Friday , May 26 2017
Home / India / कब्र में रहने को मजबूर हैं ईरान के बेघर लोग

कब्र में रहने को मजबूर हैं ईरान के बेघर लोग

तेहरान : ईरान की राजधानी के बहार खाली कब्रो में रह रहे बेघर नशेड़ियों की तस्वीरों ने लोगो को हैरान कर दिया है। इन तस्वीरों को देख कर लोगो ने तीखी प्रतिक्रियाएं दी हैं जिनमे ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी भी शामिल हैं।

शहरवंद अखबार ने मंगलवार को 50  बेघर परुष और महिलाओ की तस्वीरे अपने अखबार में प्रकाशित की जिनमे वे शहरियार के कब्रिस्तान में रह रहे थे । यह शहर तेहरान के पश्चिम में 30  किमी की दूरी पर स्तिथ हैं ।

इन बेघर लोगो की कहानी और कब्र से कैमरे की तरफ देखती तस्वीरे ने सोशल मिडिया पर जल्द सनसनी मचा दी । कई लोगो और नामी हस्तियों ने इन तस्वीरों को देख कर शोक व्यक्त किया ।

ऑस्कर विजेता ईरानी निर्देशक असगर फरहदी ने रूहानी को अपनी हताशा एक पत्र में लिख कर ज़ाहिर करी।

“मैंने रिपोर्ट पढ़ी, और अब में पुरे तरीके से शर्म और शोक में डूबा हुआ हूँ, उन्होंने लिखा ।” इस पत्र के साथ मैं अपनी शर्म हर उस व्यकित से बांटना चाहता हूँ जिसकी इस देश में कोई जिम्मेदारी है,” उन्होंने कहा ।

राष्ट्रपति ने फरहदी के दर्द भरे पत्र का जवाब बुधवार को दिया ।”मैंने सुना है की पश्चिमी देशो में लोग गरीबी के कारण पुलो के नीचे गता बिछाकर या फिर मेट्रो स्टेशन में सोते हैं, पर कभी भी कब्रिस्तान नहीं सुना था ” उन्होंने कहा ।

इन मुद्दों को हल करने के लिए हम सभी को एकजुट होना चाहिए और पक्षपातपूर्ण मुद्दों और मतभेदों को छोड़ कर देश की बुनियादी समस्याओं का समाधान ढूंढना चाहिए। “एक अनुवर्ती रिपोर्ट में शहरवंद ने कहा की कब्र में रहने वाले लोगों को अधिकारियो ने उनकी समस्याओ का समाधान ढूंढने का वादा कर जबरन कब्रिस्तान से हटा दिया। उनमे से कई 10  सालो से उस कब्रिस्तान में रह रहे थे, अखबार ने कहा।

“हम मनुष्य नहीं हैं? हम विदेशी हैं? हम भी ईरान के हैं, “एक अनाम बेघर आदमी ने अखबार को दी एक वीडियो में कहा ।गरीबी ईरान मे बीते वर्षो मे काफी बढ़ गयी है ।यह रिपोर्ट ईरान की राजधानी में बेघर लोगों के जीवन की  एक दुर्लभ झलक है।

Top Stories

TOPPOPULARRECENT