Saturday , October 21 2017
Home / Kashmir / कश्मीर कभी भी भारत का अभिन्न अंग नहीं था: इंजीनयर अब्दुल रशीद

कश्मीर कभी भी भारत का अभिन्न अंग नहीं था: इंजीनयर अब्दुल रशीद

श्रीनगर: सार्वजनिक एकता पार्टी (ए आई पी) के अध्यक्ष और विधायक इंजीनियर शेख अब्दुल रशीद ने गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने श्रीनगर में प्रेस सम्मेलन के दौरान उनके इस बयान कि जम्मू कश्मीर भारत का हिस्सा था, है और रहेगा ‘हकीकत से कोसों दूर बताते हुए कहा है कि जम्मू कश्मीर कभी भी भारत का हिस्सा नहीं था और बकौल इंजीनियर रशीद अगर श्री राजनाथ सिंह या कोई और जागीरदारों की तरह 1947 से यहां कब्जा जमाए हुए हैं तो उसकी एकमात्र कारण सैन्य शक्ति के बल पर कश्मीरियों को दबाना है।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

अपने एक बयान में इंजीनियर रशीद ने कहा ‘इतिहास की किताबें खोले बिना भी कोई यह समझ सकता है कि जब भारत अंग्रेजों का गुलाम था जम्मू कश्मीर तब भी दुनिया के नक्शे में स्वतंत्र देश के रूप में स्थापित किया गया था। लेकिन भारत को स्वतंत्रता क्या मिली कि उसने मक्कारी और अनैतिक रणनीति से जम्मू कश्मीर पर कब्जा जमाया और तब से लेकर आज तक किसी न किसी तरीके से कश्मीरियों की भारत के कब्जे के खिलाफ संघर्ष जारी है।
हद तो यह है कि कश्मीर को अपना अभिन्न अंग बनाने के सपने देखने वाले भारतीय नेता आजादी मिलने के साथ अपने देश को जोड़ती न रख सके और भारत के तीन हिस्से हो गए लेकिन कश्मीर को हथियाने के लिए भारतीयों ने उत्पीड़न के सभी रिकॉर्ड तोड दिए। ‘ इंजीनियर रशीद ने राजनाथ सिंह से कहा कि यदि भारत कश्मीर को अपना अभिन्न अंग मानने की जिद पर कायम है तो सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल भेजने, वार्ता के लिए आमंत्रित करने और लोगों के आगे भीख मांगने की क्या जरूरत है।
इससे साबित होता है कि भारत केवल समय बिताने से काम लेकर कश्मीरियों को थका देना चाहता है। इंजीनियर रशीद ने क्षेत्र चिनाब के लोगों को इस बात के लिए बधाई दी कि उन्होंने सांप्रदायिक शक्तियों से जम्मू के लिए अलग राज्य की मांग को खारिज किया और इस बात का खुले तौर पर घोषणा की कि जम्मू केवल अढ़ाई जिलों का नाम नहीं बल्कि चिनाब से लेकर पैर पंचाल और गोल गुलाब गढ़ से लेकर बनी बसोली तक में रहने वाले हजारों गांवों और कस्बों के नाम है।
इंजीनियर रशीद ने ग्रेटर चिनाब मंच के दोषियों को आश्वासन दिया कि पूरे कश्मीरी जनता उनके साथ खड़ी है और किसी भी मामले में राज्य को विभाजित करने की साजिश का डटकर मुकाबला किया जाएगा क्योंकि इन साजिशों का एकमात्र उद्देश्य जम्मू कश्मीर विवाद की स्थिति को कमजोर करना है।

TOPPOPULARRECENT