Saturday , September 23 2017
Home / Education / कश्मीरी युवा शिक्षा प्राप्ति के लिए दूसरे राज्यों को स्थानांतरित

कश्मीरी युवा शिक्षा प्राप्ति के लिए दूसरे राज्यों को स्थानांतरित

कोटा (राजस्थान): कश्मीर घाटी से संबंध रखने वाले युवा की संख्या इन दिनों अन्य राज्यों में सीखने की इच्छुक है। कश्मीर में अक्सर हड़ताल ‘हिंसा और तनाव की स्थिति की वजह से शिक्षा प्राप्त गतिरोध का शिकार हो रहा है। घाटी तनावपूर्ण परिस्थितियों के कारण लगभग 1000 छात्रों वर्तमान में अपने भविष्य के लिए चिंतित हैं और उन्होंने मेडिकल ‘इंग्लैंड में सफलता का सपना पूरा करते हुए कोटा राजस्थान में गठन किया है।

कोटा स्थान शैक्षिक कोचिंग का केंद्र माना जाता है। यहाँ आने का उद्देश्य ये है कि कश्मीरी युवा लड़के और लड़किया अपने शैक्षिक भविष्य के सपने को पूरा करना चाहते हैं। यहाँ प्रतिस्पर्धी परीक्षाओं में भाग लेकर कश्मीरी छात्रों की संख्या संतोषजनक तरीके से शिक्षा प्राप्त कर रही है। इस संस्था में शांत शैक्षिक वातावरण पाया जाता है .कोटा कोचिंग का केंद्र कहा जाता है यहां कश्मीर से आने वाले छात्रों की संख्या अधिक है जो डॉक्टर या इंजीनियर बनने का सपना लेकर आए हैं उन्हें घाटी के तुलनात्मक यहाँ अच्छी कोचिंग मिल रही है।

यहाँ क्लासेस नियमित शैली में होती हैं लेकिन घाटी में हर दिन कुछ न कुछ गड़बड़ है। स्कूल जाने के लिए जैसे ही घर से निकल कर सड़क पर आते हैं तो हम पयाम मिलता है कि स्थिति तनावपूर्ण है। यहां अध्ययन करने वाले एक छात्र मुश्ताक ने बताया कि घाटी की स्थिति को देखकर उसने यहां दाखिला लिया है।

जब वह सातवीं कक्षा में था उसे स्कूल में भूजल सुरंग बिछा दी गई थी और पूरे भवन का तख़लिया कर दिया गया था। सोपोर से संबंध रखने वाली मधुर फातिमा ने बताया कि उसे यहाँ दैनिक कक्षाओं में भाग लेने करके अध्ययन करने का मौका मिल रहा है। यहाँ हम को मालूम हुआ कि कक्षा नियमित दैनिक आधार पर चलती हैं और शिक्षा में कोई बाधा नहीं आती। जम्मू-कश्मीर से संबंधित नेट के उम्मीदवार अदीब कौर ने अपने स्कूल में बड़े विस्फोट को याद करते हुए कहा कि जब वह तीसरी कक्षा में थीं तो स्कूल को विस्फोट से उड़ाने की कोशिश की गई जिसके बाद स्कूल को कई दिन तक बंद रखा गया।

TOPPOPULARRECENT