Sunday , October 22 2017
Home / Crime / कश्मीर में बर्क़ी (बिजली)कटौती के ख़िलाफ़ एहितजाजियों पर फायरिंग, एक हलाक

कश्मीर में बर्क़ी (बिजली)कटौती के ख़िलाफ़ एहितजाजियों पर फायरिंग, एक हलाक

श्रीनगर, ०३ जनवरी: (पी टी आई) शुमाली कश्मीर के ज़िला बारहमुल्ला में बोनयारनामी इलाक़ा में एक हुजूम पर क़ाबू पाने केलिए सी आई ऐस एफ़ की जानिब से हुई फायरिंग में एक शख़्स हलाक और दीगर दो ज़ख़मी हो गए जिस की पुलिस ने भी तौसीक़ की ।

श्रीनगर, ०३ जनवरी: (पी टी आई) शुमाली कश्मीर के ज़िला बारहमुल्ला में बोनयारनामी इलाक़ा में एक हुजूम पर क़ाबू पाने केलिए सी आई ऐस एफ़ की जानिब से हुई फायरिंग में एक शख़्स हलाक और दीगर दो ज़ख़मी हो गए जिस की पुलिस ने भी तौसीक़ की ।

दूसरी तरफ़ सरकारी ज़राए ने बताया कि 500 अफ़राद पर मुश्तमिल एक हुजूम ने इन एच पी सी की निगरानी वाले यूरी पावर परोजेक्ट के क़रीब ज़बरदस्त एहतिजाज मुनज़्ज़म किया जो यहां से 20 किलो मीटर के फ़ासले पर है। याद रहे कि जम्मू-ओ-कश्मीर में गुज़श्ता कुछ अर्सा से बर्क़ी बोहरान पैदा होगया है और हर इलाक़ा में बर्क़ी कटौती मुतआरिफ़ की गई है ।

मुश्तइल हुजूम भी बर्क़ी सरबराही में कटौती के ख़िलाफ़ एहतिजाज कर रहा था । एहितजाजी जब पावर प्रोजेक्ट के बाब अलद अखिला के क़रीब पहुंचे तो उस वक़्त वहां निगरानी पर मौजूद सी आई ऐस एफ़ के जवानों ने हुजूम पर फायरिंग कर दी जिस में 25 साला अलताफ़ अहमद सूद मौक़ा-ए-वारदात पर ही हलाक होगया जबकि 70 साला मुअम्मर शख़्स अबदुल् माजिद ख़ान और 25 साला परवेज़ अहमद ख़ान ज़ख़मी होगए ।

फायरिंग और हलाकत के बाद इलाक़ा में कशीदगी फैल गई है क्योंकि अवाम पावर प्रोजेक्ट के पास पहुंच कर
ख़ाती सी आई एस एफ़ जवान को गिरफ़्तार करने का मुतालिबा कर रहे थे। ज़राए ने मज़ीद बताया कि हालात कशीदा होने की ख़बर मिलते ही सीनीयर पुलिस ओहदेदारान और सियोल इंतिज़ामीया ओहदेदारान भी वहां पहुंच चुके हैं। रियासत में बर्क़ी कटौती का ऐलान पावर डेवलपमेंट डिपार्टमैंट ने गुज़श्ता माह किया था जिस ने वादी को अमलन तारीकी में डुबो दिया है ।

रियासत की मौसिम-ए-गर्मा की राजधानी श्रीनगर और अतराफ़-ओ-अकनाफ़ के दीगर इलाक़ों में भी अवाम बतौर-ए-एहतजाज सड़कों पर निकल आए हैं । अवाम को ये शिकायत है कि महिकमा बर्क़ी ने कटौती का जो निज़ाम अलावक़ात मुतआरिफ़ किया था इस पर अमल आवरी नहीं होरही है जबकि इस के मुताबिक़ वो इलाक़ा जहां बर्क़ी मीटर नहीं हैं, वहां फ़ी हफ़्ता 72 ता 96 घंटे बर्क़ी कटौती होगी ।

इन इलाक़ों में जहां डीजीटल मीटर्स नसब किए गए हैं। सारिफ़ीन को 24 घंटे फ़ी हफ़्ता बर्क़ी कटौती का सामना करना पड़ेगा ।

TOPPOPULARRECENT