Monday , September 25 2017
Home / Khaas Khabar / कश्मीरियों ने उठाये सवाल, कश्मीर को छोड़कर पूरे भारत में कहीं भी पैलेट गन का इस्तेमाल क्यों नहीं होता

कश्मीरियों ने उठाये सवाल, कश्मीर को छोड़कर पूरे भारत में कहीं भी पैलेट गन का इस्तेमाल क्यों नहीं होता

बुरहान वानी के एनकाउंटर के बाद कश्मीर घाटी में जुलाई के बाद से हालात अबतक सामान्य नहीं हो पाया है। केंद्र और राज्य सरकार की कोशिशें लोगों का गुस्सा शांत करने में नाकाम साबित नहीं हो रही हैं। हालांकि, विरोध प्रदर्शन और हिंसक टकराव के मामलों में कमी जरूर आई है। कश्मीर के इन्हीं हालात के को ज़हन में रखते हुए पिछले महीने भाजपा नेता यशवंत सिन्हा के नेतृत्व में एक समूह ने कश्मीर का दौरा किया था। इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक समूह ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री राजनाथ सिंह को रिपोर्ट सौंप दी है। इसमें कश्मीर के हालात बिगड़ने की वजहों के बारे में तफ्सील से बताया गया है।

रिपोर्ट के कुछ खास पहलू

इस रिपोर्ट के मुताबिक कश्मीरियों को लगता है कि उन्हें राजनीति के लिए औजार के तौर पर इस्तेमाल किया जाता है।
रिपोर्ट इशारा करती है कि कश्मीरियों और भारत सरकार के बीच किसी किस्म विश्वास का रिश्ता खत्म हो गया है। कश्मीरियों को लगता है कि भारतीय राजनीति इसलिए इस तरह से बदल गई है, क्योंकि उसमें सुनने की इच्छा शक्ति नहीं रही है
भारत सरकार कश्मीर की स्वायत्तता की मांग पर भी गौर करना नहीं चाहती। रिपोर्ट ये भी कहती है कि कश्मीर मामले को हिंदू बनाम मुस्लिम और प्रशासन को जम्मू बनाम कश्मीर की नजर से देखा जा रहा है।

रिपोर्ट में हिजबुल कमांडर बुरहान वानी के अंतिम संस्कार के समय सुरक्षा बलों द्वारा बहुत ज्यादा ताकत और उसके बाद पैलेट गन के इस्तेमाल को लोगों में गुस्सा भड़कने की एक बड़ी वजह बताया गया है। समूह से कई कश्मीरियों ने पैलेट गन के इस्तेमाल को लेकर खास तौर पर शिकायत की है। लोगों का कहना है कि पैलट गन का इस्तेमाल सिर्फ कश्मीर में ही क्यों होता है, बाकि देश के हिस्से में क्यों नहीं।

समूह ने रिपोर्ट की एक प्रति मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती को भी भेजी है। इसके अलावा राज्य सरकार को स्कूल दोबारा खोलने और पब्लिक सेफ्टी एक्ट के तहत पहली बार गलती करने वालों, स्कूली बच्चों और नाबालिगों को रिहा करने की सलाह दी है।

TOPPOPULARRECENT