Monday , October 23 2017
Home / World / कसीर मंज़िला इमारत धमाका ख़ेज़ मवाद(विस्फोट) से चंद सेकंड्स में ज़मीन बोस

कसीर मंज़िला इमारत धमाका ख़ेज़ मवाद(विस्फोट) से चंद सेकंड्स में ज़मीन बोस

जब कोई इमारत पुरानी हो जाए तो उसे गिरा देना ही ठीक होता है वर्ना वक़्त गिरने के साथ इस इमारत में रिहायश जान लेवा भी साबित होसकी है।ऐसा ही कुछ गुज़िशता दिनों फ़्रांस के दार-उल-हकूमत पैरिस के मज़ाफ़ाती इलाक़े में देखने को मिला जहां 1960से क़ायम एक अपार्टमंट बिल्डिंग को मख़दूश होजाने के बाइस धमाका ख़ेज़ मवाद(विस्फोट) की मदद से ज़मीन बोस करदिया गया।5से 20 मंज़िलों पर मुश्तमिल इस बिल्डिंग को गिराने से क़बल वहां मुक़ीम लोगों से ख़ाली करवा लिया गया था जिस के बाद उसके मुख़्तलिफ़ हिस्सों में धमाका ख़ेज़ मवाद(विस्फोट) नसब करके सिर्फ़ चंद सैकिंडों में ढह दिया गया।

TOPPOPULARRECENT