Tuesday , October 24 2017
Home / Delhi News / कन्हिया ने कहा “कुछ लोग मेरी जुबान चाहते हैं कुछ लोग सर”

कन्हिया ने कहा “कुछ लोग मेरी जुबान चाहते हैं कुछ लोग सर”

kanhaiya

कुछ लोग मेरी जुबान चाहते हैं, कुछ लोग मेरी गर्दन… और कुछ लोगों को मेरा फेसबुक अकाउंट भी चाहिए।’ रविवार को जेएनयू की राष्ट्रवाद क्लास सेशन की शुरुआत यूनिवर्सिटी के छात्रसंघ अध्‍यक्ष कन्हैया कुमार ने अपने ह्यूमर के साथ की।

उन्होंने कहा, ‘मेरा कोई फेसबुक अकाउंट नहीं है, जो था उसे हैक करके कुछ लोगों ने डिऐक्टिवेट कर दिया है। अगर सोशल मीडिया में मेरी तरफ कोई रिक्‍वेस्‍ट आ रही है, तो वो ना माने क्योंकि वो फर्जी है। इसी तरह से हम कोई चंदा नहीं मांग रहे, इसके लिए हम कोई ऑनलाइन कैंपेन नहीं कर रहे क्योंकि चंदा हम लोग डिब्‍बे में मांगते हैं, ऑनलाइन नहीं।’

कन्हैया ने यह भी कहा कि सरकार की यह कोशिश है धर्म के नाम पर तो चुनाव जीते ही हैं, इस बार राष्ट्रवाद के नाम पर चुनाव जीतेंगे। मगर देशभक्ति वही है, जो संविधान में लिखा है। इसी बात को समझाते हुए हमारी राष्‍ट्रवाद की क्लास लगाई जा रही है…यह क्लास हमारे लिए कम, उनके लिए ज्यादा है।

उन्होंने स्मृति ईरानी को भी निशाने पर लिया और कहा, ‘जेएनयू पर ही आकर यह मसला रुका नहीं है। ईरानी जी ने हैदराबाद के बाद हमें ढूंढा, इस बार टारगेट आईआईएमसी और इलाहाबाद यूनिवर्सिटी को किया गया है, बीच में अलीगढ़ को भी निशाना बनाया था उन्होंने, ये दिल मांगे मोर है उनका। पता नहीं अगला नंबर किसका है! इसके लिए सभी यूनिवर्सिटीज के स्टूडेंट्स को तैयार रहना चाहिए। यह सीधी लड़ाई है। ये लड़ाई देशभक्त बनाम गद्दार की नहीं, ये लड़ाई लोकतंत्र बनाम तानाशाह की है।’

कन्हैया रोज शाम लगने वाली राष्‍ट्रवाद की क्लास में पहुंचे थे। #StandWithJNU कैंपेन को रविवार को साथ दिया इतिहासकार और लेखिका रोमिला थापर और हरबंस मुखिया ने। रोमिला ने राष्ट्रवाद के इतिहास पर फोकस करते हुए कहा कि हिंदू और मुस्लिम राष्ट्रवादियों ने ब्रिटिश की दो नेशन थ्योरी को बांटा। उन्होंने यह भी बताया कि औपनिवेशिक भारत को देखें तो यह विविधता नहीं नजर आएगी।

बता दें कि जेएनयू में 9 फरवरी की घटना के बाद उठे विवाद के बाद से ही राष्ट्रवाद की क्लास चल रही है। इस क्लास में नामी लेखक और बुद्धिजीवी स्टूडेंट्स के बीच पहुंचकर राष्‍ट्रवाद की असल परिभाषा देते हैं।

साभार:NBT

TOPPOPULARRECENT