Saturday , August 19 2017
Home / Delhi / Mumbai / कश्मीर भारत का अभिन्न अंग ‘पाकिस्तान से वार्ता खारिज’: राजनाथ सिंह

कश्मीर भारत का अभिन्न अंग ‘पाकिस्तान से वार्ता खारिज’: राजनाथ सिंह

श्रीनगर: केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने स्पष्ट शब्दों में स्पष्ट किया कि जम्मू-कश्मीर भारत का अभिन्न हिस्सा था और हमेशा रहेगा। कश्मीरी अलगाववादी नेताओं की ओर से सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल के चार सदस्यों से मुलाकात करने से इनकार पर श्री राजनाथ ने उन्हें गंभीर आलोचना करते हुए कहा कि उन्होंने सदस्यों को वापस भेजकर ‘कश्मीरियत और मानवता’ का प्रदर्शन नहीं किया। गृह मंत्री ने कहा कि कश्मीर की मौजूदा तनावपूर्ण स्थिति को लेकर न केवल संसद बल्कि पूरा देश बेहद गंभीर है। उन्होंने कहा कि कश्मीर पर बातचीत के लिए न केवल केंद्र सरकार के दरवाजे बल्कि छिद्र भी खुले हैं। हालांकि गृह मंत्री ने कश्मीर में शांति और व्यवस्था बहाल करने के लिए पाकिस्तान के साथ वार्ता को खारिज करते हुए कहा कि यह भारत का आंतरिक मामला है और इसमें किसी गैर को शामिल करने की कोई जरूरत नहीं है।

उन्होंने कश्मीर में शांति और सामान्य स्थिति की बहाली के लिए सभी लोगों का सहयोग मांगते हुए कहा कि मुफ्ती के नेतृत्व वाली राज्य सरकार की स्थिति में सुधार लाने के प्रयासों में लगे हुए है। श्री राजनाथ सिंह ने इन बातों को व्यक्त सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल जम्मू रवाना होने से पहले यहां एक स्थानीय होटल में आयोजित एक भीड़ संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए किया। गृह मंत्री के नेतृत्व में 26 सदस्यीय सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल रविवार को यहां पहुंचे। इस प्रतिनिधिमंडल ने रविवार को दिन भर और सोमवार को सुबह ग्यारह बजे तक यहां नगर विश्व प्रसिद्ध डल झील के किनारों पर स्थित शेर कश्मीर इंटरनेशनल कन्वेंशन कांपलकस (एस के आई सी सी) में घाटी में पिछले 57 दिनों से जारी तनाव को खत्म करने के लिए विभिन्न वर्ग संयुक्त जीवन से जुड़े लोग विशेषकर विभिन्न संगठनों के प्रतिनिधियों से मुलाकात की।

राजनाथ ने कहा कि सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल जिसमें 20 से अधिक राजनीतिक दलों के 26 प्रतिनिधियों शामिल हैं, ने यहां (श्रीनगर में) 300 लोगों में शामिल 30 से अधिक प्रतिनिधियों से मुलाकात की। उन्होंने कहा कि सभी लोगों और प्रतिनिधियों के साथ हुई बातचीत बहुत अच्छी रही। उन्होंने कहा कि इसके अलावा राज्य राज्यपाल एन एन वोहरा, राज्य मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती और सरकारी अधिकारियों से भी मुलाकात की गई। घाटी में हड़ताल, कर्फ्यू और कड़े उपायों का सिलसिला हिजबुल मुजाहिदीन कमांडर बुरहान वाणी 8 जुलाई को दक्षिण कश्मीर के कुकर नाग सेना के साथ झड़प में मारे जाने के बाद से जारी है। इस दौरान विरोध प्रदर्शनों के दौरान सेना के हाथों 73 आम नागरिक मारे गए जबकि 9 हजार घायल हुए। विरोध प्रदर्शन के दौरान दो पुलिसकर्मियों की मौत जबकि राज्य पुलिस और केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के 4500 अन्य घायल हो गए।

उन्होंने कश्मीर में शांति और सामान्य स्थिति की बहाली के लिए सभी लोगों का सहयोग मांगते हुए कहा सुश्री मुफ्ती के नेतृत्व वाली राज्य सरकार की स्थिति में सुधार लाने के प्रयासों में लगे हुए है। उन्होंने कहा कि देश के विभिन्न कोनों में अध्ययन कश्मीरी छात्रों की मदद के लिए नई दिल्ली में एक नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है। राजनाथ सिंह ने इन बातों को व्यक्त सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल जम्मू रवाना होने से पहले यहां एक स्थानीय होटल में आयोजित एक भीड़ संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए किया|

वज़ीर प्रवेश के नेतृत्व में 26 सदस्यीय सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल रविवार को यहां पहुंचा था। इस प्रतिनिधिमंडल ने रविवार को दिन भर और सोमवार को सुबह ग्यारह बजे तक यहां नगर विश्व प्रसिद्ध डल झील के किनारों पर स्थित शेर कश्मीर इंटरनेशनल कन्वेंशन कॉम्प्लेक्स (एस के आई सी सी) में घाटी में पिछले 57 दिनों से जारी तनाव को खत्म करने के लिए विभिन्न वर्ग संयुक्त जीवन से जुड़े लोग विशेषकर विभिन्न संगठनों के प्रतिनिधियों से मुलाकात की.मसटर राजनाथ ने कहा कि सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल जिसमें 20 से अधिक राजनीतिक दलों के 26 प्रतिनिधियों शामिल हैं, ने यहां (श्रीनगर में) 300 लोग शामिल 30 से अधिक प्रतिनिधियों से मुलाकात की। उन्होंने कहा कि सभी लोगों और प्रतिनिधियों के साथ हुई बातचीत बहुत अच्छी रही। उन्होंने कहा कि इसके अलावा राज्य राज्यपाल एन एन वोहरा, राज्य मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती और सरकारी अधिकारियों से भी मुलाकात की गई.कश्मीरी अलगाववादी नेताओं से सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल के चार सदस्यों से मुलाकात करने से इनकार करने परमसटर आलोचना हुए कहा कि उन्होंने सदस्यों को वापस भेजकर ‘कश्मीरियत और मानवता’ का प्रदर्शन नहीं किया।

दिल्ली में भविष्य रणनीति के लिए बैठक
जम्मू से मिली सूचना के मुताबिक केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि प्रतिनिधिमंडल जल्द ही लद्दाख का दौरा करेंगे। इसके बाद दिल्ली में एक बैठक आयोजित की जाएगी जिसमें आगामी रणनीति तय की जाएगी। वह एक छोटी सी प्रेस सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि प्रतिनिधिमंडल ने दौरा कश्मीर में विभिन्न व्यक्तियों और समूह से अच्छा चर्चा की।

विभिन्न मुद्दों पर उनके विचारों को जानते हो की। प्रतिनिधिमंडल के कई सदस्यों को जम्मू-कश्मीर के बारे में पर्याप्त ज्ञान प्राप्त नहीं की। इस यात्रा से उन्हें राज्य की वास्तविक स्थिति को समझने में मदद मिली। उन्होंने आशा व्यक्त की कि जब भी संसद में जम्मू-कश्मीर के बारे में विचार विमर्श होंगे हमें प्रतिनिधिमंडल के सदस्य सांसदों से भरपूर मदद मिलेगी। सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल में 20 राजनीतिक दलों के नेता शामिल थे।

TOPPOPULARRECENT