Wednesday , October 18 2017
Home / Crime / कचहरी ब्लास्ट का मास्टर माइंड निकला यासीन भटकल

कचहरी ब्लास्ट का मास्टर माइंड निकला यासीन भटकल

उत्तर प्रदेश के कचहरी ब्लास्ट में दहशतगर्द तंज़ीम इंडियन मुजाहिदीन (आईएम) के कमांडर यासीन भटकल को भी मुल्ज़िम बनाया जाएगा। भटकल से पूछताछ में मिली मालूमात के बाद एटीएस अब इस मामले में उसका नाम जोड़ने की तैयारी कर रही है। इसके बाद उ

उत्तर प्रदेश के कचहरी ब्लास्ट में दहशतगर्द तंज़ीम इंडियन मुजाहिदीन (आईएम) के कमांडर यासीन भटकल को भी मुल्ज़िम बनाया जाएगा। भटकल से पूछताछ में मिली मालूमात के बाद एटीएस अब इस मामले में उसका नाम जोड़ने की तैयारी कर रही है। इसके बाद उसे रिमांड पर लेकर पूछताछ की जाएगी। भटकल ने ही साल 2007 में लखनऊ, फैजाबाद व वाराणसी कचहरी में सिलसिलेवार ब्लास्ट के लिए माद्दा मुहैया कराए थे।

इस मामले में कई लोगों को नामजद किया गया था, जिनमें से खालिद मुजाहिद की पिछले दिनों पेशी पर ले जाए जाने के दौरान पुलिस कस्टडी में मौत हो गई थी, जबकि एक फरार है। 2007 में कचहरी ब्लास्ट के बाद एसटीएफ ने मामले की जांच की थी। इसमें खालिद मुजाहिद, तारिक काजमी के इलावा कश्मीर के दो लोगों के साथ दूसरों को गिरफ्तार किया गया था।

पिछले दिनों नेपाल की सरहद पर खुफिया एजेंसियों के हत्थे चढ़े आईएम कमांडर यासीन भटकल व उसके साथी असदुल्ला उर्फ हड्डी से लगातार पूछताछ जारी है।

मुख्तलिफ सूबे में हुए धमाको में भटकल की समूलियत सामने आने के बाद मुताल्लिक रियासतों की जांच एजेंसियां उससे पूछताछ कर रही हैं।

बहरहाल, उत्तर प्रदेश में यासीन भटकल का मुल्व्वस होना अभी तक सिर्फ वाराणसी के शीतलाघाट धमाके में सामने आई थी। इसमें उसके साथ तहसीन अख्तर व दूसरो के नाम सामने आए थे।

एटीएस अभी तक भटकल से शीतलाघाट धमाके के बारे में ही पूछताछ के लिए रिमांड पर लेने की कोशिश में थी, लेकिन अब उसे मालूमात हासिल हुआ कि यूपी कचहरी ब्लास्ट में इस्तेमाल हुए माद्दा का इंतेज़ाम भटकल ने ही किया था।

उसने बाटला हाउस कांड में पकड़े गए आईएम दहशतगर्द मोहम्मद सैफ को कर्नाटक के एक रेलवे स्टेशन पर ये माद्दा दिए थे। सैफ ने माद्दा यूपी लाकर आरिज बदर को सौंप दिए थे।

आरिज बदर ने इन माद्दो से बम बनाए और अपने दूसरे साथी आरिज खान को दे दिए थे। बम रखने का काम आरिज खान ने ही किया था।

गौरतलब है कि आरिज खान फरार है और उसकी गिरफ्तारी पर एनआईए की ओर से दस लाख का इनाम ऐलान है। वहीं आरिज बदर को जयपुर सीरियल ब्लास्ट के सिलसिले में साल 2008 में लखनऊ से गिरफ्तार किया गया था।

एटीएस के साथ ही केंद्रीय खुफिया एजेंसियों ने भी इन सभी हकायक की तस्दीक के बाद इन्हें सही पाया है। आरिज बदर व आरिज खान का नाम तो कचहरी ब्लास्ट में दर्ज है लेकिन मोहम्मद सैफ व यासीन भटकल अभी तक इस मामले में नामजद नहीं थे।

एटीएस फिलहाल भटकल को कचहरी ब्लास्ट में नामजद करने जा रही है। इसके बाद उसे शीतलाघाट व कचहरी ब्लास्ट मामलों में पूछताछ के लिए रिमांड पर लेने की कोशिश होगी।

——–बशुक्रिया: अमर उजाला

TOPPOPULARRECENT