Saturday , October 21 2017
Home / Khaas Khabar / कनाडा में ईरानी सिफ़ारतख़ाना (दूतावास) बंद, अमला (कर्मचारियों) को मुल्क बदर करने का फ़ैसला

कनाडा में ईरानी सिफ़ारतख़ाना (दूतावास) बंद, अमला (कर्मचारियों) को मुल्क बदर करने का फ़ैसला

कनाडा ने ईरान को दुनिया की सलामती (सुरक्षा) के लिए सब से बड़ा ख़तरा बताते हुए ईरानी सिफ़ारतकारों (दूत कर्मियों) को मुल्क बदर करने और तेहरान में अपना सिफ़ारतख़ाना (दूतावास) बंद करने का फ़ैसला कर लिया है।

कनाडा ने ईरान को दुनिया की सलामती (सुरक्षा) के लिए सब से बड़ा ख़तरा बताते हुए ईरानी सिफ़ारतकारों (दूत कर्मियों) को मुल्क बदर करने और तेहरान में अपना सिफ़ारतख़ाना (दूतावास) बंद करने का फ़ैसला कर लिया है।

दूसरी तरफ़ ईरान ने आज इल्ज़ाम लगाया है कि कनाडा ने इसराईल और बर्तानिया के ज़ेर-ए-असर (प्रभाव से) ईरान के ख़िलाफ़ मुख़ासिमाना (गलत) रवैय्या इख़तियार किया है।

ईरानी वज़ारत-ए-ख़ारजा के तर्जुमान आर मेहमान परस्त ने कहा कि वज़ीर-ए-आज़म (प्रधान मंत्री ) स्टीफ़न हारपर की कंज़रवेटिव हुकूमत की ईरान मुख़ालिफ़ पालिसीयों के तसलसुल के नतीजे में ये सूरत-ए-हाल सामने आई है।

फ़ौरी तौर पर इतने बड़े और ग़ैर मुतवक़्क़े फ़ैसले के बुनियादी मुहर्रिकात (वजह) वाज़िह नहीं हो सके अलबत्ता वज़ीर-ए-ख़ारजा (विदेश मंत्री) जून बीरड ने तेहरान पर लगने वाले इन इल्ज़ामात का इआदा किया है जो बैन-उल-अक़वामी (अंतर राष्ट्रिय ) बिरादरी की जानिब से ईरान पर आइद किए जाते हैं।

ईरानी क़ियादत वयाना कनवेनशन और इस के तहत सिफ़ारती अमले को हासिल मुराआत को मुसलसल नज़र अंदाज कर रही है। 2003 में ईरानी नज़ाद कनाडियाई सहाफ़ी ज़ुहरा काज़मी की ईरानी जेल में हलाकत के सबब दो तरफ़ा ताल्लुक़ात पर पड़ने वाले मनफ़ी (नकारात्मक) असरात अब भी क़ायम हैं।

अमरीका पहले ही तेहरान में अपना सिफ़ारतख़ाना (दूतावास) बंद कर चुका है। कनाडा का सिफ़ारतख़ाना (दूतावास) मग़रिब (पश्चिम) और ईरानी क़ियादत के माबैन राबते में अहम किरदार निभा रहा था। हुस्न यारी के बाक़ौल, तेहरान में कनाडा के सिफ़ारतख़ाने को बहुत से लोग अमरीका की आँख और कान के तौर पर देखते थे।

कनाडा के हालिया इक़दाम (कदम) से मुताल्लिक़ बाअज़ हलक़े तन्क़ीदी राय रखते हैं। साबिक़ (भुत पूर्व) कनाडियाई सिफ़ारतकार जून मोनडी के मुताबिक़ ईरान से तर्क-ए-ताल्लुक़ करके वज़ीर-ए-आज़म (प्रधान मंत्री ) स्टीफ़न हारपर कनाडियाई अवाम को तेहरान के ख़िलाफ़ फ़ौजी हमले के लिए तैय्यार कर रहे हैं।

जून कहते हैं कि कनाडा की हुकूमत बाआसानी अपने हालिया इक़दाम (कदम) को वापिस ले सकती है।

TOPPOPULARRECENT