Friday , October 20 2017
Home / Kashmir / कश्मीर में हड़ताल का 128 वां दिन रविवार की वजह से वाहनों की अधिक आवाजाही ‘सर्जिकल हमला के बाद 286 उल्लंघन

कश्मीर में हड़ताल का 128 वां दिन रविवार की वजह से वाहनों की अधिक आवाजाही ‘सर्जिकल हमला के बाद 286 उल्लंघन

SRINAGAR, JULY 17 (UNI):- Security personnel keeping vigil on the curfew bound Khanyar in down town Srinagar on Sunday. UNI PHOTO-3U

श्रीनगर: कश्मीर घाटी में अलगाववादी नेतृत्व की अपील पर रविवार को लगातार 128 वें दिन भी हड़ताल रही। हालांकि रविवार होने के मद्देनजर सड़कों पर लोगों को, निजी वाहनों की एक असाधारण संख्या दिखी। श्रीनगर के सिविल लाइन्स में हर रविवार को लगने वाले प्रसिद्ध संडे बाजार में सैकड़ों की संख्या में उद्यमियों ने अपने स्टाल लगाए थे श्रीनगर के सिविल लाइन्स के विभिन्न क्षेत्रों सहित मौलाना मुक्त रोड़, रीज़ीडंसी रोड़, तिसमह और अन्य क्षेत्र के लोगों में सुरक्षा बलों और राज्य पुलिस कर्मियों की भारी भीड़ तैनात रखी गई थी। ऐसी ही स्थिति बतह मालो, हरि सिंह हाई स्ट्रीट, डलगेट और गोनी खन में भी नजर आई बालाई शहर की स्थिति में भी कोई बड़ा बदलाव नजर नहीं आई जहां व्यावसायिक गतिविधियां रुकी रहीं जबकि सड़कों पर सार्वजनिक परिवहन की आवाजाही निलंबित रही।

ऊपरी शहर में भी शांति और व्यवस्था की स्थिति बनाए रखने के लिए सुरक्षा बलों की अतिरिक्त टुकड़ियाँ तैनात रखी गई है इस बीच घाटी में सनगबाज़ों और अलगाववादी कार्यकर्ताओं के खिलाफ राज्य पुलिस द्वारा शुरू किया बड़े पैमाने के खिलाफ कार्रवाई के बाद हिंसक विरोध प्रदर्शनों का सिलसिला अब लगभग थम चुका है। घाटी में पिछले चार महीनों में कम से कम दस हजार लोगों को सनगबाआभ, भारत विरोधी प्रदर्शन आयोजित करने और हिंसा को हवा देने के आरोप में हिरासत में लिया जा चुका है जबकि सैकड़ों लोगों पर विवादास्पद कानून सार्वजनिक सुरक्षा अधिनियम (पीएसए) लागू किया जा चुका है।

जिन लोगों पर पीएसए लागू हुआ है, उनमें से अधिकांश को घाटी से बाहर की जेलों में स्थानांतरित किया गया है वादी में मोबाइल इंटरनेट सेवाओं को बदस्तूर निलंबित रखा गया है। इसके अलावा श्रीनगर से प्रकाशित होने वाले अंग्रेज़ी दैनिक ‘कश्मीर रीडर’ के प्रकाशन पर प्रतिबंध भी जारी रखी गई है जम्मू से मिली सूचना के मुताबिक सर्जिकल हमले के बाद 286 बार संघर्ष विराम का उल्लंघन पाकिस्तान की ओर से क्षेत्र पर कब्जा के पार गईं। 120 बार मोर्टार बम दागे गए और स्वचालित हथियारों से जबरदस्त फायरिंग की गई। जनता बड़ी संख्या में नकल स्थान के लिए मजबूर हो गए। श्रीनगर से मिली सूचना के मुताबिक वार्षिक बोर्ड परीक्षा कार्यक्रम के अनुसार कल से कश्मीर घाटी में शुरू हो जाएंगे। स्पेशल डीजीपी ने जनता से प्रधानमंत्री सबसे धैर्य का प्रदर्शन करने की अपील की है।

TOPPOPULARRECENT