Friday , October 20 2017
Home / India / कमज़ोर रियासतों के साथ ताक़तवर मुल्क का तसव्वुर भी मुम्किन नहीं

कमज़ोर रियासतों के साथ ताक़तवर मुल्क का तसव्वुर भी मुम्किन नहीं

रियासत तेलंगाना ने मंसूबा बंदी कमीशन की अज़सर-ए-नौ हईयत तरकिबी-ओ-सूरत गेरी में मर्कज़ को अपने मुकम्मिल तआवुन का यक़ीन दिलाते हुए बाएं बाज़ू की दहश्तगर्दी जैसे वाज़िह अहम मसाइल से निमटने के लिए चीफ़ मिनिस़्टरों पर मुश्तमिल ज़ेली ग्रुपो

रियासत तेलंगाना ने मंसूबा बंदी कमीशन की अज़सर-ए-नौ हईयत तरकिबी-ओ-सूरत गेरी में मर्कज़ को अपने मुकम्मिल तआवुन का यक़ीन दिलाते हुए बाएं बाज़ू की दहश्तगर्दी जैसे वाज़िह अहम मसाइल से निमटने के लिए चीफ़ मिनिस़्टरों पर मुश्तमिल ज़ेली ग्रुपों की तशकील की ज़रूरत पर ज़ोर दिया।

मंसूबा बंदी कमीशन के मुस्तक़बिल पर तबादले ख़्याल के लिए वज़ीर-ए-आज़म नरेंद्र मोदी की तरफ़ से तलब करदा चीफ़ मिनिस्टर्स कांफ्रेंस से ख़िताब करते हुए तेलंगाना के चीफ़ मिनिस्टर चन्द्रशेखर राव ने कहा कि मंसूबा बंदी कमीशन के बजाये क़ायम किए जाने वाले नए इदारे का रोल एक थिंक थैंक (ग़ौर-ओ-फ़िक्र करने वाले) इदारे तक महदूद होना चाहीए।

चन्द्रशेखर राव ने कहा कि एक इलाक़ा या चंद रियासतों से मुताल्लिक़ बाज़ वाज़िह मसाइल जैसे गंगा एक्शण प्लान या बाएं बाज़ू की इंतिहापसंदी, पर मुताल्लिक़ा रियासतों के चीफ़ मिनिस़्टरों को ज़ेली ग्रुपों में शामिल किया जाना चाहीए ताके वो एसे वाज़िह मसाइल और उमूर पर बातचीत-ओ-नुमाइंदगी करसकें।

के सी आर ने कहा कि ग़ौर-ओ-फ़िक्र करने वाले इदारे को हर पालिसी तजवीज़ और नई स्कीमात से हाल और मुस्तक़बिल पर मुरत्तिब होने वाले असरात का ख़ामोशी के साथ जायज़ा लेना चाहीए जबकि सिर्फ़ टीम इंडिया (चीफ़ मिनिस़्टरों की कौंसिल) फ़ैसला साज़ी करें। मुफ़क्किर इदारे को चाहीए कि वो तकनीकी मालूमात फ़राहम करें और एक दोस्त, फ़लसफ़ी और रहबर की हैसियत से काम करें। उन्होंने तजवीज़ पेश की कि हर रियासत की नुमाइंदगी पर मुश्तमिल एक मुस्तक़बिल सेक्रेट्रियट क़ायम किया जाये ताके वो अपने बेहस मुबाहिसे में टीम इंडिया की मदद करसके।

TOPPOPULARRECENT