Thursday , October 19 2017
Home / Kashmir / कश्मीर में सेना मुख्यालय पर उग्रवादियों का हमला, 17 जवान हलाक़‌

कश्मीर में सेना मुख्यालय पर उग्रवादियों का हमला, 17 जवान हलाक़‌

श्रीनगर: सेना पर वर्तमान समय के दौरान किए गए अब तक के सबसे खराब हमले में आज 17 जवान मारे गए और 19 अन्य घायल हो गए। उत्तरी कश्मीर के उरी टाउन में आज सुबह की अव्वलीन साअतों में सशस्त्र उग्रवादी सेना बटालियन मुख्यालय में घुस पड़े। इस हमले में शामिल 4 उग्रवादियों को सेना ने मार डाला। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि उग्रवादियों के शिविर पर हमले के साथ ही विस्फोट और गोलिया चलना शुरू हो गईं।

इस शिविर सेना के ब्रिगेड हेडक्वटर‌ कुछ मीटर्स की दूरी पर है। श्रीनगर से लगभग 102 किलोमीटर दूर उरी टाउन में 4 बजे सुबह में यह हमला किया गया। डोगरा रेजीमेंट के जवान टेंट में थे कि विस्फोट के कारण उनके डेरों को आग लग गई। आग ने करीब बियारकस को भी अपनी चपेट में ले लिया। समझा जाता है कि ये हमले हाल ही में हस्तक्षेप किया द्वारा घुस आए आतंकवादियों की कारस्तानी है। वह सलाम बसे नाला इलाके से यहां घुस आए हैं।

सेना के उत्तरी कमान ने बताया कि 17 जवान इस आतंकवादी हमले में मारे गए हैं। 19 अन्य घायल हुए और 4 उग्रवादियों को मार डाला गया। रक्षा सूत्रों ने कहा कि पिछले कुछ वर्षों के दौरान यह सेना में अब तक का सबसे खराब हमला है। जनवरी में 7 सैनिक जवान उस समय मारे गए जब पठानकोट हवाई अड्डे पर हमला किया गया। 6 उग्रवादियों को मार डाला गया था। यह हमला लगभग 2 साल पहले इसी क्षेत्र में मोहरा में किए गए हमले से मेल खाता है।

5 दिसंबर 2014 को हुए इस हमले में 10 सुरक्षाकर्मियों सदस्यों स्टाफ मारे गए थे। सेना ने आज एक बयान जारी करते हुए हमला विवरण पता है और कहा कि सशस्त्र उग्रवादियों के एक समूह ने आरी के प्रशासनिक इकाई के पीछे हिस्से को निशाना बनाया। जवाबी कार्रवाई में 4 उग्रवादियों का सफाया कर दिया गया। तलाशी अभियान अभी भी जारी है। प्रशासनिक इकाई ने सैन्य सदस्यों काफी अधिक संख्या में एकत्र रहती है जो अपनी ड्यूटी समाप्त होने या ड्यूटी की अवधि पूरी होने पर यहां टेंट / अस्थायी शयल्टरस में स्थापना करते हैं।

हमले में उनके डेरे को आग लग गई जिसके कारण अधिक जानी नुकसान हुए। सेना ने कहा कि हम इन 17 सैनिकों की कुर्बानी को सलाम करते हैं जो इस कार्रवाई में शहीद हुए। सेना के 19 डीवीज‌नल हेडक्वाटरस‌ स्थित बारामूला से हेलीकॉप्टर रखा गया और घायलों को तुरंत यहां से ले जाया गया। रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर और सेना प्रमुख जनरल दलबीर सिंह सोहाग उरी में आतंकी हमले के मद्देनजर कश्मीर रवाना हो चुके हैं।

गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने भी आतंकवादी हमले के कारण उत्पन्न स्थिति का जायजा लेने के लिए आपात बैठक बुलाई है। गृह मंत्री ने इस हमले और जम्मू-कश्मीर में अशांति के कारण रूस और अमेरिका की प्रस्तावित यात्रा स्थगित कर दिया। राजनाथ सिंह ने राज्यपाल जम्मू-कश्मीर और मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती से उरी में आतंकवादी हमले के कारण उत्पन्न स्थिति पर बात की। उन्होंने एक बयान में कहा कि जम्मू-कश्मीर की स्थिति और आरी में आतंकवादी हमले को मद्देनजर रखते हुए उन्होंने रूस और अमेरिका की यात्रा स्थगित करने का फैसला किया है।

गृह मंत्री ने कहा कि उन्होंने राज्यपाल एनएन वोहरा और मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती से बात की और सैन्य ब्रिगेड मुख्यालय पर हमले से उत्पन्न स्थिति के बारे में चर्चा की। इन दोनों ने जम्मू-कश्मीर की समग्र स्थिति से परिचित कराया। उन्होंने गृह सचिव राजीव महर्षि और गृह मंत्रालय के अन्य अधिकारियों को भी जम्मू-कश्मीर की स्थिति पर कड़ी नजर रखने का निर्देश दिया है। गृह मंत्री ने आपात बैठक बुलाई है जिसमें राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत ड्यूविल और केंद्रीय गृह सचिव, प्रमुख सैन्य, पैरामिलट्री और गृह मंत्रालय के अधिकारी शिरकत कर रहे हैं।

TOPPOPULARRECENT