Wednesday , August 23 2017
Home / India / कन्नूर में छात्रा के अंतर्वस्त्र उतरवाने का मामला : बोर्ड ने कहा घटना दुर्भाग्यपूर्ण

कन्नूर में छात्रा के अंतर्वस्त्र उतरवाने का मामला : बोर्ड ने कहा घटना दुर्भाग्यपूर्ण

केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने रविवार को केरल में कन्नूर में एक परीक्षा केंद्र में मेडिकल प्रवेश परीक्षा से पहले अंतर्वस्त्र निकालने के लिए 19 वर्षीय छात्रा को मजबूर करने वाली घटना पर खेद व्यक्त किया है।

 

 

 
सीबीएसई ने देश के प्रतिष्ठित मेडिकल कॉलेजों, दोनों सरकारी और निजी दोनों के लिए राष्ट्रीय पात्रता-सह-प्रवेश परीक्षा में बड़े पैमाने पर धोखाधड़ी की जांच के लिए अन्य नियमों के अलावा सख्त ड्रेस कोड तैयार किया था।

 

 

 

 

ड्रेस कोड से लेकर छात्र किस सामान को अपने पास रख सकते हैं और किसको नहीं इसके लिए पहले ही दिशानिर्देश जारी किये गए थे। बोर्ड ने इस घटना को कुछ अति उत्साही व्यक्तियों की करनी का परिणाम कहा।

 

 

 

 

 

बोर्ड ने मंगलवार को जारी अपने बयान में कहा कि जो हुआ वह दुर्भाग्यपूर्ण था। लड़की की मां ने कहा था कि मेरी बेटी केंद्र के अंदर चली गई और कुछ मिनटों के बाद उसे अपने अंतर्वस्त्रों को उतारने के लिए कहा गया।

 

 

 

 

इस लड़की को भी यह कहते हुए उद्धृत किया गया कि जब उसे अंतर्वस्त्रों को उतारे के लिए कहा गया तो उसने अपना आत्मविश्वास खो दिया। इस घटना ने सीबीएसई के नियमों पर देश भर में बहस शुरू कर दी है।

 

 

 

इस मुद्दे को सोमवार को केरल विधानसभा में भी उठाया गया, जहां राज्य शिक्षा मंत्री सी रविंद्रनाथ ने कहा कि सरकार इस मामले पर विचार करेगी। सामाजिक कार्यकर्ताओं और राजनेताओं ने इस मामले की जांच की मांग की है।

 

 

 

 

सीबीएसई ने परीक्षा के लिए नये दिशानिर्देश जारी किए थे जिसके मुताबिक नकल रोकने के लिए सिर्फ जरूरी दस्तावेजों के साथ प्रवेश पत्र लाने को कहा गया था। साथ ही छात्राओं से कहा गया था कि वे बड़े बटन, बड़ी पिन, उंची एड़ी वाले जूते नहीं पहनकर आएं जबकि जबकि छात्रों को कुर्ता पायजामा, पूरी बाजू की कमीज और जूते पहनने की मनाही थी।

 

 

 

 

 

एमबीबीएस और बीडीएस पाठ्यक्रमों में दाखिला चाह रहे 11 लाख से अधिक उम्मीदवार देश भर में 1900 से अधिक केंद्रों पर राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा (नीट) में शामिल हुए।

 

 

 

केरल महिला आयोग ने घटना को लेकर जांच का आदेश दिया है। वहीं, कन्नूर जिला पुलिस प्रमुख जी शिव विक्रम ने कहा कि यदि माता-पिता या लड़की ने शिकायत दर्ज कराई तो इस सिलसिले में मामला दर्ज किया जाएगा।

TOPPOPULARRECENT