Tuesday , August 22 2017
Home / Delhi / Mumbai / कांग्रेस और बीजेपी को करोड़ों रुपये के दान की वसूली

कांग्रेस और बीजेपी को करोड़ों रुपये के दान की वसूली

नई दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस के काले धन से निपटने के लिए सही विधि संसद में संघर्षरत है अब उन्हें पहले घर सुधारने की जरूरत है क्योंकि पिछले 10 साल के दौरान राजनीतिक दुनिया में करोड़ रुपये की गैर परिकलित धन (दान) आए है उक्त दोनों दलों के खातों में सबसे एकत्र किए गए हैं। एसोसिएशन ऑफ डेमोक्रेटिक रीफार्मरस पिछले 10 साल के दौरान आयकर रेटरनस डाटा के विश्लेषण में कहा है कि वर्ष 2005 और 2015 के दौरान भाजपा और कांग्रेस ने गैर ज्ञात स्रोतों से 5,450 करोड़ रुपये हासिल किए हैं।

कांग्रेस 6 राष्ट्रीय दलों की सूची में 3,323 करोड़ 83 प्रतिशत आय के साथ सबसे आगे है जबकि भाजपा इस मामले में 2,125 करोड़ या 65 प्रतिशत के साथ सबसे अंत में है। कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया माकसट जिसके नेता सीताराम येचुरी ने संसद में काले धन और नोटों को रद्द करने के मुद्दे पर भावुक भाषण दिया है।

अज्ञात स्रोतों से 471 करोड़ रुपये हासिल किए हैं जबकि मायावती की बहुजन समाज पार्टी और शरद पवार की राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी ने क्रमश 448 करोड़ और 243 करोड़ प्राप्त किए हैं। हालांकि आयकर अधिनियम के तहत यह अनिवार्य है कि 20 हजार रुपये से अधिक का भुगतान बैंकों द्वारा किया और दान का नियमित गणना प्रस्तुत किया लेकिन राजनीतिक दल इस कानून की पकड़ से बचने के लिए दान की राशि 20 हजार रुपये से कम बताते हैं जबकि पार्टी के खातों में गैर परिकलित रक़म‌ जमा होने से काले धन का टिंट पाया जाता है।

इसके बावजूद बसपा ने यह दावा किया है कि पिछले 11 साल के दौरान पार्टी ने 20 हजार से अधिक कोई दान नहीं मिला। श्री त्रिलोचन शास्त्री, प्रोफेसर इंडियन स्टेट ऑफ मैनेजमेंट बेंगलूर और संस्थापक सदस्य ए डी ओ ने बताया कि राजनीतिक दल कानून सही जानकारी का सामना करने के लिए तैयार नहीं है और सेंट्रल प्राधिकरण आयोग भी कार्रवाई में असमर्थ है।

TOPPOPULARRECENT