरमायाकारी की इजाज़त हुकूमत का मायूसाना इक़दाम है क्योंकि उसकी मआशी मुश्किलात में इज़ाफे होता जा रहा है।

हुकूमत से रास्त ग़ैर मुल्की सरमायाकारी की तजावीज़ पर मज़ीद पेशरफ़त से बाज़आ जाने की ख़ाहिश करते हुए सी पी आई (ऐम) ने कहा कि हुकूमत इंशोरंस के शोबे में भी एफ डी आई की हद में इज़ाफ़ा करना चाहती है और इस केलिए पार्लीयामेंट में क़ानूनसाज़ी का मंसूबा है लेकिन तमाम अप्पोज़ीशन पार्टीयां उसे नाकाम बनादेंगी।

TOPPOPULARRECENT