Monday , August 21 2017
Home / India / कश्मीरी पंडितों के लिए ट्रांजिट कालोनियां स्थापित की जाएंगी: महबूबा मुफ्ती

कश्मीरी पंडितों के लिए ट्रांजिट कालोनियां स्थापित की जाएंगी: महबूबा मुफ्ती

श्रीनगर: जम्मू-कश्मीर के मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने घोषणा की है कि कश्मीर घाटी में प्रवासी कश्मीरी पंडितों के लिए अलग नहीं बल्कि ट्रांजिट कालोनियां स्थापित की जाएंगी जिनमें दूसरी जातियों के सदस्य भी रहेंगे। शनिवार को यहां विधानसभा में राज्यपाल के क्षेत्र पर धन्यवाद प्रस्ताव पर जारी चर्चा में भाग लेते हुए सुश्री मुफ्ती ने कहा कि घाटी में प्रवासी कश्मीरी पंडितों के लिए कोई अलग कालोनियां स्थापित नहीं की जाएं गी. उन्होंने कहा कि ‘केवल पंडितों ने कश्मीर से पलायन नहीं बल्कि मुसलमानों और सिखों ने भी’।

मोहतरमा मुफ्ती ने कहा कि , “हमने स्पष्ट कर दिया है कि घाटी में स्थापित की जाने वाली ट्रांजिट कालोनियों में सभी धर्मों के लोग मिलजुल कर रहेंगे। ‘ उन्होंने घोषणा की कि ऐसी कालोनियों में पचास प्रतिशत जगह प्रवासी पंडितों को प्रदान किया जाएगा जबकि शेष पचास प्रतिशत अन्य समुदायों सहित मुसलमानों और सिखों को प्रदान किया जायेगा.

CM ने कहा कि ज्यों ही पंडित अपने आप को सुरक्षित महसूस करेंगे तो वे अपने घरों या घाटी में कहीं स्थानांतरित हो जाएंगे। उन्होंने कहा, ‘मुझे खुशी है कि हर कोई सहित अलगाववादी पंडितों की कश्मीर वापसी की कामना कर रहे हैं’. मोहतरमा मुफ्ती ने कहा ‘ हम पंडितों को नहीं कह सकते हैं कि वह घाटी वापस आकर सीधे अपने घरों और गांवों में जाकर वहां आवास विकल्प करे । क्योंकि हमारे अपने कार्यकर्ता (घाटी की मुख्यधारा राजनीतिक दलों के कार्यकर्ता) श्रीनगर में सुरक्षित आवासों में रह रहे हैं.

उन्होंने  ने कहा कि इस समय घाटी में पंडित सरकारी कर्मचारियों की एक अच्छी संख्या ट्रांजिट शिविरों में रह रहे हैं और अपने पैतृक गांवों का दौरा करते हैं, वादी कश्मीर में सेंक कालोनियों की स्थापना पर हो रही सभी अटकलों को खत्म करते हुए महबूबा ने कहा कि ऐसा कोई योजना राज्य सरकार के विचाराधीन नहीं है। उन्होंने कहा कि हमने स्पष्ट कर दिया है कि ऐसी कोई योजना नहीं है।

वास्तविकता तो यह है कि हमारे पास यहाँ कश्मीर घाटी में ऐसी किसी कॉलोनी की स्थापना के लिए कोई भूमि नहीं है। हालांकि उन्होंने कहा कि अगर घाटी में ऐसी किसी कॉलोनी की स्थापना में लाया गया तो वह केवल राज्य से संबंधित सैनिकों के लिए होगी। उन्होंने कहा कि राज्य में सेनिक बोर्ड की स्थापना 1965 में हुई और बाद में देर शेख मोहम्मद अब्दुल्ला ने भी बतौर मुख्यमंत्री बोर्ड बैठकों में भाग लिया।

TOPPOPULARRECENT