Saturday , September 23 2017
Home / Kashmir / कश्मीर घाटी में शांति बहाली के लिए केंद्र की हर संभव प्रयास जारी

कश्मीर घाटी में शांति बहाली के लिए केंद्र की हर संभव प्रयास जारी

नई दिल्ली: केंद्र सरकार कश्मीर घाटी में शांति बहाल करने के लिए हर संभव कदम उठा रही है जहां हिजबुल मुजाहिदीन के कार्यकर्ता बुरहान वाणी की मौत पर बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन का सिलसिला चल रहा है। केंद्रीय मंत्री हंसराज गंगाराम आहीर ने यह बात बताई। मिनिस्टर ऑफ स्टेट आंतरिक स्थिति से पद की जिम्मेदारी संभालने के बाद आहीर ने संवाददाताओं से बातचीत करते हुए कहा कि केंद्र सरकार चाहती है कि जितनी जल्दी हो सके जम्मू-कश्मीर में शांति बहाल हो और इसके लिए सरकार की ओर से हर संभव उपाय भी किए जा रहे हैं।

गृह मंत्री राजनाथ सिंह घाटी की स्थिति पर व्यक्तिगत रूप से नजर रखे हुए हैं और उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिया है कि वे अर्धसैनिक बलों की ओर से राज्य सरकार को हर संभव मदद की आपूर्ति सुनिश्चित करें ताकि घाटी में शांति और सामान्य स्थिति बहाल किया जा सके।

घाटी में पिछले दिनों से जारी संघर्ष में कई लोग मारे गए हैं और सेक्यूरिटी बलों के साथ उनकी झड़प हो रही हैं। आहीर ने कहा कि राजनाथ सिंह घाटी की स्थिति पर विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं से बात करने की योजना रखते हैं जहां कम से कम 23 लोग अब तक मारे जा चुके हैं। उन्होंने बताया कि राजनाथ सिंह इस मुद्दे पर चिंतित हैं और वह अब तक कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला से भी बातचीत कर चुके हैं।

आहीर ने हालांकि इस सवाल का कोई स्पष्ट जवाब देने से परहेज किया कि क्या कश्मीर घाटी में जो स्थिति है उसे ठीक तरह से निपटा जा रहा है या नहीं। आहीर चार बार के सांसद संभालने से पहले वह मसनटर ऑफ ढेर कमीकल्स और फरटीलायकृस थे। इस दौरान पूर्व मुख्यमंत्री जम्मू-कश्मीर उमर अब्दुल्ला ने आज कहा कि उन्होंने केंद्र सरकार से कहा है कि घाटी में हिंसा तब तक नहीं रुकेगा जब तक सेक्यूरिटी बलों प्रदर्शनकारियों के नरसंहार को रोकने अत्यंत धैर्य का प्रदर्शन नहीं करेंगी।

उन्होंने अपने ट्विटर पर कहा कि गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने आज सुबह बात की है। मैंने उनसे कहा कि सेक्यूरिटी बलों को बेहद धैर्य से काम लेना चाहिए ताकि प्रदर्शनकारियों के हताहत को टाला जा सके। जब तक सेक्यूरिटी बलों ऐसा नहीं करेंगी हिंसा का सिलसिला रुकने वाला नहीं है। उन्होंने कहा कि घाटी को वर्तमान स्थिति से उसी समय निकाला जा सकता है जब वहाँ घातक बल प्रयोग रोका जाए। उन्होंने घाटी में स्थिति को सामान्य करने हरसंभव सहयोग का आश्वासन दिया है।

TOPPOPULARRECENT